RBI can stop printing 2000 rupees notes- SBI Report।2000 के नोटों की छपाई बंद कर सकता है रिजर्व बैंक- स्टेट बैंक रिपोर्ट

2000 के नोटों की छपाई बंद कर सकता है रिजर्व बैंक- स्टेट बैंक रिपोर्ट

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) या तो 2,000 रुपये नोट वापस ले सकता है या फिर बड़ी राशि कि मुद्राओं की छपाई बंद कर सकता है. हाल ही में स्टेट बैंक(एसबीआई) की जारी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है

By: | Updated: 22 Dec 2017 09:53 AM
RBI can stop printing 2000 rupees notes- SBI Report

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) या तो 2,000 रुपये नोट वापस ले सकता है या फिर बड़ी राशि कि मुद्राओं की छपाई बंद कर सकता है. हाल ही में स्टेट बैंक(एसबीआई) की जारी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है.


एसबीआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि हमने ये देखा है कि मार्च 2017 तक 3,501 अरब रुपये के छोटी राशि के नोट चलन में थे. 8 दिसंबर तक 13,324 अरब रुपये तक की बड़ी राशि के नोट चलन में थे.


हाल ही में लोकसभा में वित्त मंत्रालय ने कहा है कि आरबीआई ने अभी तक 500 रुपये के 16957 करोड़ नोट और 2,000 के 3654 करोड़ नए नोटों की छपाई की है. इन सभी नोटों की कुल राशि 15787 अरब रुपये हैं. इस आरबीआई ने 2,463 अरब रुपये की ज्यादा नोटों की छपाई कर दी है.


एसबीआई की मुख्य आर्थिक सलाहकार सौम्या कांती घोष ने कहा कि जो भी ज्यादा नोट आरबीआई द्वारा छापे गए हैं उन्हे मार्केट में नही उतारा जाएगा.


रिपोर्ट में कहा गया है कि तार्किक रुप से देंखें तो आमतौर पर 2000 के जरिए लेन देन करने में हमें मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. इस अब ऐसा लगता है कि आरबीई ने 2000 के नोटों को छापना बंद कर दिया है या फिर इनकी छपाई कम कर दी हैं.


मालूम हो कि पिछले साल 8 नवंबर को सरकार ने नोटबंदी का ऐलान किया था जिसके बाद से उस समय के 500 और 1000 के नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया था. इसके बाद से ही आरबीई ने 500 और 2000 के नए नोटों की छपाई शुरु की थी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: RBI can stop printing 2000 rupees notes- SBI Report
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story केजरीवाल के समर्थन में आईं ममता, कहा- राजनीतिक बदले के लिए संवैधानिक संस्था का इस्तेमाल दुर्भाग्यपूर्ण