यूपी में आपराधिक मुकदमों के रिकॉर्ड गायब होने पर सुप्रीम कोर्ट सख्त

कड़ी नाराज़गी जताते हुए जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा, “हर मामला गंभीर अपराध का है. हत्या, डकैती जैसे अपराध के आरोपी रिकॉर्ड के अभाव में कैसे छूट सकते हैं? ज़रूरत पड़ी तो हम सभी मामले अपने पास तलब करेंगे.”

Supreme court strict on missing records of criminal cases in UP

नई दिल्ली: यूपी में आपराधिक मुकदमों के रिकॉर्ड गायब होने पर सुप्रीम कोर्ट ने बेहद सख्त रुख अपनाया है. कोर्ट ने हर मामले का पूरा ब्यौरा मांगा है. कोर्ट ने आज कहा कि वो इसके लिए ज़िम्मेदार अधिकारियों को सस्पेंड करेगा.

पिछली सुनवाई में कोर्ट ने यूपी के एडवोकेट जनरल को खुद पेश होकर मामले की जानकारी देने को कहा था. आज जस्टिस अरुण मिश्रा और अमिताव राय की बेंच के सामने पेश एडवोकेट जनरल ने कहा, “ये मामले 1981 से 1991 के बीच के हैं. कुछ मुकदमे लंबित हैं, कुछ में रिकॉर्ड के अभाव में आरोपी बरी हुए हैं.

इस पर कड़ी नाराज़गी जताते हुए जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा, “हर मामला गंभीर अपराध का है. हत्या, डकैती जैसे अपराध के आरोपी रिकॉर्ड के अभाव में कैसे छूट सकते हैं? ज़रूरत पड़ी तो हम सभी मामले अपने पास तलब करेंगे.”

जस्टिस मिश्रा ने कहा, “आप हमें पूरा ब्यौरा दें. कितने मामले हैं. आरोपी कौन हैं और मुकदमा किन धाराओं में हैं. हर केस का पूरा ब्यौरा चाहिए. जिस अधिकारी के पास से फाइल गायब हुई हो, उसे बख्शा नहीं जाएगा. आज की तारीख में वो किसी भी पद पर हो. हम उसे सस्पेंड कर देंगे.”

कोर्ट के सख्त रवैये के बीच यूपी के वकील उलझन में नज़र आए. वकीलों में इस बात को लेकर भी स्पष्टता नहीं थी कि गायब रिकॉर्ड वाले केस की संख्या 74 है या 162. हालांकि, एडवोकेट जनरल राघवेंद्र सिंह ने कहा, “मैं खुद इस मसले को देखूंगा. सरकार किसी भी ज़िम्मेदार व्यक्ति को बचाना नहीं चाहती. हम हर मामले का पूरा ब्यौरा पेश करेंगे.”

कोर्ट ने यूपी सरकार को रिपोर्ट पेश करने के लिए वक्त देते हुए सुनवाई की अगली तारीख 21 अगस्त तय कर दी. आज सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को भी इस मामले में पक्ष बना लिया. ऐसा कोर्ट ने इसलिए किया क्योंकि इलाहबाद हाई कोर्ट के आदेश पर सीबीआई भी इस मामले की जांच कर रही है.

इस मामले के सुप्रीम कोर्ट पहुंचने की कहानी भी काफी दिलचस्प है. पिछले साल यूपी सरकार ने हत्या के एक मामले में आरोपी के हाई कोर्ट से बरी होने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी. 29 साल पुराने मामले में हाई कोर्ट ने चतुर्भुज नाम के शख्स को इसलिए बरी किया था, क्योंकि केस से जुड़ा रिकॉर्ड गायब हो चुका था और मामले की सुनवाई नहीं हो पा रही थी.

इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची यूपी सरकार ने बिना रिकॉर्ड के ही अपील दाखिल कर दी. सुप्रीम कोर्ट ने इस पर नाराज़गी जताते हुए जब पूछताछ की तो पता चला कि इस तरह के मामले बड़ी संख्या में हैं, जिनमें रिकॉर्ड गायब हो चुके हैं.

