‘पद्म’ और ‘यश भारती’ पाने वालों के हाथ लगा जैकपॉट

By: | Last Updated: Tuesday, 20 October 2015 3:53 PM
Rs 50,000 in pension to Yash Bharti awardees

लखनऊ: साहित्यकारों द्वारा सम्मान लौटाये जाने के सिलसिले के बीच उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के सर्वोच्च पुरस्कार ‘यश भारती’ तथा केन्द्र के ‘पद्म पुरस्कार’ पाने वालों के हाथ ‘जैकपॉट’ लगा है. सरकार ने उन्हें 50 हजार रूपये मासिक पेंशन देने का फैसला किया है.

 

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता में आज हुई प्रदेश मंत्रिपरिषद की बैठक में यह महत्वपूर्ण फैसला लिया गया. बैठक के बाद अखिलेश ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमारे यहां यश भारती से सम्मानितों को अब महीने का 50 हजार रूपये पेंशन देने का फैसला कैबिनेट ने किया है. अगर यश भारती मिल गया है तो पेंशन मिलेगी.’’

 

यह पूछने पर कि अगर कोई यश भारती वापस कर दे तो भी क्या पेंशन मिलेगी, मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ऐसी स्थिति समाजवादियों और सपा सरकार में कभी नहीं आएगी.’’ मंत्रिपरिषद में इस सिलसिले में पारित की गयी नियमावली के तहत ऐसे लोग जिनकी जन्मभूमि अथवा कर्मभूमि उत्तर प्रदेश रही है और जिन्हें ‘यश भारती’ और ‘पद्म पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया है, उन्हें पेंशन मिलेगी. इस नियमावली में संशोधन के लिये मुख्यमंत्री को अधिकृत किया गया है.

 

मंत्रिपरिषद में लिये गये एक अन्य फैसले में निर्यात को बढ़ावा देने के लिये राज्यस्तरीय निर्यात सम्वर्धन परिषद का गठन करने का निर्णय लिया गया है. इसका मुख्य उद्देश्य प्रदेश से वस्तु एवं सेवाओं के निर्यात के वर्तमान स्तर को बनाये रखते हुए सहयोग एवं संरक्षण द्वारा संवृद्धि दर के उच्च स्तर को प्राप्त करना है. परिषद की प्रबन्ध समिति में कुल 28 सदस्य होंगे, जिनमें एक अध्यक्ष, एक उपाध्यक्ष तथा एक सदस्य सचिव होंगे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Rs 50,000 in pension to Yash Bharti awardees
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017