पीएम मोदी के आर्थिक विश्लेषण को येचुरी ने बताया 'जुमलानोमिक्स'

पीएम मोदी के आर्थिक विश्लेषण को येचुरी ने बताया 'जुमलानोमिक्स'

माकपा ने देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बताने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आर्थिक विश्लेषण को ‘‘जुमलानोमिक्स’’ करार देते हुये उनके द्वारा पेश आंकड़ों की विश्वसनीयता पर सवाल उठाये हैं.

By: | Updated: 05 Oct 2017 10:39 AM
नई दिल्ली : माकपा ने देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बताने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आर्थिक विश्लेषण को ‘जुमलानोमिक्स’ करार देते हुए उनके द्वारा पेश आंकड़ों की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए हैं.

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने देश की अर्थव्यवस्था के बारे में आज प्रधानमंत्री मोदी के विस्तृत वक्तव्य पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उनके दावों को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया.  आर्थिक मंदी के बारे में मोदी के दावे को गलत बताते हुए उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था में मंदी का दौर सिर्फ एक तिमाही से नहीं है बल्कि यह दौर पिछली छमाही से जारी है.

येचुरी ने ट्वीट कर कहा ‘‘पीएम के जुमालानोमिक्स भाषण में आरबीआई के जीवीए अनुमान को 6.7 प्रतिशत से उन्होंने बदल कर 7.7 प्रतिशत कर दिया.





भाषण में उनके द्वारा पेश आंकड़ों पर आप कैसे विश्वास कर सकते हैं.’’ उन्होंने अर्थव्यवस्थ के हर मोर्चे पर सब कुछ ठीक होने के मोदी के दावों पर सवाल पूछा कि नोटबंदी से हुयी तबाही तथा जीएसटी के कुप्रबंधन या अप्रत्यक्ष कर की ऊंची दर से हुये नुकसान के लिये कौन जिम्मेदार है.

इतना ही नहीं येचुरी ने मोदी को बेरोजगारी के मामले में भी घेरते हुये पूछा कि आपने रोजगार के 10 करोड़ नये अवसर मुहैया कराने का वादा किया था जबकि भारत में लोग अपनी नौकरियां गंवा रहे हैं.

किसानों की बदहाली का जिक्र करते हुये येचुरी ने कहा कि अपना वाजिब हक मांगने वाले किसानों को गोली मारी जा रही है जबकि सांठगांठ करने वाले पूंजीपतियों का कर्ज आसानी से माफ हो जाता है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story नतीजों से पहले चली 'शॉटगन', कहा- ताली कप्तान को तो गाली भी कप्तान को