कोर्ट सिर्फ फाइल गायब करने वाले अधिकारियों को सस्पेंड ही नहीं करना चाहता, बल्कि उन्हें जेल भी भेजना चाहता है. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने दोषियों को जेल भेजने की बात कही थी. आज कोर्ट ने सरकार से ये भी कहा कि वो हर केस की मूल फाइल ढूंढ कर निकाले या उन्हें दोबारा तैयार करे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Supreme court strict on missing records of criminal cases in UP
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

मोसुल में अगवा हुए भारतीयों पर इराकी विदेश मंत्री का बड़ा बयान
मोसुल में अगवा हुए भारतीयों पर इराकी विदेश मंत्री का बड़ा बयान

नई दिल्ली: इराक ने आज कहा कि उसके पास ऐसे कोई ठोस सबूत नहीं है कि मोसुल से तीन साल पहले अपहरण किए...

पांच दशक तक राजनीतिक सुर्खियों में रहने के बाद निजी जीवन में वापसी करेंगे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
पांच दशक तक राजनीतिक सुर्खियों में रहने के बाद निजी जीवन में वापसी करेंगे...

नई दिल्ली: प्रणब मुखर्जी तब एक युवा सांसद थे और यहां स्थित अपने आवास के बरामदे में बैठे हुए...

इलाहाबाद: टमाटर 120 रूपए/किलो के पार, कांग्रेसियों ने पोस्टर के जरिए साधा मोदी सरकार पर निशाना
इलाहाबाद: टमाटर 120 रूपए/किलो के पार, कांग्रेसियों ने पोस्टर के जरिए साधा मोदी...

इलाहाबाद: टमाटर की आसमान छूती कीमतों को लेकर इलाहाबाद के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया...

विदाई भाषण में बोले राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी- समाज में हिंसा की कोई जगह नहीं, कल कोविंद लेंगे शपथ
विदाई भाषण में बोले राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी- समाज में हिंसा की कोई जगह...

नई दिल्ली: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज राष्ट्रपति के तौर पर देश को आखिरी बार संबेधित किया....

अयोध्या विवाद पर फैसला सुनाने वाले हाईकोर्ट के जज ने लगाया धमकी का आरोप, चीफ जस्टिस से की कार्रवाई की अपील
अयोध्या विवाद पर फैसला सुनाने वाले हाईकोर्ट के जज ने लगाया धमकी का आरोप, चीफ...

इलाहाबाद: इलाहाबाद हाईकोर्ट में जज जस्टिस सुधीर अग्रवाल और वकीलों के बीच का विवाद लगातार तूल...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. देश के 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपने विदाई भाषण में कहा कि समाज में हिंसा की जगह नहीं...

डोकलाम विवाद: बौखलाया चीन अब दे रहा धमकी लेकिन भूल गया ये बात!
डोकलाम विवाद: बौखलाया चीन अब दे रहा धमकी लेकिन भूल गया ये बात!

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर पहली बार चीनी सेना से सीधी धमकी दी है. डोकलाम पर भारत के भूटान के साथ...

J&K: लश्कर-ए-तैयबा के मॉड्यूल का भांडाफोड़, चार गिरफ्तार
J&K: लश्कर-ए-तैयबा के मॉड्यूल का भांडाफोड़, चार गिरफ्तार

श्रीनगर: पुलिस ने लश्कर-ए-तैयबा के चार सक्रिय आतंकवादियों को गिरफ्तार कर उसके एक मॉड्यूल का...

J&K: NIA ने अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के दामाद सहित सात लोगों को किया गिरफ्तार
J&K: NIA ने अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के दामाद सहित सात लोगों को किया...

श्रीनगर/नई दिल्ली: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आज कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह...

दिल्ली: लोकनायक भवन में लगी आग, इनकम टैक्स, ईडी के दफ्तर इसी इमारत में
दिल्ली: लोकनायक भवन में लगी आग, इनकम टैक्स, ईडी के दफ्तर इसी इमारत में

नई दिल्ली: दिल्ली के लोकनायक भवन की चौथी मंजिल में आग लगी है. लोकनायक भवन में प्रवर्तन निदेशालय...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017