नेताजी की बेटी ने मोदी से गोपनीय फाइलें सार्वजनिक करने का किया अनुरोध

By: | Last Updated: Sunday, 27 September 2015 7:25 AM
Subhas Chandra Bose

कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से केंद्र के पास मौजूद नेताजी से संबंधित गोपनीय फाइलें सार्वजनिक करने की अपील की है जिससे उनके लापता होने के पीछे बना रहस्य खत्म हो.

पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से नेताजी पर हाल में 64 गोपनीय फाइलें जारी करने पर 72 वर्षीय अनिता बोस फाफ ने कहा कि उन्हें अभी दस्तावेजों की प्रतियां नहीं मिली हैं.

 

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए, मैं विषयवस्तु से अवगत नहीं हूं, खासकर उनकी मौत के बारे में कोई सूचना नहीं है.’’ उन्होंने यह भी कहा, ‘‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील करती हूं कि केंद्र के पास जो फाइलें है उसे सार्वजनिक किया जाए.’’ केंद्र सरकार के विभागों में बंद नेताजी की फाइलों को जारी करने की मांग के समर्थन में आते हुए अनिता ने पीटीआई-भाषा को एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘एक स्कॉलर होने के नाते निश्चित तौर पर मेरा मानना है कि तीस साल से ज्यादा समय से जिन फाइलों को बंद कर रखा गया है वह सार्वजनिक होना चाहिए. एक बेटी होने के नाते निश्चित तौर पर मैं यह भी मांग करूंगी कि मेरे पिता से संबंधित फाइलें सार्वजनिक होनी चाहिए.’’ बोस परिवार के सदस्य, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और कई अन्य शख्सियतें केंद्र से नेताजी की फाइलों को सार्वजनिक करने की मांग कर रहे हैं.

 

यह पूछे जाने पर कि क्या वह ब्रिटिश, रूसी और जापानी सरकारों से नेताजी पर फाइलों को सार्वजनिक करने की अपील करेंगी, अनिता ने कहा, ‘‘यह मददगार होगा, अगर भारत सरकार अन्य सरकारों से अध्ययन के लिए फाइलें उपलब्ध कराने को कहती है. कुछ देशों में ‘सूचना का अधिकार’ है. हालांकि, जब तक भारत सरकार अपनी फाइलों को सार्वजनिक नहीं करती है उन सबको कुछ कहने का आधार नहीं बनता.’’ विमान हादसे में नेताजी की मौत से जुड़े रहस्यों पर से परदा हटाने के लिए जर्मनी में रह रहीं प्रख्यात अर्थशास्त्री अनिता ने जापान के रेनकोजी मंदिर में रखी उन अस्थियों की डीएनए जांच कराने की भी मांग की जिसके बारे में माना जाता है कि वह नेताजी की है.

 

उल्लेख करते हुए कि वह मानती हैं कि अगस्त 1945 में ताइवान के ताईहोकू एयरपोर्ट में विमान दुर्घटना में उनकी मौत हो गयी जब तक कि कुछ दूसरा तथ्य साबित नहीं हो जाता. उन्होंने कहा कि अस्थियों से रहस्य पर से पर्दा हटाने में मदद मिल सकती है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर मैं चाहूंगी कि ‘रहस्य’ सुलझे. रेनकोजी मंदिर में रखी अस्थियों की डीएनए जांच के लिए भारत और जापान सरकार के बीच समझौते से निश्चित तौर पर मदद मिलेगी.’’ अनिता ने आरोप लगाया कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों ने बोस और उनकी आजाद हिंद फौज :आईएनए: के योगदानों को नजरंदाज किया.

 

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस सरकारों ने नेताजी और आईएनए के योगदानों को नजरंदाज किया. (मुखर्जी) आयोग को काफी समय, कम संसाधन दिया गया हालांकि लगता है कि उन्हें थोड़ा ही समर्थन मिला.’’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Subhas Chandra Bose
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Subhas Chandra Bose
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017