मोदी को 'चायवाला पीएम' बताने वाले बयान से उद्धव ठाकरे ने लिया यू-टर्न

By: | Last Updated: Wednesday, 15 October 2014 4:53 AM
Shiv Sena back out on PM Modi ‘Chaywala’ statement

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में आज विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग हो रही हैं. लेकिन वोटिंग से पहले महाराष्ट्र में बीजेपी औऱ शिवसेना के बीच आरोप प्रत्यारोप जारी था. कल सामना में उद्धव ठाकरे ने मोदी को चायवाला पीएम कह दिया था. ठाकरे ने कहा था, “अगर एक चाय वाला पीएम बन सकता है तो वो मुख्यमंत्री क्यों नहीं बन सकते.” लेकिन अपनी इस बात उद्धव ठाकरे ज्यादा दिन तक कायम नहीं रह पाए.

इसके बाद उद्धव ठाकरे का एक और बयान आया है जिसमें से चायवाल शब्द गायब हो गया है. इसमें पीएम मोदी को आम आदमी बताते हुए ठाकरे ने ये सवाल उठाया कि जब आम आदमी पीएम बन सकता है तो ठाकरे सीएम क्यों नहीं बन सकता है.

 

कल शिवसेना के हिंदी अखबार के संपादक प्रेम शुक्ला ने मोदी के पिता का नाम लेकर उन पर निशाना साधा था. उस बयान से भी उद्धव ठाकरे ने किनारा कर लिया.

 

आपको बता दें कि 25 साल पुराना गठबंधन टूटने के बाद बीजेपी ने कहा था कि शिवसेना के खिलाफ कुछ नहीं बोलेगी लेकिन चुनाव प्रचार खत्म होने के एक दिन पहले ही पीएम मोदी ने अप्रत्यक्ष रूप से जमकर हमला बोला था. शिवसेना तो पहले से ही बीजेपी पर निशाना साध रही है.

 

कल शिवसेना के मुखपत्र सामना में बीजेपी को अपना असली दुश्मन बताया. संपादकीय में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कल लिखा कि कांग्रेस और एनसीपी मरी हुई पार्टियां हैं, लिहाजा असली शत्रु बीजेपी है. शिवसेना ने ये भी कहा है कि सत्ता के लोभ की दुविधा में बहककर बीजेपी ने 25 साल पुराना रिश्ता तोड़ा है.

 

आपको बता दें कि सीट बंटवारे को  लेकर बीजेपी-शिवसेना का 25 साल पुराना गठबंधन टूट गया था. जिस कारण से ये दोनों दल इस बार अगल-अगल चुनाव मैदान में अपनी किस्मत आज़मा रहे हैं. आज महाराष्ट्र के मैदान में उतरे सभी उम्मीदवारों की किस्मत बैलट में बंद हो जाएगी.

 

2009 में किसे कितनी सीटें मिलीं थीं-

2009 में साथ लड़ते हुए शिवसेना को 44 और बीजेपी को 46 सीटें मिली थीं जबकि कांग्रेस को 82 और एनसीपी को 62 सीटें मिली थीं. दिलचस्प बात ये है कि विधानसभा चुनाव में दोनों गठबंधनों में कम सीटों पर लड़ने वाली पार्टियों को ज्यादा वोट मिले थे. एनसीपी को सबसे ज्यादा 40 फीसदी, कांग्रेस को 37 फीसदी, बीजेपी को 34 फीसदी और शिवसेना को 30 फीसदी वोट मिले थे.

 

महाराष्ट्र के चुनाव में ऐसा पहली बार हो रहा है जब पांच बड़ी पार्टियां चुनावी मैदान में आमने सामने होंगी . गठबंधन होने की वजह से अब तक त्रिकोणीय मुकाबला होता रहा है . लेकिन इस बार सभी सीटों पर पांच बड़ी पार्टियों का मुकाबला है इसलिए मामूली अंतर से भी जीत हार का फैसला हो सकता है

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Shiv Sena back out on PM Modi ‘Chaywala’ statement
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017