SC / ST law will continue, no power can end it: Ram Vilas Paswan । एससी/एसटी कानून कायम रहेगा, कोई भी ताकत इसे खत्म नहीं कर सकती: रामविलास पासवान

एससी/एसटी कानून कायम रहेगा, कोई भी ताकत इसे खत्म नहीं कर सकती: रामविलास पासवान

By: | Updated: 08 Apr 2018 09:09 PM
SC / ST law will continue, no power can end it: Ram Vilas Paswan

पटना: केंद्रीय मंत्री एवं एलजेपी प्रमुख रामविलास पासवान ने कहा कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) कानून कायम रहेगा और इसे कोई भी ताकत खत्म नहीं कर सकती. इसको लेकर किसी को चिंतित होने की आवश्यक्ता नहीं है. पासवान ने बिहार के सीएम और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के एनडीए के घटक दलों आरएलएसपी और एलजेपी के साथ मिलकर एक नया गुट बनाने की अटकलों को भी खरिज करते हुए कहा कि वो, नीतीश कुमार और उपेंद्र कुशवाहा कहीं नहीं जाएंगे.


उन्होंने कहा "एनडीए अटूट है. हम यह जरूर चाहते हैं कि राजग पर कोई उंगली नहीं उठाए. हम समाज के सभी वर्ग के लोगों, तथा 'सबका साथ, सबका विकास' के आधार पर चल रहे हैं. कोई अलग समूह बनाने की जरूरत नहीं है."


पासवान ने पटना में एलजेपी प्रदेश कार्यालय में 14 अप्रैल को बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की जयंती की तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे. उन्होंने मीडिया से कहा, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण कानून के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को लेकर युवा वर्ग में गुस्सा स्वाभाविक था क्योंकि इससे उनकी धार कमजोर होगी. इसी कारण से आंदोलन हुआ.


पासवान ने कहा कि उनकी पार्टी सामाजिक न्याय और धर्मनिरपेक्षता के लिए कटिबद्ध है. कोई ताकत हमें रोक नहीं सकती और कोई भी ताकत आरक्षण और एससी/एसटी कानून को खत्म नहीं कर सकती इसलिए इसको लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है. बीजेपी शासित प्रदेशों में बंद समर्थकों को परेशान किए जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि निर्दोष लोगों को नहीं पकड़ा जाएगा और न ही पकड़ा गया है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: SC / ST law will continue, no power can end it: Ram Vilas Paswan
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पश्चिम बंगाल में आधार मजबूत करने के लिए असीमानंद की मदद ले सकती है बीजेपी