विशेष सुविधा चाहिए तो पाकिस्तान जाएं मुसलमान: शिव सेना

By: | Last Updated: Tuesday, 3 March 2015 7:33 AM

मुंबई/नई दिल्ली: शिवसेना ने यहां मंगलवार को कहा कि भारत में रहने वाले मुसलमान यदि विशेष सुविधाएं चाहते हैं तो उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए. शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में कहा, “यदि वे (मुसलमान) इस देश से कुछ चाहते हैं, तो पहले भारत को अपनी मातृभूमि स्वीकार करें और ‘वंदे मातरम’ बोलें.”

 

कहा जा रहा है कि ‘सामना’ में प्रकाशित लेख एक मार्च को ऑल इंडिया इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के नागपुर में दिए गए भाषण की प्रतिक्रिया स्वरूप आया है, जहां उन्होंने महाराष्ट्र में मराठियों की तरह ही मुसलमानों को भी आरक्षण देने की मांग की थी.

 

शिवसेना ने ओवैसी की बात पर रोष जताते हुए और अपना रुख दोहराते हुए कहा कि आरक्षण की नीति सामाजिक मानदंडों पर आधारित होनी चाहिए, न कि धर्म के तर्ज पर.

 

शिवसेना ने कहा, “गरीब मुसलमानों को आरक्षण दिया जाना चाहिए. इसलिए नहीं कि वे मुसलमान हैं, बल्कि इसलिए कि वे भारत का नागरिक है.”

 

पार्टी ने सभी लोगों से, खासकर हिन्दुओं और मुसलमानों से यह विचारधारा को अपनाने की अपील करते हुए कहा कि इससे ही वोट बैंक एवं आरक्षण की राजनीतिक खत्म हो सकती है और देश की प्रगति में मदद मिल सकती है.

 

शिवसेना ने कहा, “ओवैसी कह रहे हैं कि चूंकि मराठी लोगों को आरक्षण मिला है, तो मुसलमानों को भी मिलना चाहिए. यह कट्टर मुसलमानों का वही हिंदू विरोधी जिद्दी रवैया है, जिसकी वजह से भारत का विभाजन हुआ था और उन्होंने पाकिस्तान बनाया था. लेकिन अब और नहीं.”

 

‘सामना’ में प्रकाशित लेख में कहा गया कि मुसलमानों को समान नागरिक संहिता स्वीकार करनी होगी, परिवार नियोजन अपनाना होगा और जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 की मांग छोड़नी होगी.

 

ओवैसी के भाषण को ‘राष्ट्र-विरोधी’ करार देते हुए शिवसेना ने इसकी जांच कराए जाने की मांग की कि कहीं उन्होंने महाराष्ट्र में सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए तो इस तरह का बयान नहीं दिया. पार्टी ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से इस पर मुद्दे पर कार्रवाई करने की मांग की.

 

ओवैसी ने सोमवार को दिया विवादित बयान

प्रत्येक हिंदू महिला को धर्म की रक्षा के लिए चार बच्चे पैदा करने की सलाह संबधी बयान देने वाले भाजपा नेता साक्षी महाराज का नाम लिये बिना तेलंगाना विधानसभा में एमआईएम के नेता ओवैसी ने कहा कि उन्हें बताना चाहिए कि बच्चों को शिक्षा और नौकरी देने के संबंध में क्या पर्याप्त संसाधन हैं.

 

उन्होंने यहां दारुस्सलाम में अपनी पार्टी के मुख्यालय में उसके 57वें स्थापना दिवस पर आयोजित सभा में कहा, ‘‘संघ प्रचारक कभी शादी नहीं करेंगे. यह संघ नहीं बल्कि कुंआरों का क्लब है. वे कभी शादी नहीं करते और जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं हैं. वे कभी जिंदगी की समस्याओं का सामना नहीं करते, पत्नी और बच्चों की दिक्कतों को नहीं झेलते लेकिन दूसरों को चार बच्चे पैदा करने की सलाह देते हैं.’’

 

 

 

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: shivsena_on_muslims_special_treatment
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017