मोहन भागवत ने लोगों से ‘वंदे मातरम’ पर लिखी गयी किताब पढ़ने को कहा

By: | Last Updated: Wednesday, 17 December 2014 4:36 AM

मुंबई: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने आज लोगों से ‘वंदे मातरम’ पर लिखी गयी एक किताब पढ़ने की अपील करते हुए कहा कि इन दो शब्दों ने पिछले 140 सालों से देश को प्रेरित किया है. भागवत ‘समग्र वंदे मातरम’ किताब के दो अंकों का विमोचन करने के बाद आज शाम यहां एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे. यह किताब बंकिम चंद्र चटर्जी की प्रसिद्ध रचना पर केंद्रित है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हमें यह किताब जरूर पढ़नी चाहिए. हम आमतौर पर घर में भगवत गीता रखते हैं. हम इसे पढ़ते नहीं है लेकिन रखते हैं.’’ भागवत ने कहा, ‘‘लोग इसे (गीता) अपने घरों में रखते हैं भले ही वह इसे ना पढ़ें. इसी तरह इस किताब को भी घर में रखना चाहिए और हर दिन पढ़ना चाहिए.’’

 

आरएसएस के मुखिया ने कहा, ‘‘वंदे मातरम केवल दो शब्द नहीं हैं बल्कि एक मंत्र है जो फांसी पर चढ़ने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के होंठों पर था.’’ इस अवसर पर महाराष्ट्र के राज्यपाल सी विद्यासागर राव भी मौजूद थे जिसमें बंकिम चंद्र के वंशज शांतनु चटोपाध्याय को सम्मानित किया गया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: rss chief mohan bhagwat appeals people to read the book written on vande matram
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017