शीना मर्डर केस के तीनों आरोपियों को पुलिस हिरासत

By: | Last Updated: Monday, 31 August 2015 11:10 AM
Sheena Bora murder case

नई दिल्ली: शीना बोरा मर्डर केस में इंद्राणी मुखर्जी, संजीव खन्ना और ड्राइवर को 5 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है. तीनों को आज मुंबई के बांद्रा कोर्ट में पेश किया गया था. जहां से उन्हें 5 दिन के लिए पुलिस रिमांड में भेज दिया गया.

 

कोर्ट में इंद्राणी और उसकी बेटी विधि एक दूसरे को देखकर रो पड़ीं. शीना मर्डर केस में बांद्रा कोर्ट ने तीनों आरोपियों को पुलिस हिरासत में भेज दिया है. शीना की मां इंद्राणी, संजीव खन्ना और ड्राइवर श्याम को कोर्ट ने 5 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेजा है. इंद्राणी के वकील ने कोर्ट से मांग की थी कि इंद्राणी को जेल भेजा जाए. जिरह के दौरान इंद्राणी के वकील ने दलील दी कि पुलिस 18 से 19 घंटे तक रोज पूछताछ करके मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रही है.

 

कोर्ट में इंद्राणी को चक्कर भी आया. बेटी विधि जो कि कोर्ट में मौजूद थी वह रो पड़ी. उधऱ पुलिस ने हत्या की कोशिश का एक और केस इंद्राणी पर दर्ज किया है. शीना के भाई मिखाइल की हत्या की कोशिश में पुलिस ने केस दर्ज किया है.

 

पुलिस को रिमांड क्यों मिली ?

 

पुलिस की तरफ से कोर्ट में सरकारी वकील लक्ष्मण राठौड़ ने तीन बजे दलील रखनी शुरू की. सरकारी वकील ने कहा कि अभी ये पता लगाना है कि शीना की हत्या के लिए पेट्रोल-माचिस कहां से खरीदी ?

शीना के कपड़े और मोबाइल का आरोपियों ने क्या किया ?

हत्या का मकसद साबित करना है

मिखाइल को जहर देने की साजिश का पता लगाना है

साजिश में शामिल लोग दूसरे राज्य के भी हो सकते हैं

आरोपी संजीव खन्ना का पासपोर्ट बरामद करना है

आरोपियों के ऑफिस की तलाशी लेनी है

आरोपियों के बीच किसी तरह के पैसे का लेन-देन का पता करना है…

 

सरकारी वकील की दलीलों के बाद इंद्राणी और संजीव खन्ना के वकीलों ने पुलिस रिमांड का विरोध करते हुए दलील दी कि अब तक सात दिन की रिमांड दी जा चुकी है. आरोपियों को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ की जा चुकी है और गवाहों के सामने भी पूछताछ हो चुकी है इसलिए अब और पुलिस रिमांड की जरूरत नहीं है. इन्हें जेल भेज दिया जाए.

 

इंद्राणी की वकील गुंजन मंगलम ने शिकायत की. कोर्ट के आदेश के बावजूद इंद्राणी से मिलने नहीं दिया जा रहा. इंद्राणी से एक मिनट के लिए भी अकेले में बात करने नहीं दिया जा रहा. इंद्राणी से रोज 18-19 घंटे की पूछताछ मानसिक प्रताड़ना है.

 

आरोपी संजीव खन्ना के वकील ने कोर्ट में कहा कि जांच टीम से ज्यादा मीडिया को केस के बारे में बता है. सिर्फ फॉरेंसिक रिपोर्ट का इंतजार है इसिलए अभी और पुलिस रिमांड देने की जरूरत नहीं है.

 

जज ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद सवा तीन बजे फैसला देना शुरू किया और तीनों आरोपियों को पांच दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया.

 

अब पुलिस को रिमांड पर पांच दिन और मिले हैं और पुलिस के सामने गुनाह की कड़ियों को जोड़ने की चुनौती है. मर्डर मिस्ट्री का दायरा मुंबई से कोलकाता तक. और देहरादून से बांग्लादेश तक पहुंच चुका है. पुलिस पर भी जल्द से जल्द इस हाईप्रोफाइल मर्डर से पर्दा हटाने का दबाव है लेकिन बड़ा सवाल ये है कि साल की सबसे बड़ी मिस्ट्री का राज पूरी तरह से खुल पाएगा .

शिकंजे में ‘सुपारी किलर’, इंद्राणी ने रची थी बेटी के साथ बेटे के कत्ल की साजिश!

हाईप्रोफाइल शीना मर्डर केस का राज बरकरार है. न तो हत्या के मकसद का पता चला है, न ही हत्या के आरोपियों का गुनाह साबित हुआ है. अब इस मामले में नया खुलासा हुआ है. बेटी शीना की हत्या की आरोपी इंद्राणी पर बेटे मिखाइल की भी हत्या की साजिश का आरोप लग रहा है.

 

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक इंद्राणी ने मिखाइल को मारने के लिए एक बार नहीं बल्कि चार बार कोशिश की थी. लेकिन हर बार नाकाम रही. इंद्राणी ने एक सुपारी किलर को इसके लिए काम पर भी लगाया था. मुंबई पुलिस ने सुपारी किलर को हिरासत में लिया है. जिसने इंद्राणी से ढाई लाख लेने की बात कबूल की है. पुलिस जल्द ही इंद्राणी के सामने बिठाकर सुपारी किलर से पूछताछ करने वाली हैं.

 

सुपारी किलर के मुताबिक इंद्राणी ने मिखाइल को पुणे के मेंटल हॉस्पिटल भी भिजवाया था. मिखाइल ने दावा किया है कि जिस दिन शीना की हत्या की गई थी उस दिन भी उसे मारने की कोशिश इंद्राणी ने की थी लेकिन वो बच निकला था.

