स्वच्छ भारत मिशन: ट्रेन में सफर करने वालों के लिए ये जानना जरूरी है

By: | Last Updated: Friday, 11 September 2015 12:25 PM

नई दिल्ली: स्वच्छ भारत मिशन को एक साल पूरे होने को हैं. पिछले एक साल में देश स्वच्छता की दिशा में कितना कदम आगे बढ़ा, उस पर चर्चा तो होगी ही, साथ ही किस मंत्रालय ने कितना नया सोचा इस पर भी बात होगी.

 

इसी दिशा में रेलवे ने नया प्रयास शुरू किया है. अब राजधानी और शताब्दी में आपको यात्रा के दौरान नयी तरह की स्वच्छता से जुडी अनाउंसमेंट सुनने को मिलेगी.

 

मसलन स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाने में रेल यात्री सहयोग करे. यात्रा के दौरान ट्रैन की बोगी से लेकर स्टेशन परिसर को साफ सुथरा रखने में रेलवे का सहयोग करे.

 

– वॉटर बॉटल उपयोग के बाद क्रश कर दे. या फिर अपने साथ लेते जाए.

 

– डब्बे की साफ सफाई के लिए ऑन बोर्ड हाउसकिपींग स्टाफ से समपर्क करे.

 

-ट्रेन के अंदर या फिर स्टेशन परिसर में गदंगी फैलाने वालो पर 500 रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है.

 

-इसके अलावा कुछ ऐसी जानकारियां भी मिलेंगी जो यात्रा के दौरान मददगार साबित हो सकती हैं. जैसे-

 

– ट्रेन के अंदर इमरजेंसी खिड़कियों के बारे में पहले से जानकारी कर ले.

 

-ट्रेनों की आवागमन सबंधी जानकारी के लिए 139 और यात्रा के दौरान किसी भी शिकायत के लिए 138 डॉयल करे.

 

-सुरक्षा सबंधी किसी शिकायत के लिए 182 डॉयल करे.

 

– ट्रेन में यात्रा के दौरान कैटरिंग मुहैया कराने वाले वेटर को टिप ना दे. अगर कोई मांगे तो उसकी शिकायत करे.

 

– स्मोंकिग करने वाले और शराब पीने वालो की शिकायत कर सकते है पकड़े जाने पर उन पर कानूनी कारवाई की जा सकती है.

 

शुरुआती दौर में ये सुविधा राजधानी शताब्दी और दुरंतो जैसे ट्रेनों में शुरुआत की जायेगी आगे चलकर इसे मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में भी सुनाया जायेगा. इन उद्घघोषणाओं को हिंदी अंग्रेजी के साथ साथ क्षेत्रीयं भाषा में भी सुनाया जायेगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Swacch Bharat Abhiyan
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Railway Swacch bharat abhiyaan train
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017