मोदी के विरोधी रहे गुजरात के IPS अधिकारी संजीव भट्ट बर्खास्त

By: | Last Updated: Thursday, 20 August 2015 12:55 AM

अहमदाबाद/नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोधी रहे गुजरात के आईपीएस अफसर संजीव भट्ट् बर्खास्त कर दिए गए हैं. भट्ट पर नई पोस्टिंग ज्वाइन नहीं करने पर कार्रवाई की गई है. संजीव भट्ट्ट वही अफसर हैं जिन्होंने गुजरात की तत्कालीन मोदी सरकार पर दंगों को लेकर गंभीर आरोप लगाए थे. हालांकि  उन्होंने इसे ‘‘ पूरी तरह से मनगढ़ंत आरोपों ’’ पर ‘‘जांच का पाखंड’’ करने के बाद की गयी कार्रवाई करार दिया है.

 

 

गोधरा कांड के बाद भड़के दंगों के दौरान वर्ष 2002 में नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली गुजरात सरकार से टकराव मोल लेने वाले निलंबित आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को बुधवार को सेवा से ‘अनधिकृत रूप से गैर हाजिर’’ रहने के आधार पर बख्रास्त कर दिया गया.

 

भट्ट ने बताया, ‘‘ हां , यह सही है कि मेरी सेवाएं बख्रास्त कर दी गयी हैं. इसकी उम्मीद थी. वे पूरी तरह से एकतरफा जांच कर रहे थे. मुझे उनसे (गृह मंत्रालय) बर्खास्तगी का पत्र मिला.’’ गुजरात के मुख्य सचिव जी आर अलोरिया ने इस घटना की पुष्टि करते हुए बताया, ‘‘ संजीव भट्ट की सेवाएं समाप्त कर दी गयी हैं.’’ वर्ष 2002 के गुजरात दंगों को लेकर तत्कालीन मोदी सरकार से टकराव मोल लेने वाले भट्ट वर्ष 2011 से ही निलंबित चल रहे थे. उन्हें बिना अनुमति के ड्यूटी से गैर हाजिर रहने और सरकारी वाहनों का इस्तेमाल करने के आरोपों में निलंबित किया गया था. उस समय वह जूनागढ़ में नियुक्त थे.

 

1988 बैच के आईपीएस अधिकारी भट्ट ने उच्चतम न्यायालय में दाखिल एक हलफनामे में दावा किया था कि उन्होंने 27 फरवरी 2002 को गांधीनगर में मोदी के आवास पर एक बैठक में हिस्सा लिया था जिस दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री ने शीर्ष पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिया था कि वे उसी महीने की शुरूआत में हुए गोधरा ट्रेन अग्निकांड के बाद हिंदुओं को ‘‘अपना गुस्सा निकाल लेने दें.’’ हालांकि गोधरा कांड के बाद भड़के दंगों के संबंध में नौ प्रमुख घटनाओं की जांच करने वाले और उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त विशेष जांच दल ने भट्ट के दावे को खारिज कर दिया था.

 

भट्ट ने कहा कि उन्हें सेवा से ‘‘अनधिकृत रूप से गैर हाजिर ’’ रहने के संबंध में ‘‘पाखंडपूर्ण जांच’’ के आधार पर बख्रास्त किया गया . अनधिकृत रूप से गैर हाजिर रहने का यह वह समय था जब वह 2002 के दंगों की जांच कर रही एसआईटी के सामने गवाही देने के लिए अहमदाबाद आए थे. उन्होंने अपने एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘ दरअसल , मैंने आईपीएस में अपने पिछले 27 सालों में हर क्षण का आनंद उठाया. सरकार ने ‘ड्यूटी से बिना बताए गैर हाजिर रहने के पूरी तरह मनगढ़ंत आरोपों पर एकतरफा जांच कर मुझे सेवा से हटाने का फैसला किया है.’’ भट्ट ने कहा कि ड्यूटी से बिना बताए गैर हाजिर रहने के जिस आरोप को मेरी बख्रास्तगी का आधार बनाया गया है , वह उस समय से संबंधित है जब मैं (जकिया जाफरी शिकायत की जांच )  एसआईटी और नानावती आयोग (गुजरात दंगों की जांच करने वाला आयोग) के समक्ष गवाही दे रहा था.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ जो भी है ठीक है . मुद्दे की बात यह है कि यदि सरकार को मेरी सेवाओं की जरूरत नहीं है तो… ठीक है. मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि वह मेरे अंदर वही जज्बा और जुनून बनाए रखे जो पिछले इतने सालों में उसने बनाए रखा है. भगवान सचाई की खोज में मुझे रास्ता दिखाता रहे.’’ यह पूछे जाने पर कि क्या वह अपनी बख्रास्तगी को चुनौती देंगे , भट्ट ने कहा कि वह खुद को सरकार पर थोपना नहीं चाहते.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ काफी कुछ किया जा सकता है (इस कदम के खिलाफ) लेकिन क्या यह चुनौती देने लायक है ? सरकार मुझे नहीं चाहती तो मुझे इतना उतावला क्यों होना चाहिए कि मैं इसमें रहना चाहूं.’’

 

भट्ट ने कहा, ‘‘ मैं एक जुनून के साथ पुलिस की नौकरी में आया था, अब ऐसा लगता है कि देश और इस सरकार को मेरी जरूरत नहीं है. इसलिए जो भी हुआ अच्छा हुआ. मैं खुद को सरकार पर थोप नहीं सकता.’’ आईपीएस अधिकारी को हाल ही में नयी परेशानी का सामना करना पड़ा था. गुजरात सरकार ने एक वीडियो को लेकर भट्ट को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. वीडियो में भट्ट एक महिला के साथ दिख रहे हैं. सरकार ने कथित रूप से विवाहेत्तर संबंधों को लेकर भट्ट से जवाब मांगा था. भट्ट ने इस बात से इंकार किया था कि वीडियो में जो आदमी दिखाई दे रहा है, वह वे स्वयं हैं.

 

अपने जवाब में भट्ट ने कहा था कि वीडियो क्लिपिंग को करीब से देखने से उसमें दिखाई दे रहे व्यक्ति के चेहरे मोहरे , नाक, माथे और कानों के आकार प्रकार में ‘‘स्पष्ट अंतर’’ नजर आता है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Sanjiv Bhatt dismissed
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017