 

संजीव खन्ना ने किए कई खुलासे

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक पुलिस पूछताछ में संजीव खन्ना ने एक औऱ चौंकाने वाला खुलासा किया है. संजीव खन्ना ने बताया कि उसे आशंका की थी शीना, राहुल और मिखाइल उसकी बेटी विधि को मारने की कोशिश कर सकते हैं. हालांकि रिपोर्ट में इस बात का जिक्र नहीं है कि संजीव खन्ना ने विधि की हत्या की साजिश की आशंका क्यों जताई है. विधि इंद्राणी की ही बेटी है जो संजीव खन्ना से शादी के बाद हुई थी. संजीव खन्ना इंद्राणी के साथ शीना की हत्या का आरोपी है.

 

मिखाइल वोरा भी आरोप लगा चुके हैं कि उन्हें मारने की कोशिश की गई थी. पुलिस सूत्रों के मुताबिक संजीव खन्ना ने इंद्राणी मुखर्जी के एक और गुनाह का खुलासा करते हुए पुलिस को बताया है कि जिस दिन शीना बोरा की हत्या की गई, उसी दिन उसके भाई मिखाइल बोरा को भी मारने की साजिश रची गई थी.

 

पुलिस सूत्रों के मुताबिक संजीव खन्ना ने बताया है कि 24 अप्रैल 2012 को मिखाइल को शराब में नशीली चीज मिलाकर पिलाया गया था . बाद में जब संजीव खन्ना और इंद्राणी शीना की लाश को ठिकाने लगाने के लिए रायगड के लिए निकले तो मिखाइल टैक्सी पकड़कर एयरपोर्ट चला गया और इस तरह उसकी जान बच गई .

 

पुलिस सूत्रों के मुताबिक संजीव खन्ना ने बताया है कि मिखाइल शुरू से इंद्राणी के निशाने पर था और उसने मिखाइल को एक महीने के लिए पागलखाना भी भेज दिया था. गौरतलब है कि खुद मिखाइल ने भी दावा किया है कि शीना के साथ साथ उसकी हत्या की भी कोशिश की गई थी .

 

शीना को कार में मारना प्लान ‘C’ था

सूत्रों से खबर आ रही है कि शीना की हत्या के लिए इंद्राणी और संजीव खन्ना ने दो औऱ प्लान भी बनाए थे. जिस तरह कार में उसकी हत्या की गई वो तीसरा प्लान यानी प्लान ‘C’ था. शीना को मारने का पहला प्लान ‘A’ राहुल मुखर्जी के घर में मारने का था जबकि दूसरा यानी प्लान ‘B’ पीटर मुखर्जी और इंद्राणी के घर में खत्म करने का था.

 

संजीव खन्ना ने इंद्राणी से कहा कि शीना को राहुल मुखर्जी के घर में मार दिया जाए जहां वो राहुल के साथ अक्सर रहती थी. इसका आरोप राहुल मुखर्जी पर आएगा. इंद्राणी इस प्लान पर राजी नहीं हुई. इसके बाद संजीव खन्ना ने कहा कि शीना को वर्ली के उस घर में मार दिया जाए जहां पीटर मुखर्जी और इंद्राणी रहते थे. पीटर उस समय लंदन में थे. इंद्राणी ने कहा कि हमें किसी ने देख लिया तो पहचान लेगा. प्लान ‘A’ और ‘B’ पर इंद्राणी राजी नहीं हुई दोनों ने कार में शीना की हत्या की योजना बनाई. यानी जिस तरह कार में शीना की हत्या हुई वो इंद्राणी और संजीव खन्ना का प्लान ‘C’ था.

 

कोलकाता में है इंद्राणी का पहला पति सिद्धार्थ

टेलीग्राफ अखबार ने भी सिद्धार्थ दास की मां मायारानी दास से बात की है जो गुवाहाटी से 380 किलोमीटर दूर करीमगंज में रहती हैं. सिद्धार्थ दास की मां ने ‘द टेलीग्राफ’ से कहा है, ‘हम शिलॉन्ग में रहा करते थे, 1989 में सिद्धार्थ एक दिन इंद्राणी को लेकर आया, साथ में 9 महीने की बच्ची शीना थी. उसने कहा था कि इंद्राणी उसकी पत्नी और शीना उसकी बेटी है. द टेलीग्राफ से सिद्धार्थ दास की मां ने कहा, ‘सिद्धार्थ ने 1990 में मिखाइल के जन्म होने की जानकारी दी थी. मिखाइल के जन्म से पहले इंद्राणी और सिद्धार्थ का रिश्ता 1989 में टूट गया.’

 

सिद्धार्थ दास की मां मायारानी दास ने बताया कि पिछले 8 सालों से सिद्धार्थ से कोई संपर्क नहीं हुआ है. सिद्धार्थ दास अपनी दूसरी बीवी और एक बच्चे के साथ कोलकाता में कहीं रहता है. सिद्धार्थदास की मां अपने छोटे बेटे शांतनु के साथ करीमगंज में रहती है.

 

 

ड्राइवर के घर से फोटो बरामद

ड्राइवर के घर से पुलिस ने शीना की फोटो बरामद की है. साथ ही ड्राइवर रात भर वर्ली वाले घर पर ही था जब लाश गाडी में थी. पुलिस इस दौरान हिलटाप होटल के सीसीटीवी विजुअल्स की कोशिश कर रही है लेकिन होटल का कहना है कि वो एक साल से ज्यादा का रिकार्ड नहीं रखते.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Sheena Bora murder case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017