आतंकी संगठन ISIS के लिए काम करने वाले मेहदी पर देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने का केस दर्ज

By: | Last Updated: Sunday, 14 December 2014 2:26 AM
sadition_case_registered_agaisndt_mehadi_hassan

नई दिल्ली: आतंकी संगठन आईएसआईएस से संपर्क के आरोप में गिरफ्तार मेहदी मसरूर की पहले भी पुलिस में शिकायत हो चुकी है. पुलिस पर कोई कार्रवाई नहीं करने का आरोप भी लगा है. बैंगलोर पुलिस अगर शिकायत को नजरअंदाज नहीं करती तो मेहदी मसरूर पहले ही गिरफ्तार हो सकता था. अक्टूबर महीने में पुलिस से शिकायत की गई थी.

शिकायत करने वाले शख्स ने पुलिस को बताया था कि वाई-फाई कनेक्शन से जुड़ने के दौरान उसे दावला आईएआईएस नाम से एक नेटवर्क दिखा था,जिसका मतलब होता है आईएसआईएस का साम्राज्य. शिकायत करने वाले के मुताबिक दावला ISIS नाम से ये नेटवर्क बार-बार उसके फोन से जुड़ने की कोशिश कर रहा था जिसके बाद उसने पुलिस से इसकी शिकायत की.

 

आईएसआईएस नाम से नेटवर्क होने की शिकायत बेंगलूरु के पुलिस कमिश्नर के पास भी पहुंची थी लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठे रही. कर्नाटक पुलिस के मुताबिक बैंगलुरु से गिरफ्तार मेहदी मसरूर बिस्वास ने ISIS का ट्टिवटर अकाउंट हैंडल करने की बात कबूल ली है. उसने बताया है कि मेहदी मसरूर दिन में ऑफिस का काम और रात में ISIS के लिए ट्वीट करता था.

 

मेहदी के खिलाफ केस दर्ज

आतंकी संगठन ISIS के लिए काम करने के आरोप में बेंगलूरु पुलिस ने मेहदी नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया है. पश्चिम बंगाल का रहने वाला आरोपी मेहदी बेंगलूरु की एक कंपनी में काम करता था. पुलिस का कहना है कि मेहदी दिन में अपने दफ्तर का काम करता था और रात को आतंकी संगठन आईएसआईएस के लिए ट्वीट करता था. पुलिस का दावा है कि मेहदी ने ISIS का ट्विटर हैडल ऑपरेट करने की बात कबूल कर ली है. मेहदी के बारे में पुलिस ने खुलासा किया है कि वह आईएसआईएस में शामिल होने के इच्छुक लोगों की मदद करता था.

 

पुलिस ने देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने की धारा में केस दर्ज किया है. इसमें उसे उम्रकैद तक की सजा हो सकती है. कर्नाटक पुलिस के मुताबिक मेहंदी मसरूर विस्वास ने कबूल किया है कि वह समीविटनेस के नाम से पिछले कई सालों से आईएसआईएस का ट्विटर अकाउंट चला रहा था.

कर्नाटक पुलिस के मुताबिक मेहदी दिन में अपनी कंपनी में काम करता था और देर रात इंटरनेट पर सक्रिय हो जाता था. उसने 60 जीबी मंथली का इंटरनेट कनेक्शन का प्लान ले रखा था और सभी न्यूज वेबसाइटों पर ISIS से जुड़ी ताजा खबरें पढ़ा करता था.

बेंगलुरु पुलिस ने ISIS कनेक्शन के आरोपी मेहदी को हिरासत में लिया 

मेहदी मसरूर बिस्वास मूल रूप से पश्चिम बंगाल से है और बैंगलोर में 2012 से बतौर मैन्युफैक्चरिंग एक्जीक्यूटिव एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम कर रहा था. कर्नाटक पुलिस के मुताबिक मेहदी बिस्वास खासतौर से अंग्रेजी बोलने वाले ISIS आतंकियों के करीब था और नई भर्तियों में उनकी मदद करता था.

 

कर्नाटक पुलिस के मुताबिक मेहदी ने अपनी असली पहचान छिपा रखी थी. उसे पक्का भरोसा था कि उसका राज कभी नहीं खुलेगा. उसकी पहचान को चैनल 4 ने दुनिया के सामने रखा और भारतीय खुफिया एजेंसियों को उसकी जानकारी मुहैया करवाई.

