सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश, गायत्री प्रजापति के खिलाफ दर्ज होगी एफआईआर

सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश, गायत्री प्रजापति के खिलाफ दर्ज होगी एफआईआर

By: | Updated: 17 Feb 2017 04:22 PM

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है. ये एफआईआर बलात्कार के आरोप में दर्ज की जाएगी. मामले में अब तक टालमटोल भरा रवैया अपना रही यूपी पुलिस से कोर्ट ने 8 हफ्ते में रिपोर्ट देने को भी कहा है.


क्या है मामला?
खुद को समाजवादी पार्टी का कार्यकर्ता बताने वाली महिला का दावा है कि गायत्री प्रजापति ने 2014 से जुलाई 2016 तक, 2 साल उसके साथ बलात्कार किया. प्रजापति और उनके सहयोगियों ने कुछ मौकों पर उसके साथ सामूहिक बलात्कार भी किया. जब प्रजापति ने उसकी 14 साल की बेटी के साथ बलात्कार की कोशिश की तब उसने पुलिस में शिकायत की.


राजनीति में आगे बढ़ाने के सपने दिखाए
महिला के मुताबिक ये सारा सिलसिला उसे राजनीति में आगे बढ़ाने के गायत्री प्रजापति के वादे से शुरू हुआ. प्रजापति ने उसे मिलने के लिए लखनऊ बुलाया. वहां उन्होंने उसका बलात्कार किया. बाद में उसकी अश्लील तस्वीरें सार्वजनिक करने का डर दिखा कर वो और उनके सहयोगी बलात्कार करते रहे.


डीजीपी ने कहा, पहले सीएम से पूछेंगे
महिला ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि उसने 7 अक्टूबर 2016 को यूपी के डीजीपी से शिकायत की. लेकिन उन्होंने कहा कि वो मुख्यमंत्री से पूछ कर ही कोई कार्रवाई करेंगे. इससे निराश महिला ने नवंबर में सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया.


मानसिक तौर पर बेहद परेशान है बेटी
इस मामले में 25 नवंबर 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को नोटिस जारी किया था. साथ ही जान के खतरे के डर से दिल्ली में रह रही महिला और उसकी बेटी को सुरक्षा देने का दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया था. महिला के मुताबिक उसकी 14 साल की बेटी पूरी घटना से इतनी परेशान हुई कि अभी तक एम्स में उसका मानसिक इलाज चल रहा है.


यूपी पुलिस की लचर दलील
आज सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार के हलफनामे को ठुकरा दिया. इसमें कहा गया था कि महिला ने शिकायत दाखिल करने में देरी की. इसलिए एफआईआर दर्ज नहीं की गयी. जस्टिस ए के सीकरी और आर के अग्रवाल की बेंच ने कहा कि मामला संगीन अपराध से जुड़ा है. इसमें तुरंत एफआईआर दर्ज करना पुलिस की ज़िम्मेदारी थी.


सुप्रीम कोर्ट ने जांच रिपोर्ट मांगी
कोर्ट ने यूपी पुलिस को ये निर्देश दिया है कि वो तुरंत महिला की शिकायत पर एफआईआर दर्ज करे और 8 हफ्ते में जांच रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करे. ये रिपोर्ट सीलबंद लिफाफे में दाखिल की जाएगी.


कौन हैं गायत्री प्रजापति?
गायत्री प्रजापति पर भ्रष्टाचार के कई आरोप हैं. उन्हें मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त भी किया था. लेकिन बाद में दोबारा शामिल कर लिया. इस वक्त वो समाजवादी पार्टी के टिकट पर अमेठी से विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story दिल्ली: पटाखा फैक्ट्री में लगी भयंकर आग से 17 लोगों की मौत, दिल्ली सरकार ने दिए जांच के आदेश