सियाचिन में जिंदा बचे जवान हनुमंथप्पा से मिले पीएम मोदी, आपकी दुआ की है जरूरत

By: | Last Updated: Tuesday, 9 February 2016 3:43 PM
Siachen miracle: 6 days after the avalanche, 1 Indian soldier rescued from under 25 ft of snow

जम्मू: सियाचिन हिमनद में हिमस्खलन के बाद 25 फुट मोटी बर्फ की परत के नीचे दबा सेना का एक जवान आज चमत्कारिक रूप से छह दिनों बाद जिंदा मिला. उसकी हालत गंभीर है. उसे दिल्ली में स्थित सेना के अस्पताल आर.आर. हास्पिटल में भर्ती कराया गया है. दोपहर बाद उससे मिलने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पहुंचे. सेनाध्यक्ष जनरल दलबीर सिंह सुहाग भी अस्पताल में मौजूद हैं.

दिल्ली में अधिकारियों ने कहा कि हनुमानथप्पा की हालत नाजुक है.

हनुमनथप्पा से मिलने के बाद पीएम मोदी ने कहा कि वह अभूतपूर्व सैनिक हैं जिनके अदम्य साहस और धर्य को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है.

मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘लांस नायक हनुमनथप्पा के अदम्य साहस और धर्य को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘ डाक्टरों का दल लांस नायक हनुमनथप्पा का उपचार कर रहा है. हम सभी उम्मीद करते हैं और अच्छे के लिए प्रार्थना कर रहे हैं. ’’

सेना के सूत्रों ने कहा कि लांस नायक हनुमनथप्पा की हालत नाजुक लेकिन स्थिर है और अस्पताल में उनके कई परीक्षण हो रहे हैं.

अस्पताल जाने से पहले मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘ सम्पूर्ण देश की प्रार्थनाओं के साथ लांस नायक हनुमनथप्पा को देखने जा रहा हूं. ’’

इससे पहले बर्फ से निकाले जाने के बाद उन्हें सियाचिन हिमनद स्थित सेना के आधार शिविर में लाया गया था और वहां से उन्हें एक विशेष एयर एंबुलेंस में दिल्ली लाया गया.

IN PICS: सियाचिन में चमत्कार, 6 दिन बाद जिंदा निकले 25 फुट बर्फ में दबे हनमन थप्पा 

जवान हुबली से 50 किलोमीटर दूर थप्पा गांव के रहने वाले हैं. घर पर मां, पत्नी और एक बेटी है. परिवार में चार भाई भी हैं. डेढ़ साल पहले ही पिता की मौत हो चुकी है. पत्नी ने कहा कि उसने सभी देवताओं के मन्नत मांगी थी. उसे ईश्वर पर पूरा विश्वास था.

ग़ौरतलब है कि हिमस्खलन में मद्रास रेजिमेंट के एक जुनियर कमिशन अधिकारी समेत नौ लोगों की दुखद मौत हुई है. अब तक पांच शव निकाले गए हैं जिनमें से चार की पहचान कर ली गई है.

इससे पहले उत्तरी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल डी एस हुड्डा ने बताया, ‘‘एक चमत्कारिक बचाव अभियान था. आज सुबह लांस नायक हनुमंथप्पा को आर आर अस्पताल ले जाने के लिए सभी प्रयास किये गए.’’

उन्होंने बताया, ‘‘अब तक पांच शव बरामद किये जा चुके हैं और चार की पहचान हो चुकी है. दुखद है कि अन्य सैनिक हमारे साथ नहीं हैं.’’ उन्होंने उम्मीद जतायी कि कर्नाटक के रहने वाले थापा के साथ एक और चमत्कार हो.”

ABP News Special: भारत के लिए क्यों खास है सियाचिन?

पाकिस्तान से लगी नियंत्रण रेखा के करीब 19000 फुट की उंचाई पर चौकी के हिमस्खलन की चपेट में आने से एक जुनियर कमिशंड अधिकारी (जेसीओ) और मद्रास रेजिमेंट के अन्य नौ अधिकारी जिंदा दफन हो गए थे. यहां पर तापमान शून्य से 45 डिग्री सेल्सियस नीचे रहता है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Siachen miracle: 6 days after the avalanche, 1 Indian soldier rescued from under 25 ft of snow
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017