 

मेहंदी के खिलाफ देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने जैसी गंभीर धाराओं में केस दर्ज हुआ है, जिनमें दोषी साबित होने पर उसे उम्रकैद तक हो सकती है. बेंगलूरु पुलिस के ज्वाइंट सीपी ने भी कहा है कि आरोपी मेहदी कभी विदेश तो नहीं गया था लेकिन उसके पास इतनी जानकारी थी कि वर्चुअल वर्ल्ड में वो वहीं से ऑपरेट करता हुआ लगता था .  

 

ISIS का ट्विटर हैंडल चलाने और इस आतंकवादी संगठन के लिए ऑनलाइन भर्ती कराने के आरोपी मेहदी मसरूर बिस्वास को आज सुबह बेंगलुरू से पुलिस ने गिरफ्तार किया है. गिरफ्तारी से पहले मेहदी ने ब्रिटेन के चैनल 4 को इंटरव्यू दिया है. यह वही चैनल है जिसने मेहदी पर ISIS का ट्विटर हैंडल (@shamiwitness) चलाने और इस संस्था के लिए ऑनलाइन भर्ती कराने का आरोप लगाया है.

 

इंटरव्यू में मेहदी मसरूर बिस्वास ने कहा है-

 

मुझे डर है कि पुलिस जब गिरफ्तार करने आएगी तो वो मुझे मारने की कोशिश कर सकती है.

 

पुलिस ऐसा करते वक्त कहेगी कि मैंने उस पर हमला करने की कोशिश की.

 

मैं साफ करना चाहता हूं कि मैं गिरफ्तारी से डरता नहीं हूं. मेरे पास कोई हथियार नहीं है.

 

मैंने कुछ भी गलत काम नहीं किया. मैंने किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया है. मैंने देश का कोई कानून नहीं तोड़ा है.

 

मैंने देश के खिलाफ युद्ध या हिंसा जैसी कोई गतिविधी नहीं की है. मैंने भारत के सहयोगी देशों के खिलाफ भी कोई अपराध नहीं किया है.

 

मुझे ISIS के बारे में उतनी ही जानकारी है जो पब्लिक ट्विट्स के जरिए दूसरे लोगों को हासिल हैं.

 

मुझे लग रहा है ये सब क्षणिक तौर पर हो रहा है. घंटे दो घंटे में सब साफ हो जाएगा. 

 

पहली बार कोई ऐसा मुसलमान है जो अंग्रेजी में दक्ष है और अपनी बात अंग्रेजी में लोगों तक पहुंचा रहा है, इससे इस्लाम के दुश्मन पस्त हैं. इसलिए मुझ पर यह आरोप लगा है.

 

आपको बात दें कि यह चैनल 4 को दिया गया मेहदी का दूसरा इंटरव्यू है. इससे पहले दिए गए इंटरव्यू में मेहदी ने कहा था कि वह आईएसआईएस से सहानुभूति रखता है. पहले इंटरव्यू में मेंहदी का कहना है कि वो खुद ISIS में शामिल हो जाता पर उसका परिवार उस पर निर्भर है और इस वजह से वो ऐसा नहीं कर सकता है. उसने बताया, “अगर मेरे पास सबकुछ छोड़कर आई-एस से जुड़ने का विकल्प होता तो मैं जुड़ सकता था…मेरे परिवार को मेरी ज़रूरत है.”

 

हालांकि आज इंडियन एक्सप्रेस में छपे एक इंटरव्यू में मेहदी ने कहा है कि उसने कोई गलत काम नहीं किया है. मेहदी ने कहा है कि कुछ समय के लिए उसका जीमेल अकाउंट हैक कर लिया गया था और ट्विट किया गया था. मेहदी और उसके घरवालों का कहना है कि वह निर्दोष है और उसे एक रणनीति के तहत उसे फंसाया जा रहा है.

 

कौन है मेहदी मसरूर बिस्वास? 

बेंगलुरु पुलिस ने ISIS कनेक्शन के आरोपी मेहदी को हिरासत में लिया 

बेंगलुरू से हैंडल हो रहा था ISIS का ट्विटर एकाउंट, जांच में जुटा NIA 

ISIS के ट्विटर अकाउंट को हैंडल करता है भारतीय शख्स!

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sadition_case_registered_agaisndt_mehadi_hassan
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ????? isis mehadi Police
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017