शीना मर्डर केस: किस नेता ने रूकवाई थी जांच?

By: | Last Updated: Sunday, 30 August 2015 2:46 AM
sheena bora murder case

नई दिल्ली: शीना मर्डर केस को लेकर अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ ने बड़ा खुलासा किया है. द टेलीग्राफ के मुताबिक 2012 में शीना के शव की शिनाख्त प्रक्रिया रुकवाने के लिए रायगड पुलिस पर एक नेता ने दबाव डाला था.

 

अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ ने सूत्रों के हवाले से शीना मर्डर केस में खुलासा किया है कि साल 2012 में शीना के शव की शिनाख्त प्रक्रिया रुकवाने के लिए एक नेता ने रायगड पुलिस पर दबाव डाला था.

 

द टेलीग्राफ के मुताबिक नेता के दबाव की वजह से या किसी और वजह से रायगड पुलिस ने न तो हत्या का केस और न ही दुर्घटना का केस दर्ज किया था.

 

इस घटना के सामने आने के बाद डीजीपी संजीव दलाल ने रायगड पुलिस के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए हैं. आपको बता दें कि शीना मर्डर केस में रायगड पुलिस के खिलाफ लापरवाही बरतने को लेकर जांच होगी.

 

केवल इतना ही नहीं द टेलीग्राफ ने शीना की दो महिला दोस्तों के हवाले से खबर छापी है कि इंद्राणी मुखर्जी शीला को धीमा जहर दे रही थी.

 

दोनों दोस्तों ने अखबार से कहा कि शीना ने उन्हें 2012 की शुरुआत में ही बताया था कि वो लगातार बीमार रहती है और शायद उसे धीमा जहर दिया जा रहा है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sheena bora murder case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017