रोहतक के इंजीनियरिंग कॉलेज ने परीक्षा से एक महीना पहले 13 कश्मीरी छात्रों को निकाला

By: | Last Updated: Friday, 17 April 2015 8:44 AM

नई दिल्ली: रोहतक के इंजीनियरिंग कॉलेज ने 13 कश्मीरी छात्रों को कॉलेज से निकाल दिया है. साल 2013 में इन कश्मीरी छात्रों ने प्रधानमंत्री विशेष छात्रवृति योजना के तहत रोहतक कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट में दाखिला लिया था. एक महीने बाद परीक्षा होने वाली है लेकिन उससे पहले इन छात्रों को कॉलेज प्रशासन ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है.

 

कॉलेज प्रशासन का कहना है कि शिक्षा मंत्रालय की तरफ से कॉलेज को इन छात्रों के लिए फंड नहीं दिया जा रहा. प्रधानमंत्री विशेष छात्रवृति योजना आर्थिक रूप से कमजोर कश्मीरी छात्रों के लिए है. कश्मीर से बाहर पढ़ाई करने वाले ऐसे छात्रों की पढ़ाई का पूरा खर्चा सरकार देती है. कॉलेज और हॉस्टल से निकाले जाने के बाद ये लोग एक किराये के मकान में रह रहे हैं. एक महीने बाद परीक्षा होनी है.

 

कॉलेज प्रशासन ने छात्रों से साफ कह दिया है कि अगर परीक्षा देनी है तो फीस भरनी होगी लेकिन इन छात्रों के परिवार के पास इंजीनियरिंग की पढ़ाई की फीस भरने के लिए पैसे नहीं हैं. ABP न्यूज ने जब इस मामले में कॉलेज प्रशासन से बात करने की कोशिश की तो कॉलेज के चेयरमैन ने कुछ भी बोलने से मना कर दिया. सवाल ये है कि इन छात्रों का भविष्य खराब करने का जिम्मेदार कौन है.

रोहतक इंजीनियरिंग कॉलेज ने 13 कश्मीरी छात्रों को निकाला 

जम्मू कश्मीर के विभिन्न हिस्सों से आए स्टूडेंट्स, दोहरी मार झेल रहे हैं. रोहतक इंस्टीट्यूटी ऑफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट ने इन सभी 13 स्टूडेंट्स को कॉलेज और होस्टल से बाहर का रास्ता दिखा दिया है. इसके पीछे वजह यह है कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से फंड जारी नहीं किया गया है.

 

फंड न जारी का बहाना बनाकर इन सभी कश्मीरी स्टूडेंट्स को कॉलेज ने निकाल दिया है. जबकि कॉलेज में कक्षाएं चल रही हैं और एक माह बाद परीक्षा भी होनी हैं. ऐसे में इन स्टूडेंट्स के पास कोई ठिकाना नहीं रहा तो मजबूरन उन्हें रोहतक में ही किराए के मकान में आशियाना लेना पड़ा. यहां भी एक-एक कमरे में चार स्टूडेंट्स रहने को मजबूर हैं. एक तो कॉलेज ने निकाल दिया और अब उस पर रोजाना का खर्च अलग से.

केंद्र सरकार की ओर से कश्मीरी स्टूडेंट्स को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री विशेष छात्रवृत्ति योजना की शुरूआत की गई थी. इस योजना के तहत डिग्री, मेडिकल कॉलेज और इंजीनियरिंग कालेज में जम्मू कश्मीर से बाहर के राज्यों में दाखिल लेने वाले स्टूडेंट्स के लिए छात्रवृत्ति का प्रावधान है. हालांकि इसके लिए शर्त यह है कि स्टूडेंट जम्मू कंश्मीर का निवासी हो और बार बारहवीं पास हो. साथ ही परिवार की सालाना आमदनी साढ़े चार लाख रूपए से कम हो. जो भी स्टूडेंट् यह योग्यता रखता हो, वह छात्रवृत्ति पाने की योग्यता रखता है.

 

छात्रवृत्ति इस योजना के तहत सामान्य डिग्री के लिए 30 हजार रूपए सालाना, इंजीनियरिंग कोर्स के लिए सवा लाख रूपए सालाना और मेडिकल कोर्स के लिए तीन लाख रूपए सालाना की छात्रवृत्ति मिलती है.

 

जम्मू-कश्मीर के इन 13 स्टूडेंट्स ने भी प्रधानमंत्री विशेष छात्रवृत्ति योजना के तहत वर्ष 2013 में रोहतक इंस्टीट्यूटी ऑफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट के बीटैक कोर्स में दाखिल लिया. जम्मू कश्मीर की एक कंसलटेंसी एजेंसी के जरिए ही दाखिला की तमाम प्रक्रिया चली. तब उस कंसलटेंसी एजेंसी ने भी प्रति छात्र 10 से 15 हजार रूपए वसूले और उन्हें भरोसा दिलाया कि छात्रवृत्ति योजना के तहत उनसे किसी भी प्रकार की फीस वसूली नहीं जाएगी. सारी फीस योजना के तहत केंद्र सरकार ही वहन करेगी.

