कभी पत्थर पर आटा गूंथा करते थे सत्यार्थी

By: | Last Updated: Friday, 10 October 2014 2:43 PM

भोपाल: बच्चों के हितों की लड़ाई लड़कर नोबेल पुरस्कार पाने वाले कैलाश सत्यार्थी ने कभी भी नदी के प्रवाह की दिशा में तैरना मुनासिब नहीं समझा. बच्चों के हक की खातिर वह जिंदगी को भी जोखिम में डालने से नहीं हिचके और मुसीबत के दौर में पत्थर पर आटा गूंथा और रोटियां पकाई.

 

मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में जन्मे कैलाश सत्यार्थी बचपन से ही कुरीति विरोधी रहे हैं. उन्होंने सम्राट अशोक अभियांत्रिकी महाविद्यालय से इंजीनिरिंग की शिक्षा हासिल की.

 

सत्यार्थी के साथी वेद प्रकाश शर्मा बताते हैं कि गरीबी कभी उन्हें डिगा नहीं सकी. हाल यह था कि उनके पास आटा गूंथने के लिए बर्तन नहीं था और वह पत्थर पर आटा गूंथकर रोटी बनाया करते थे.

 

शर्मा बताते हैं कि सत्यार्थी चर्चाओं में तब आए जब उन्होंने विदिशा में महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास सफाई कामगारों से भोजन बनवाया था. उनके इस गांधीवादी कदम ने नई बहस को जन्म दिया.

 

उसके बाद उन्होंने बच्चों के अधिकारों के लिए काम शुरू किया और दिल्ली जाकर एक गैर सरकारी संगठन से जुड़ गए. बाद में उन्होंने बचपन बचाओ आंदोलन की नींव रखी.

 

सत्यार्थी के संगठन बचपन बचाओ आंदोलन ने अब तक करीब 80 हजार बच्चों को बाल मजदूरी से मुक्त कराया है.

 

सत्यार्थी लंबे समय से बच्चों को बाल मजदूरी से हटाकर उन्हें शिक्षा अभियान से जोड़ने की मुहिम चलाते रहे हैं.

 

उन्होंने मध्य प्रदेश के मंदसौर से काम शुरू किया और बाल मजदूरी पर केंद्रित स्लेट पेंसिल उद्योग में लगे बच्चों को सबसे पहले मुक्त कराया. वहीं पर उन्होंने मुक्ति आश्रम की स्थापना की.

 

सत्यार्थी ने मध्य प्रदेश के सागर में भी काम किया, और वहां भी मुक्ति आश्रम की स्थापना की. कुछ सालों बाद उन्होंने स्वामी अग्निवेश के साथ काम किया. उन्हें 1993 में अशोका फेलोशिप मिली और फिर वह स्वतंत्र रूप से काम करने लगे.

 

मंदसौर में बाल अधिकारों के लिए काम कर रहे डॉ. राघवेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि सत्यार्थी को बच्चों को बंधुआ मजदूरी से मुक्त कराने के लिए जान भी दांव पर लगाना पड़ा है.

 

उन्होंने बताया कि हरियाणा में खदान में काम करने वाले बच्चों को मुक्त कराने की कोशिश में उन पर जानलेवा हमला हुआ था और हमलावर उन्हें मृत मान चुके थे, मगर वे बच गए.

 

तोमर के अनुसार सत्यार्थी ने चूड़ी उद्योग, ईंट भट्टा उद्योग, पटाखा व माचिस उद्योग में काम करने वाले बच्चों को बंधुआ व बाल मजदूरी से मुक्त कराने का काम किया है.

 

तोमर ने बताया कि उन्होंने उत्तर प्रदेश के गोंडा में एक सर्कस से 40 नेपाली बच्चों को मुक्त कराया था. वह 180 देशों में बाल अधिकारों के लिए अभियान चलाए हुए हैं. बच्चों की शिक्षा, अधिकार के लिए अभियान चलाए हुए हैं.

 

सत्यार्थी को मिले नोबेल पुरस्कार को उन बच्चों के लिए लड़ी गई लड़ाई का प्रतिसाद माना जा रहा है जो अपने अधिकारों से अनजान व वंचित रहे हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: satyarthi-children
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र
यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में गुरुवार को 7574 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र दिया गया. इसके बाद 5...

सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की मंजूरी
सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की...

नई दिल्ली: रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को एक बड़ा फैसला लिया. मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए...

क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?
क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?

नई दिल्लीः सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से एक विदेशी महिला की चर्चा चल रही है.  वायरल वीडियों...

भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश
भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश

पटना/भागलपुर: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भागलपुर जिला में सरकारी खाते से पैसे की अवैध...

हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम: पाकिस्तान
हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम:...

इस्लामाबाद: आतंकी सैयद सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल आतंकी घोषित करने के बाद अमेरिका ने कश्मीर में...

डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट फाड़े
डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट...

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी जगजाहिर है. इस बीच उत्तराखंड के बाराहोती...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017