आखिर कैसे खुली तीन साल पुराने शीना मर्डर केस की फाइल?

By: | Last Updated: Sunday, 30 August 2015 4:24 PM

नई दिल्ली: शीना मर्डर केस के खुलासे के छह दिन बाद पता चला है कि एक महिला के फोन से मुंबई के हाईप्रोफाईल मर्डर मिस्ट्री खुली थी. जी हां, ये फोन मुंबई के पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया को आया था. इस केस के खुलने की दो कहानियां हैं. आइए आपको तफ्सील से बताते हैं कैसे खुला मुंबई का हाइप्रोफाईल मर्डर केस.

 

मुंबई का खार इलाका, पुलिस के आधिकारिक बयान के मुताबिक यहां पर जब पुलिस पेट्रोलिंग कर रही थी तभी, एक शख्स पुलिस को देखकर भागने लगा. पुलिस ने उसका पीछा किया और पकड़ा तो उसके पास एक रिव्हाल्वर और तीन जिंदा कारतूस मिले. ये श्ख्स था राय, उसकी पुछताछ में उसने बताया की उसने पहले एक हत्या की है. और इस तरह सामने शीना के कत्ल का पहला राज. ये शख्स कोई और नही इंद्रानी का ड्राईवर था.

 

पुलिस के मुताबिक शीना मर्डर केस खुलने की यही कहानी है कि ड्राइवर की गिरफ्तारी के बाद इंद्राणी पर नजर रखी जाने लगी और उसे गिरफ्तार किया गया लेकिन क्या यही कहानी है शीना मर्डर केस खुलने की.

 

क्या इतनी आसानी से शीना मर्डर केस का खुलासा हो गया

दरअसल इस केस के खुलने की असली कहानी एक महिला के फोन से शुरू होती है. इस महिला ने ये फोन किया था मुंबई के पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया को और कहा, ”शीना पिछले दो-तीन साल से गायब है और उसकी मां इंद्राणी मुखर्जी ये दावा करती है कि वो अमेरिका में है लेकिन उसका पासपोर्ट यहीं भारत में है. इसमें गड़बड़ है, आप इसकी जांच कराइए.

 

अमुमन कई पुलिसवाले ऐसे फोन को भूल जाते है या कारवाई नही करते, लेकिन राकेश मारिया ने इस फोन पर गंभीरता से लिया. गंभीरता से नहीं लिया बल्कि इससे भी आगे बढकर उन्होंने तबादले के वक्त अपने एक खास अफसर का खार पुलिस थाने मे तबादला किया. ताकी इतने बडे हाईप्रोफाईल केस के बारे मे किसी को कोई पता ना चले. ये अफसर ही शीना मर्डर केस के इनवेस्टीगेटींग अफसर है. इस अफसर का नाम है दिनेश कदम.

 

कौन है दिनेश कदम ?

इंस्पेक्टर दिनेश कदम मुंबई पुलिस में राकेश मारिया के ब्लू आईड बॉय के तौर पर जाने जाते है. कदम हर जगह राकेश मारिया के साथ रहे है. जब राकेश मारिया मुंबई पुलिस के ज्वाईट कमिश्नर क्राईम थे तब कदम क्राईम ब्रांच मे थे और जब राकेश मारिया चीफ के तौर पर गए तो कदम भी एटीएस मे.

 

राकेश मारिया और दिनेश कदम का साथ 1993 के बम धमाके की जांच से है तब कदम ट्रेनी पीएसआई थे, बाद में क्राईम ब्रांच मे रहते इंडियन मुजाहिदीन के 21 आंतकवादियो को पकडने का केस हो या, गेटवे ऑफ इंडिया का ट्वीन ब्लास्ट, कदम ने कई बडे केस मे राकश मारिया के साथ रहे. इसी क़डी मे जुड गया है एक और हाई प्रोफाईल शीना मर्डर केस. 

 

पुलिस कमिशअनर को फोन करने वाली महिला कौन?

क्या शीना की किसी फ्रेंड ने कॉल किया या बॉयफ्रेंड राहुल ने किसी लड़की के जरिये कॉल करवाया, क्योंकि शीना के पासपोर्ट राहुल के रिश्तेदार के घर से बरामद हुआ.

कहा जा रहा है कि दो महीने तक पुलिस की नजर में इंद्राणी और उसके हर कदम की हलचल थी. यही नहीं इस दो महीने के दौरान पुलिस ने उसके ड्राईवर पर भी नजर रखना शुरु किया था.

 

हो सकता है कि पुलिस की गतिविधियों के बारे में ड्राईवर को शक हो गया हो और इसलिए पुलिस की पेट्रोलिंग के वक्त वो डर के मारे भागने की कोशिश की और पकड़ा गया. लेकिन हकीकत ये है कि एक महिला के फोन से ही खुली मर्डर मिस्ट्री. यानी कोई तो चाहता था कि शीना की मर्डर का राज सबके सामने आए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sheena bora murder case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017