अगस्त 2013 में जम्मू कश्मीर के नासिर सोफी, तोसिफ अहमद लोन, इरफान अहमद, मोहम्मद आसिफ भट्ट, ओवेस मकबूल, पीरजादा आमिर, जावेद अहमद, शाह नवाज रसीद, जहूर अहमद मीर, सूहैल अहमद, तारीक अब्दुल्ला, उबैद बशीर और इशफाख अहमद डार ने रोहतक इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट के बीटैक कोर्स में दाखिला लिया. शुरूआत में ही कॉलेज प्रबंधन की ओर से इन स्टूडेंट्स को आश्वासन दे दिया गया था कि छात्रवृत्ति योजना के तहत उनसे किसी प्रकार की फीस नहीं वसूली जाएगी, लेकिन अब दो साल बाद प्रबंधन ने रूख अचानक ही बदल गया. प्रबंधन ने सभी स्टूडेंट्स से कॉलेज फीस और हास्टल फीस की मांग करनी शुरू कर दी. जब स्टूडेंट्स ने इंकार कर दिया तो उन्हें कॉलेज और हॉस्टल से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.

 

कॉलेज और हास्टल से निकाले जाने के बाद इन स्टूडेंटस के पास कोई ठोर ठिकाना नहीं रहा. ये बीच मंझधार में फंस कर रह गए. पढ़ाई के दो साल पूरे होने को हैं और चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं एक माह बाद शुरू होनी हैं. ऐसे में उनका भविष्य अधर में लटक गया है. इन स्टूडेंट्स ने कॉलेज प्रबंधन ने गुहार लगाई, लेकिन सुनने वाला कोई नहीं है. वहां से एक ही जवाब मिलता है कि फीस भर दो और परीक्षा दे दो. बिना फीस के कॉलेज में प्रवेश नहीं मिलेगा.

 

कॉलेज के पास इनके मूल प्रमाण पत्र भी जमा हैं. ऐसे में भी इन स्टूडेंट्स ने आस नहीं छोड़ी और कॉलेज से निकाले जाने के बाद वे रोहतक के प्रेम नगर में किराए का मकान लेकर रह रहे हैं. उन्हें एक ही आस है कि कहीं न कहीं तो उनकी आवाज सुनी जाएगी. इसी आस में वे सभी 13 स्टूडेंट् रोहतक में जमे हुए हैं.

 

कश्मीरी स्टूडेंटस का कहना है कि वे रोहतक में भविष्य बनाने आए थे, लेकिन उन्हें क्या पता था कि भविष्य पर ही सवालिया निशान लग जाएगा. वे सभी गरीब परिवार के बच्चे हैं और कॉलेज की भारी भरकम फीस वहन नहीं कर सकते. प्रबंधन उन पर दबाव भी बना रहा है कि फीस जल्द भरो और परीक्षा दो.

 

उनका कहना है कि जम्मू कश्मीर में आई बाढ़ तो पहले ही उनका परिवार बर्बाद कर दिया और अब कॉलेज ने उनका भविष्य ही बर्बाद कर दिया है. उधर, कश्मीरी स्टूडेंट्स को कॉलेज से निकालने का मामला उछलने के बाद अब प्रबंधन इस मामले में बात करने के लिए तैयार नहीं है. कालेज के निदेशक डा. किशोर चावला ने इस मुद्दे पर किसी भी प्रकार की बात करने से इंकार कर दिया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: rohtak_engineering_college_kashmiri_students_resticated
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ????? ??????? ????? ??????????? ?????
First Published:

Related Stories

यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र
यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में गुरुवार को 7574 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र दिया गया. इसके बाद 5...

सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की मंजूरी
सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की...

नई दिल्ली: रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को एक बड़ा फैसला लिया. मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए...

क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?
क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?

नई दिल्लीः सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से एक विदेशी महिला की चर्चा चल रही है.  वायरल वीडियों...

भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश
भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश

पटना/भागलपुर: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भागलपुर जिला में सरकारी खाते से पैसे की अवैध...

हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम: पाकिस्तान
हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम:...

इस्लामाबाद: आतंकी सैयद सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल आतंकी घोषित करने के बाद अमेरिका ने कश्मीर में...

डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट फाड़े
डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट...

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी जगजाहिर है. इस बीच उत्तराखंड के बाराहोती...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017