सिख दंगा केस: अमिताभ बच्चन का बयान- याद नहीं कि दंगों के दौरान टाइटलर तीन मूर्ति हाउस में थे या नहीं

By: | Last Updated: Wednesday, 3 June 2015 6:15 AM
sikh_danga_jagdish_tytler

नई दिल्ली: 1984 के दिल्ली सिख दंगा के केस में कांग्रेस के पूर्व सांसद जगदीश टाइटलर की परेशानी बढ़ सकती है. गवाहों को प्रभावित करने के आरोप में कोर्ट ने सीबीआई से जवाब मांगा है. सीबीआई ने कोर्ट से जवाब देने के लिए वक्त मांगा है. इस मामले में अब अगली सुनवाई 26 जून को होगी.

 

इस केस में पहली बार अभिनेता अमिताभ बच्चन का बयान सामने आया है. दंगे के केस में अमिताभ बच्चन का बयान सीबीआई ने 2013 में दर्ज किया था. सीबीआई ने कोर्ट में टाइटलर को क्लीन चिट देते हुए जो क्लोजर रिपोर्ट दी है उसके साथ अमिताभ का बयान दर्ज है. आज वो बयान सामने आया है. टाइटलर के खिलाफ केस बंद करने का दंगा पीड़ितों ने विरोध किया है.

 

अमिताभ बच्चन का 15 जून 2013 को इस मामले में दिया बयान आज सामने आया है, ”31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गांधी को गोली लगने की खबर के बारे में पता चला. मैं दिल्ली में अपने पिता के घर गुलमोहर पार्क में था. मैं फौरन 1, सफदरजंग रोड पहुंचा जहां गोली चली थी. पहुंचने पर पता चला कि उन्हें एम्स ले जाया गया है. मैं, आर के धवन, अरुण नेहरू राजीव गांधी को लाने सफदरजंग एयरपोर्ट रवाना हुए. वहां से वापस सारे लोग एम्स पहुंचे. उकी मौत हो गई थी. मेरी याददाश्त के मुताबिक उनका शव एम्स से तीन मूर्ति हाउस ले जाया गया. मैं 3 नवंबर दिल्ली में रहा. समय-समय पर तीनमूर्ति हाउस जाता रहा. मैं उनके अंतिम संस्कार के समय भी मौजूद था.”

सिख दंगा केस में अमिताभ का बयान  

जगदीश टाइटलर के पर अमिताभ ने अपने बयान में कहा है, ”मैं जगदीश टाइटलर को जानता हूं, वो संजय गांधी के दोस्त थे. संजय के घर जाने पर उनसे मेरी मुलाकात होती थी. 1 नवंबर से 3 नवंबर के बीच तीनमूर्ति हाउस में कई लोग आते रहे लेकिन मुझे याद नहीं कि टाइटलर मौजूद थे या नहीं.”

 

कोर्ट में क्या हुआ?

अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट एस पी एस लालेर ने एजेंसी द्वारा दंगा मामलों में आगे जांच के दौरान जेल में बंद कारोबारी अभिषेक वर्मा के दर्ज बयान पर सीबीआई से जवाब देने को कहा है.

 

टाइटलर के खिलाफ मामले में सीबीआई द्वारा मामला बंद करने की रिपोर्ट दायरे करने के संबंध में दलीलों पर सुनवाई करने वाली अदालत ने अब इस मामले की सुनवाई की अगली तारीख 26 जून निर्धारित की है.

सुनवाई के दौरान दंगा पीड़ितों का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता एच एस फुल्का ने अदालत को बताया कि वर्मा ने अपने बयान में सीबीआई को बताया था कि टाइटलर ने कथित तौर पर इस मामले में मुख्य गवाह सुरेन्दर कुमार ग्रंथी के साथ सौदेबाजी की थी.

 

वर्मा ने सीबीआई को बताया था कि सौदेबाजी के तहत सुरेन्दर (जिसकी मृत्यु हो चुकी है) को भारी रकम दी गई थी और उसके पु़त्र नरेन्दर सिंह को विदेश में बसा दिया गया था. टाइटलर ने मुझे (वर्मा) यह भी बताया कि उन्होंने नरेन्दर पर इस बात के लिए दबाव डाला कि वह अपने पिता सुरेन्दर पर जगदीश टाइटलर के पक्ष में बयान बदलने के लिए दबाव डाले.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sikh_danga_jagdish_tytler
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017