आप में फिर चिट्ठी से धमाका: आतिशी मार्लिना ने कहा- शांति भूषण की वजह से टूटी पार्टी

By: | Last Updated: Tuesday, 7 April 2015 5:50 AM
Shanti Bhushan_AAP

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी में टीम केजरीवाल और प्रशांत भूषण-योगेंद्र यादव गुट की लड़ाई में बड़ा खुलासा हुआ है.

 

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक आम आदमी पार्टी की पूर्व प्रवक्ता आतिशी मार्लिना की एक चिट्ठी से खुलासा हुआ है कि टीम केजरीवाल और प्रशांत-योगेंद्र के बीच समझौता लगभग हो चुका था.

 

आतिशी मार्लिना की चिट्ठी के मुताबिक- संजय सिंह ने सहमति बना ली थी लेकिन आप के संस्थापक सदस्य और प्रशांत भूषण के पिता शांति भूषण अड़ गए. उन्होंने घर छोड़ने की धमकी दे दी तो प्रशांत भूषण पिता के आगे झुक गए और बात टूट गई. बात सिद्धांतों को लेकर नहीं बल्कि शांति भूषण के दबाव के कारण टूटी. आतिशी ने टीम केजरीवाल के कई नेताओं को चिट्ठी लिखी जिससे लगता है कि वो प्रशांत-योगेंद्र के साथ अब नहीं हैं.

 

एक जमाने में टीम केजरीवाल की करीबी रही पूर्व प्रवक्ता आतिशी मार्लिना झगड़े के दौर में प्रशांत-योगेंद्र गुट के करीबी हो गई थी. इसी कारण उन्हें प्रवक्ता पद से हटाया गया था. अब आतिशी वापस टीम केजरीवाल में लौटने की कोशिश कर रही हैं.

आपको बता दें आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी और पीएसी से प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव की छुट्टी हो चुकी है. दोनों पर पार्टी विरोधी बयान देने का आरोप लगाया गया है.

 

आतिशी मर्लिना को प्रशांत भूषण का जवाब

आतिशी मर्लिना के आरोप पर एबीपी न्यूज से बात करते हुए प्रशांत भूषण ने कहा है कि इस मामले में शांति भूषण पर आरोप लगाना गलत है. उन्होनें बुजुर्ग की हैसियत से सिर्फ बातचीत को लेकर अपनी आशंका जताई थी.

 

प्रशांत भूषण ने एबीपी न्यूज़ से कहा, ‘मैंने और योगेंद्र यादव दोनों ने अलग-अलग आतिशी को जवाब दिया है. इस मामले में शांति भूषण जी पर इल्ज़ाम लगाना बिलकुल गलत है. उन्होंने एक बुजुर्ग की हैसियत से यह जानना चाहा था कि हमें कैसे यह यकीन है कि समझौते के नाम पर हमारे साथ कोई धोखा नहीं किया जा रहा है.’

 

प्रशांत ने कहा है, ‘अतीत में अरविन्द के साथ अनुभव बिल्कुल गलत रहा है. कई मौकों पर उन्होंने मध्यस्त के ज़रिये किसी बात पर सहमति होने की बात कही लेकिन बाद में उससे पूरी तरह मुकर गए. इस मामले में भी बात सीधे अरविंद से ना होकर मध्यस्तों के ज़रिये हो रही थी. हमारी सभी मांगों को मानने की बजाय उनपर सकारात्मक चर्चा जैसा आश्वासन दिया जा रहा था. ऐसे में हमें यही लगा कि शांति भूषण का सवाल बिलकुल वाजिब है. बाद में अरविन्द और उनकी टीम ने जिस तरह का बर्ताव किया, इससे इस बात की पुष्टि हो गई कि वो कभी भी समझौते को लेकर गंभीर नहीं थे.’

 

यह भी पढ़ें-

मेरे खिलाफ साजिश रची जा रही है: केजरीवाल 

50 दिन की  सरकार में सामने आया आप का वीआईपी चेहरा 

दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने जारी किया एंटी करप्शन हेल्पलाइन नंबर 1031, अंबानी के सहारे साधा मोदी पर निशाना 

व्यक्ति विशेष: “आप” का विश्वास! एक कवि की कहानी! 

आंतरिक लोकपाल हटाने पर आम आदमी पार्टी पर शाह का निशाना 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Shanti Bhushan_AAP
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017