पहले पीएमओ ने दिया झटका, अब चार सांसदों ने स्मृति ईरानी के खिलाफ खोला मोर्चा

By: | Last Updated: Friday, 17 April 2015 10:56 AM

नई दिल्ली: चार सांसदों ने शिक्षा मंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय के कामकाज में दखल देने की मांग की है. पीएम और राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखने वाले सांसद हैं, जेडीयू के केसी त्यागी, एनसीपी के डीपी त्रिपाठी, सीपीआई के डी राजा और कांग्रेस के राजीव शुक्ल. राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से शिकायत करने वालों में से एक केसी त्यागी का कहना है कि बेहतर होगा कि स्मृति ईरानी का विभाग ही बदल दिया जाए.

 

 

 

शिक्षा मंत्री स्मृति ईरानी को झटका लगा है . सूत्रों के मुताबिक पीएमओ ने स्मृति ईरानी के ओएसडी संजय काचरू की नियुक्ति पर रोक लगा दी है. काचरू अब मंत्रालय आ भी नहीं रहे हैं. काचरू के बारे में आईबी ने रिपोर्ट दी थी कि संजय काचरू अब भी अपनी कंपनी के संपर्क में थे. रिपोर्ट के बाद काचरू की नियुक्ति की फाइल रूक गई थी. हलाकि हमने संजय काचरू और स्मृति ईरानी दोनों से इस खबर की पुष्टि करनी चाही लेकिन किसी से जवाब नहीं मिला. न तो मंत्रालय की तरफ से कोई प्रतिक्रिया आई है और न ही संजय काचरू ने मीडिया से बात की है. बस इस बात की पुष्टि हुई है की उन्होंने मंत्रालय आना बंद कर दिया है.

 

सूत्रों के मुताबिक मंत्रालय में स्मृति ईरानी के OSD के तौर पर काम काज देख रहे संजय कचरू के अपॉइंटमेंट पर PMO की तरफ से रोक लगा दी गयी है. यही वजह है की संजय कचरू ने मंत्रालय आना छोड़ दिया है. बताया ये जा रहा है की उनका आधिकारिक अपॉइंटमेंट लैटर DOPT की तरफ से आना था. पर उससे पहले उनसे जुडी कुछ फ़ाइल PMO ने DOPT से मांगी थी. जिसमें IB की तरफ से एक रिपोर्ट भी थी कि संजय काचरू अब भी अपने पुराने कॉर्पोरेट ऑफिस के संपर्क में है. जिसके बाद हे उनके अपॉइंटमेंट की फ़ाइल अटक गयी.

 

गौरतलब है कि स्मृति ईरानी के साथ जुड़ने के पहले संजय कचरू काफी समय तक देश के बड़े कॉर्पोरेट घराने में बड़े पद पर काम कर रहे थे. यही वजह थी की उनकी नियुक्ति से जुडी फ़ाइल को स्वीकृति नहीं मिली थी. IB की रिपोर्ट के बाद भी उनकी नियुक्ति होने पर सन्देश ये जाता की सरकार कार्पोरेट घरानों पर मेहरबान है. इतना ही नहीं कनफ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट का भी मामला बन रहा था. इसलिए ऐसा फैसला लिया गया.

 

हालांकि इस बावत हमने संजय काचरू और स्मृति ईरानी दोनों से इस मसले पर खबर की पुष्टि करनी चाही लेकिन किसी से जवाब नहीं मिला. न तो मंत्रालय की तरफ से कोई प्रतिक्रिया आई है और न ही संजय काचरू ने मीडिया से बात की है. बस इस बात की पुष्टि हुई है कि उन्होंने मंत्रालय आना बंद कर दिया है.

 

इस खबर को इसलिए भी महतवपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि विवादों में रहने वाली मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति की पहले बीजेपी नेशनल एग्जिक्यूटिव से छुट्टी हुई. जिसके बाद इसे उनके सरकार में गिरते कद के साथ जोड़ कर देखा जा रहा था. अब उनकी तरफ से OSD के पद पर नियुक्ति के लिए जिस आदमी का नाम भेजा गया उसे सरकार ने अस्वीकार कर दिया गया. यानि सरकार में स्मृति की गिरती साख का ये दूसरा सबूत. आगे चर्चा इस पर शुरू है कि जल्द होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार में उनके मंत्रालय पर भी तलवार चलेगी क्या.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: smriti irani
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: PM Modi PMO Smriti Irani
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017