बीएचयू में लाठीचार्ज की गाज अधिकारियों पर, तीन बड़े अफसर हटा गए

बीएचयू में लाठीचार्ज की गाज अधिकारियों पर, तीन बड़े अफसर हटा गए

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में छात्रों का आंदोलन तो थोड़ा शांत हुआ है लेकिन राजनीति लगातार गर्म हो रही है. वाराणसी से लेकर दिल्ली तक बीएचयू में लड़कियों पर लाठीचार्ज को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया.

By: | Updated: 25 Sep 2017 11:39 AM

नई दिल्ली: बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में आधी रात को छात्र-छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज में पहली कार्रवाई हुई है. बीएचयू के पास इलाके लंका के एसओ को लाइन हाजिर किया गया है. उनकी जगह जैतपुरा के थानाध्यक्ष संजीव मिश्रा लंका क्षेत्र के नए थानाध्यक्ष बनाए गए हैं.


लंका थाना भेलूपुर सर्किल में आता है. भेलूपुर के सर्किल ऑफिसर निवेश कटियार को भी हटा दिया गया है. इतना ही नहीं वाराणसी के अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम सुशील कुमार गोंड का कार्यभार भी बदल दिया गया है.


आंदोलन शांत लेकिन राजनीति गर्म
बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में छात्रों का आंदोलन तो थोड़ा शांत हुआ है लेकिन राजनीति लगातार गर्म हो रही है. वाराणसी से लेकर दिल्ली तक बीएचयू में लड़कियों पर लाठीचार्ज को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया. दिल्ली में कांग्रेस तो बीएचयू के बाहर एबीपीवी के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया.


bhu 3


आज एसपी का जांच पैनल जाएगा
अभी इस मामले में और भी राजनीति होने की संभावना है. समाजवादी पार्टी का 8 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल आज मामले की जांच के लिए बीएचयू आएगा. ा. इससे पहले कल कांग्रेस नेताओं को बीएचयू में घुसने से रोक दिया गया था.


कांग्रेस के दिग्गज भी मैदान में डटे
आज भी कांग्रेस नेता इस मुद्दे पर योगी सरकार को घेरने की तैयारी में हैं. कांग्रेस इस मुद्दे पर योगी सरकार से लेकर पीएम मोदी तक निशाना साध रही है. गुलाम नबी आजाद, राजबब्बर और पीएल पुनिया जैसे बड़े नेता वाराणसी में ही मौजूद रहेंगे।


कांग्रेस उपाध्य्क्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट किया, ''बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का ये भगवा पार्टी का तरीका है.'' आपको बता दें उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने घटना की जांच के आदेश दिए और रिपोर्ट मांगी है.


वीसी बोले- बाहरी लोगों ने कराई हिंसा
एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए बीएचयू के कुलपति गिरीश चंद्र ने हिंसा को बाहरी लोगों की साजिश बताया. उनका कहना है कि इस पूरे आंदोलन विश्वविद्यालय के छात्रों की सहभागिता बिल्कुल कम थी. ये काम उन लोगों का है जो विश्वविद्यालय की अप्रोच और ऑब्जेक्टिव को पसंद नहीं करते. वीसी ने माना कि 21 सितंबर को एक लड़की के साथ छेड़खानी की घटना हुई और इसकी शिकायत थाने में दर्ज कर ली गई है.


आज दिल्ली में भी होगा प्रदर्शन
बीएचयू में छात्राओं पर लाठीचार्ज करने के विरोध में छात्र संगठन एनएसयूआई आज मानव संसाधन विकास मंत्रालय का घेराव करेगा. वहीं आम आदमी पार्टी  का छात्र संगठन सीवायएसएस डीयू में आर्ट्स फैकल्टी पर बीएचयू घटना के विरोध में प्रदर्शन करेगा.


क्यों हुआ आंदोलन?
हिंसा तब हुई जब गुरुवार को हुई कथित छेड़खानी का विरोध कर रहे कुछ छात्र शनिवार रात विश्वविद्यालय के कुलपति से मिलना चाहते थे। बनारस हिंदू विश्विद्यालय में पढ़ने वाली एक छात्रा के साथ छेड़खानी हुई थी. छेड़खानी की घटनाओं के विरोध में बीएचयू की छात्राएं प्रदर्शन कर रही थीं. प्रदर्शन कर रही छात्राएं कुलपति से सुरक्षा को लेकर आश्वासन की मांग कर रही हैं.


प्रदर्शनकारी छात्राओं का आरोप है कि कुछ लड़के उनके हॉस्टल की बाहर खड़े रहते हैं. खिड़कियों से पत्थर में लेटर लिखकर भेजते हैं. इतना ही नहीं ये लड़के लड़कियों को गंदे गंदे इशारे भी करते हैं. विरोध करने पर धमकी दी जाती है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story भड़काऊ भाषण को लेकर बीजेपी विधायक और दो अन्य के खिलाफ मामला दर्ज