यहां पढ़ें कैसे डाला गया आपकी जेब पर सबसे बड़ा डाका !

By: | Last Updated: Wednesday, 5 November 2014 1:36 PM

नई दिल्ली : पर्ल ग्रुप के तथाकथित 45 हजार करोड रुपये के घोटाले की अब तक की जांच के दौरान सीबीआई को अनेक ऐसे दस्तावेज बरामद हुए है जिनसे पता चलता है कि जाली भूमि आवंटन पत्रों को जारी कर भारी मात्रा में निवेश इकट्ठा किया गया. सीबीआई ने ग्रुप के लगभग एक हजार संदेहास्पद बैंक खातों को सील कर दिया है और ग्रुप के निदेशको से अनेक बार पूछताछ करने के बाद उनके विदेश जाने पर रोक लगा दी है. प्रवर्तन निदेशालय ने भी पीएसीएल के खिलाफ मनी लाड्रिग एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर अनेक लोगो से पूछताछ की है.

 

110 रुपये से लेकर 65 हजार तक रकम जमा कराइए और 6 साल में दुगनी रकम पाइए. सिक्युरिटी के तौर पर देश के किसी भी हिस्से में आपको जमीन भी दी जाएगी.

 

जमीन के लिए आपको कागजात भी दिये जाएंगे. इतना ही नहीं निवेशक की दुर्घटना में मौत हो गई तो परिजन को कवर भी दिया जाएगा और तो और आपने अगर ग्राहक लाया तो आपको 15 से 20 प्रतिशत कमीशन भी मिलेगा. लड़की की शादी के लिये पैसा जमा करेंगे तो 18 साल की उम्र होने पर लड़की को मिलेगी पांच गुनी रकम. 

 

पीएसीएल के इस झांसे में देश के करीब 5 करोड़ निवेशक आ गए . कंपनी में करीब 45 हजार करोड़ रुपये निवेश हुआ. आरोप है कि जब पैसा लौटाने की बात आई तो निेवेशक को नहीं उनका पैसा मिला . पर्ल्स एग्रोटेक कॉर्पोरेशन लिमिटेड यानी पीएसीएल पर जाली दस्तावेजों के जरिए कई भूमि आवंटन करने का आरोप.

 

कंपनी के एक हजार खाते शक के आधार पर सीज. कंपनी के प्रमुख प्रमोटरों के विदेश जाने पर रोक. पीएसीएल के खिलाफ सीबीआई ने आपराधिक षडयंत्र और धोखाधडी के तहत मुकदमा दर्ज किया. पीएसीएल का मामला शारदा घोटाले से अलग एक ही जमीन के कागज कई लोगों के पास अनेक राज्यों में जमीनों के दस्तावेजों की जांच जारी ईडी ने भी लोगों से पूछताछ शुरू की.

 

सीबीआई ने इसी साल फरवरी महीने में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पीएसीएल और उसकी सहयोगी कंपनी पीजीएफ के खिलाफ 45 हजार के तथाकथित घोटाले में जांच शुरु कर अनेक शहरो में छापेमारी की थी. इस छापेमारी के दौरान सीबीआई को एक ट्रक से भी ज्यादा दस्तावेज बरामद हुए थे.

 

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक इन दस्तावेजों की अब तक की जांच के दौरान सीबीआई को जमीनों के आवंटन को लेकर अनेक ऐसे दस्तावेज मिले है जिनसे पता चलता है कि एक ही जमीन कई लोगों को आवंटित कर दी गई. सीबीआई का कहना है कि छापे में मिली जमीनों की सेल डीड ट्रासंफर डीड और टाईटल डीडो की मौके पर पहुंच कर जांच की जा रही है.

 

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक कुछ दस्तावेज की जांच से पता चला है कि कई जगहो पर कंपनी ने अपनी जमीनें दिखाई थी लेकिन सीबीआई अधिकारी जब जांच के लिए उन जगहो पर पहुंचे तो वहा वह जमीनें नहीं थी जैसा कि कंपनी ने दावा किया था. सीबीआई ने मध्य प्रदेश सरकार के साथ मिल कर भी कई जमीनों की जांच की है और अनेक राज्यों में सीबीआई की टीमें जमीनों और खाताधारकों दोनों की जांच कर रही है .

 

सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मामले में पीएसीएल कंपनी के निदेशको से कई चरणों में पूछताछ की गई है और पूछताछ के बाद पासपोर्ट अथारिटी को सूचित कर दिया है कि कंपनी के मेन प्रमोटर्स के लिए विदेश जाने पर रोक लगा दी गई है. अधिकारी ने बताया कि शक के आधार पर कंपनी के एक हजार बैंक खातों को सीज कर दिया गया है.

 

सीबीआई का अधिकारिक तौर पर कहना है कि इस मामले की जांच के दौरान ऐसे तमाम सबूत मिले है जिनसे पता चलता है कि कंपनी ने आपराधिक षडयंत्र और धोखाधडी के जरिए पैसे एकत्र करने का काम किया मसलन जब पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने पीएसीएल कंपनी को अपनी योजना को खत्म करने और निवेशको का पैसा वापस करने को कहा तो दिल्ली में दूसरे नाम से जाली योजना चलाई गई औऱ इसके लिए दूसरी कंपनी खोल ली गई. आरोप है कि दिल्ली की इस दूसरी कंपनी ने नए निवेशको से फंड इकट्ठा किया औऱ पहली कंपनी के निवेशकों को इसके जरिए पैसा वापस किया गया .

 

पीएसीएल के खिलाफ सीबीआई के अलावा प्रवर्तन निदेशालय ने भी मनी लाड्रिग एक्ट यानि पीएमएलए के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है और इस बाबत अनेक लोगों से पूछताछ की जा रही है ईडी जानना चाहता है कि इस मामले में कहीं हवाला के जरिए पैसा बाहर तो नहीं भेजा गया ईडी ने इस मामले में अधिकारिक तौर पर केवल इतना कहा कि मामले की जांच जारी है.

 

 

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: scam
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017