42 साल बाद आई है ऐसी श्री कृष्ण जन्माष्टमी

By: | Last Updated: Saturday, 5 September 2015 3:51 AM
shri krishna janmashtami

नई दिल्ली : आज कृष्ण जन्माष्टमी यानि कि भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव है. आज के ही दिन श्रीकृष्ण ने अपना अवतार भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को कंस का विनाश करने के लिए मथुरा में लिया था. इसीलिए श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर पूरी मथुरा नगरी भक्ति के रंगों से सराबोर हो उठती है.

42 साल बाद ऐसी श्री कृष्ण जन्माष्टमी का संयोग बना है कि इस त्यौहार को रोहिणी नक्षत्र में मनाया जाएगा. इसलिए इस बार की कृष्ण जन्माष्टमी विशेष भी है. गौरतलब है कि भगवान श्रीकृष्ण का जन्म इसी नक्षत्र में हुआ था और यह दुर्लभ संयोग कई दशक बाद बन रहा है. ज्यातिषाचार्यों के अनुसार इस दिन कई अद्भुत योग भी बन रहे हैं.

 

कृष्ण जन्मभूमि पर देश–विदेश से लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है. कृष्ण जन्मभूमि के अलावा द्वारकाधीश, बिहारीजी एवं अन्य सभी मन्दिरों में इसका भव्य आयोजन होता है, जिनमें भारी भीड़ उमड़ती है. ऐसी मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण विष्णुजी के आठवें अवतार है.

 

श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर मथुरा कृष्णमय हो जाता है. मंदिरों को खास तौर पर सजाया जाता है. जन्माष्टमी में स्त्री-पुरुष बारह बजे तक व्रत रखने है. इस दिन मंदिरों में झांकियां सजाई जाती है और भगवान कृष्ण को झूला झुलाया जाता है और रासलीला का आयोजन होता है.

 

 

 

यह भी पढ़ें –

जन्माष्टमी पर जानें क्यों दुर्लभ हैं ‘राधा वल्लभ’ के दर्शन

जहां राधा में कृष्ण हैं और कृष्ण में राधा, वो है वृंदावन का श्री बांके बिहारी मंदिर 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: shri krishna janmashtami
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017