सुनवाई से 'प्रताड़ित' रेप पीड़िता ने की आत्महत्या, जज को भी कोसा

By: | Last Updated: Monday, 1 February 2016 12:15 PM
Rape victim commits suicide in Chhattisgarh

नई दिल्ली/रायपुर : छत्तीसगढ़ के भिलाई में व्यवस्था पर चोट करते हुई एक घटना हुई है. इस घटना में न्याय व्यवस्था और पुलिस दोनों पर ही सवाल उठ रहे हैं. इसके साथ ही रेप पीड़िता के प्रति समाज का शर्मनाक नजरिया भा सामने आया है. एक दुष्कर्म पीड़िता को सिर्फ इसलिए आत्महत्या करनी पड़ी क्योंकि, अदालत में पेशी के दौरान उसे ‘प्रताड़ित’ किया जाता था.

अपने सुसाइड नोट में उसने लिखा है कि अगर वह मर जाती है तो उसे अब कोई ‘वैश्या’ नहीं कहेगा. इसके साथ ही उसने अपने आखिरी नोट में न्याय व्यवस्था पर भी सवाल उठाया है. उसने लिखा है कि हर पेशी पर उसे अदालत में बुलाया जाता था लेकिन ‘जज’ ही उस वक्त अदालत में नहीं आते थे. इसके साथ ही लोग उस पर काफी फब्तियां कसते थे.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार पुलिस को उसकी कॉपी में से सुसाइड नोट मिला है. उसने तब फांसी लगाई जब पुलिस उसके यहां दो फरवरी की पेशी का सम्मन देने गई थी. हिंदी में लिखा गया यह नोट इस बात का सबूत है कि वह मानसिक तौर पर टूट चुकी थी और हमारी व्यवस्था उसे न्याय नहीं दिला पा रही थी.

दरअसल आरोप है कि जून, 2014 में वह जब बीमार थी तो लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में इलाज के लिए गई थी. वहां के चिकित्सक ने उसे पीलिया रोग बताया. इसके बाद तीन दिनों तक उसके साथ दुष्कर्म करता रहा. इसके अलावा वहां तैनात पुलिसकर्मियों सौरभ और चंद्र प्रकाश ने भी उसकी इज्जत लूट ली. आरोपी डाक्टर का नाम गौतम पंडित है.

पुलिस अभी मामले की जांच में लगी है. पीड़िता के परिजनों ने बताया है कि उन्हें धमकी भरे खत लगातार आते थे. हालांकि, फिर भी उनकी लड़की हिम्मत से सबका सामना कर रही थी. कुछ ही दिनों पहले उसने अपनी मां से कहा था कि वह अपनी बीएसी की पढ़ाई पूरी करना चाह रही है. इस बीच यह खबर आ गई है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Rape victim commits suicide in Chhattisgarh
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017