एनएसए स्तर की बातचीत टूटने के बाद कांग्रेस ने सरकार को घेरा

By: | Last Updated: Sunday, 23 August 2015 1:49 PM
slams Govt’s ‘clumsiness’ in dealing with Pak

नई दिल्ली: कांग्रेस ने आज एनडीए सरकार पर आरोप लगाया कि उसने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) स्तर की बातचीत के मुद्दे पर पाकिस्तान के मनमाफिक काम किया और उसे आतंकवाद पर वार्ता से बचने का मौका दे दिया.

 

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत सरकार ने अस्पष्ट होकर, तैयारी नहीं करके, ध्यान केंद्रित करने के अभाव, और जमीनी स्तर की पर्याप्त तैयारी नहीं करके पकिस्तान के मनमाफिक काम किया है.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘हम बहुत दुखी हैं कि पिछले 10 वर्षों में कुछ मुद्दों को लेकर भारत-पाकिस्तान गतिरोध दूर करने पर हुई प्रगति को ऐसी वार्ता के निरस्त हो जाने से झटका लगा है. पाकिस्तान को ऐसा कोई मौका नहीं दिया जाना चाहिए था जिससे वह आतंकवाद जैसे गंभीर मुद्दे पर बातचीत से बच पाता.’’

 

कांग्रेस नेता ने कहा कि रविवार रात पाकिस्तान की ओर से रद्द की गई एनएसए स्तर की वार्ता के बाद लोग बहस कर रहे हैं कि यह भारत की विदेश नीति की मजबूती के लिए ठीक नहीं है जो मेलपिलाप, निरंतरता और स्थिरता पर आधारित है.

 

सिंघवी ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि सरकार को अपने हालात दुरूस्त करने की जरूरत है. उसे यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि अचानक से कई एजेंसियां जिन्होंने भारतीय विदेश नीति बनाना शुरू कर दिया है उसे देखते हुए या तो बहुलता को खत्म किया जाए अथवा इन सभी एजेंसियों में संपूर्ण एकता और मेलपिलाप सुनिश्चित किया जाए ताकि वे एक आवाज में बात कर सकें.’’

 

पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि यह स्पष्ट है कि इस्लामाबाद आतंकवाद से जुड़े सभी मुद्दों से भाग निकलना चाहता है क्योंकि वह सूचना के आदान-प्रदान अथवा दूसरे किसी मुद्दे पर चर्चा नहीं चाहता है.

 

 

जानें एनएसए स्तर की बातचीत में अब तक क्या हुआ

पाकिस्तान शुरूआत से ही अड़ियल रुख अपनाए हुए था. 10 जुलाई को उफा समझौते में तय हो गया था कि दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की मीटिंग केवल आतंकवाद के मुद्दे पर ही होगी. लेकिन पाकिस्तान बैठक में कश्मीर के मुद्दे को शामिल करने और अलगाववादियों से मिलने पर अड़ा था.

 

पाकिस्तान की इस मांग पर भारत ने दो टूक कह दिया था कि अगर पाकिस्तान आतंकवाद के अलावा किसी और मुद्दे पर चर्चा करना चाहता है तो बातचीत नहीं होगी. पाकिस्तान इसी मौके की तलाश में था और उसने बैठक में शामिल होने से इंकार कर दिया. जाहिर है पाकिस्तान की नीयत में शुरु से खोट था और वो एनएसए स्तर की बात से हटने की हर मुमकिन कोशिश कर रहा था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: slams Govt’s ‘clumsiness’ in dealing with Pak
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017