हाईकोर्ट में आज भी पेश नहीं होंगे संत रामपाल, कोर्ट ने हरियाणा सरकार को लगाई फटकार

By: | Last Updated: Monday, 17 November 2014 2:28 AM

नई दिल्ली: हिसार में संत रामपाल को गिरफ्तार करने की डेडलाइन आज खत्म हो रही है. हाईकोर्ट ने हरियाणा पुलिस को आदेश दिया है कि वे संत रामपाल को गिरफ्तार करे. सतलोक आश्रम का बयान आया है कि संत रामपाल की तबीयत ठीक नहीं है इसलिए वो कोर्ट में पेश नहीं होंगे. आश्रम ने मांग की है कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये संत रामपला की पेशी हो.

 

रामपाल के आश्रम के चारों तरफ सुरक्षाबल तैनात है. यहां इलाके में धारा 144 लगी है. आश्रम के बाहर अनुयायी डटे हैं. रामपाल को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली है. सुप्रीम कोर्ट ने जल्द सुनवाई करने से इनकार कर दिया है.

 

रविवार देर रात रामपाल आश्रम की तरफ से नरमी के संकेत मिले जब उनके करीबी सहयोगी ने कहा कि वह उच्च न्यायालय के निर्देशों का पालन करेंगे और यदि ‘स्वास्थ्य’ ने साथ दिया तो वह कल अदालत के समक्ष उपस्थित भी होंगे.

 

रविवार को रामपाल के आश्रम के प्रवक्ता राज कपूर ने कहा, ‘संत रामपाल जी, अतीत में जब भी जरूरत पड़ी है अदालत के समक्ष पेश हुए हैं. हम कानून का पालन करने वाले नागरिक हैं..’ 63 वर्षीय रामपाल का स्वास्थ्य ठीक नहीं होने का दावा करते हुए उन्होंने कहा कि डॉक्टर सोमवार सुबह फिर उनके स्वास्थ्य की जांच करेंगे और देखना होगा कि क्या वह चंडीगढ़ तक यात्रा कर सकते हैं. शहर यहां से 270 किलोमीटर दूर है.

जानें- क्या है संत रामपाल का पूरा मामला 

लेकिन आज सुबह यह बयान आया है कि संत रामपाल की तबियत ठीक नहीं है और वे कोर्ट में पेश नहीं होंगे.

 

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि हिसार जिले के बरवाला शहर में अतिरिक्त पुलिस बल को तैनात किया गया है ताकि रामपाल को बाहर लाया जा सके जहां उनके समर्थक मानव कवच बनाकर उनकी सुरक्षा कर रहे हैं. समझा जाता है कि रामपाल के समर्थकों के पास घातक हथियार हैं. गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए पुलिस ने बरवाला, चंडीगढ़, पंचकूला और मोहाली में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई गई है.

 

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार की इस दलील को खारिज कर दिया था कि रामपाल बीमार हैं और उनकी गिरफ्तारी से कानून..व्यवस्था एवं अन्य समस्याएं उत्पन्न होंगी और पिछले सोमवार को अवमानना मामले में उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया और पूछा कि 2006 के हत्या मामले में क्यों नहीं उनकी जमानत को खारिज कर दिया जाए.

संत रामपाल की गिरफ्तारी के लिए CRPF तैनात

 

हाईकोर्ट ने कहा कि राज्य सरकार के पास रामपाल को गिरफ्तार करने की इच्छाशक्ति नहीं है और उसके समक्ष उपस्थित करने के लिए गंभीर प्रयास नहीं किए गए. अदालत ने हरियाणा के पुलिस महानिदेशक और गृह सचिव को निर्देश दिया कि सुनिश्चित किया जाए कि रामपाल अदालत के समक्ष उपस्थित हों.

 

रामपाल पर हिसार सत्र न्यायालय में एक मामले की सुनवाई के दौरान न्यायिक प्रक्रिया में हस्तक्षेप के आरोप हैं. 15 जुलाई को उनके समर्थक हिसार में जिला अदालत परिसर के अंदर घुस गए और अदालत की कार्यवाही में बाधा डालने का प्रयास किया.

 

हाईकोर्ट ने मामले का संज्ञान लिया और रामपाल एवं राज्य सरकार को नोटिस जारी किए. उनके अदालत में उपस्थित नहीं होने पर पिछले हफ्ते अदालत ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किए और हरियाणा सरकार से कहा कि उन्हें और उनके शिष्य रामकुंवर ढाका को अदालत में पेश किया जाए.

 

न्यायालय ने हरियाणा सरकार को लगाई फटकार

 

चंडीगढ़ उच्च न्यायालय ने सोमवार को संत रामपाल के न्यायालय में पेश न होने के बाद हरियाणा पुलिस को उन्हें गिरफ्तार कर शुक्रवार को न्यायालय में पेश करने का निर्देश दिया. न्यायालय द्वारा गैर जमानती वारंट जारी किए जाने के बावजूद रामपाल सोमवार को न्यायालय में पेश नहीं हुए.

 

चंडीगढ़ उच्च न्यायालय ने सोमवार को हरियाणा सरकार और राज्य पुलिस को फटकार लगाई और रामपाल को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश करने के आदेश दिए.  रामपाल के वकील ने न्यायालय को बताया कि वह स्वास्थ्य कारणों की वजह से पेश नहीं हो सकते.

 

उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने रामपाल को न्यायालय में पेश नहीं करने के लिए हरियाणा सरकार और पुलिस को कड़ी फटकार लगाई. न्यायालय ने सरकार को बरवाला स्थित सतलोक आश्रम से पुलिस और सुरक्षा बलों को हटाने का कारण पूछा. आश्रम के प्रवक्ता ने सोमवार सुबह कहा था कि गुरुदेव अस्वस्थ हैं और चंडीगढ़ उच्च न्यायालय में उपस्थित नहीं हो सकते हैं.

 

प्रवक्ता ने कहा था, “खराब तबियत की वजह से वह कहीं बाहर नहीं जा सकते. डॉक्टरों ने 19 नवंबर तक उन्हें आराम करने के लिए कहा है. हम न्यायालय को उनका मेडिकल सर्टिफिकेट सौंपेंगे.”

 

आश्रम के बाहर रविवार को सुरक्षा बलों की तैनाती के बाद से यहां तनाव का माहौल था. संत के हजारों भक्तों और अनुयायियों ने उनके बचाव और समर्थन में आश्रम के बाहर डेरा डाल रखा है.

 

रामपाल पर हत्या की साजिश और भीड़ को उकसाने के मामले दर्ज हैं और तीन दफा उन्हें उच्च न्यायालय के समक्ष पेश होने का आदेश दिया जा चुका है.

 

उच्च न्यायालय ने पिछले सप्ताह हरियाणा पुलिस और राज्य प्रशासन को रामपाल को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश करने का आदेश दिया था. उच्च न्यायालय की पीठ ने कहा था, “रामपाल यदि किसी बंकर में भी छुपा बैठा है, तब भी उसे ढूंढकर पेश किया जाए.”

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: rampal_arrest
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017