J&K: पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाला अलगाववादी मसरत आलम गिरफ्तार

By: | Last Updated: Friday, 17 April 2015 3:52 AM

श्रीनगर/नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेता मसरत आलम गिरफ्तार कर लिया गया है. मसरत को बुधवार को पाकिस्तान समर्थक नारे लगाने के केस में गिरफ्तार किया गया है. मसरत को बडगमा के हुमहामा थाने की पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

 

खबर है कि मसरत  पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हो सकता है.

 

गिरफ्तारी से पहले नजरबंद रहते हुए मसरत ने मीडिया से बात की थी. एबीपी न्यूज़ से बातचीत में कहा कि, ”त्राल मार्च से रोकने के लिए उसे नजरबंद किया गया है लेकिन लोग अपना काम करेंगे. हम अपने एजेंडे को नहीं रोकेंगे. ये नारे कश्मीर के लोगों के जज्बात हैं. कल तो सिर्फ हमने उसकी तकसीद की थी.”

 

मसरत ने कहा था, ”त्राल जाने पर उनकी  गिरफ्तारी होगी या नहीं उसे इससे फर्क नहीं पड़ता. ”

 

मसरत की गिरफ्तारी पर बीजेपी का कहना है, कि मसरत को लेकर केंद्र सरकार पहले ही बहुत सख्त थी, गृह मंत्री ने पहले ही आश्वासन दिया था कि इस तरह की हरकत करने वाले को ब4दाश्त नहीं किया जाएगा. देश से ऊपर कोई नहीं है.

 

अलगाववादी मसरत आलम गिरफ्तार

 

मसरत की गिरफ्तारी पर पीडीपी नेता अभिजीत जतरोटिया ने एबीपी न्यूज़ से बातचीत में कहा, कानून के मुताबिक कार्रवाई हुई है, भले ही गिरफ्तारी में देर हुई है लेकिन कानून के मुताबिक उसे गिरफ्तार किया गया है. अगर मुनासिब समझा जाएगा कि अगर ऐसी हरकतों को अंजाम देकर माहौल बिगाड़ने वाले दूसरे लोग भी गिरफ्तार हो सकते हैं.

 

इससे पहले आज कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने भी सवाल उठाए थे. दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया था, मसरत आलम और गिलानी जम्मू कश्मीर की सरकार की मेहमान नवाज़ी में बिरयानी नौश फ़रमा रहे हैं . क्या उन पर देश द्रोह का मुकदमा दायर हुआ है ?

 

बीती रात हुए थे नजरबंद

इससे पहले जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के ट्राल कस्बे में शुक्रवार को प्रस्तावित रैली से पहले बीती रात हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी धड़े के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी और कट्टरपंथी अलगाववादी नेता मसरत आलम को नजरबंद कर दिया गया.

 

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘गिलानी को नजरबंद किया गया है. हैदरपोरा स्थित उनके आवास के बाहर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. कानून-व्यवस्था कायम रखने के लिए ऐहतियातन यह कदम उठाया गया है.’’ अधिकारी ने कहा कि मसर्रत आलम को भी नजरबंद किया गया है.

 

श्रीनगर में अलगाववादियों की रैली को लेकर चौतरफा हमला होने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद ने शुक्रवार के मार्च के लिए अनुमति देने से इंकार किया.

 

श्रीनगर में गिलानी को भी उनके ही घऱ पर ही नजरबंद किया गया है. भारी पुलिस फोर्स उनके घर पर तैनात है. ये नजरबंदी कल त्राल में अलगाववादियों के मार्च को लेकर की गई है. त्राल में दो लोगों के एनकाउंटर पर सवाल हैं. अलगाववादियों का आरोप है कि ये फर्जी एनकाउंटर है

 

कश्मीर घाटी में लग सकता है कर्फ्यू

त्राल मार्च की आशंका को देखते हुए आज कश्मीर घाटी के कई इलाकों में कर्फ्यू लग सकता है. पुलवामा जिले को पूरी तरह से सील कर दिया गया है. त्राल कस्बा पुलवामा जिले में ही आता है.

 

जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट बारअसोसिएशन ने खुलेआम पाकिस्तान के झंडे लहराने वाले मसरत और गिलानी के खिलाफ आज राज्य भर में बंद का एलान किया है. जम्मू में डोगरा फ्रंट के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर मसरत पर अपना गुस्सा निकालते हुए कहा कि सात मार्च को मसरत की रिहाई का फैसला गलत साबित हुआ.

 

खुलेआम पाकिस्तानी झंडा लहराने पर जम्मू-कश्मीर के सीएम ने क्या कहा-

सईद ने कहा कि पाकिस्तानी झंडा लहराना और पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करना ‘‘स्वीकार्य नहीं है और इसे ‘‘बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.’’ मुख्यमंत्री ने पुलिस को निर्देश दिया कि शुक्रवार की रैली के लिए इजाजत नहीं दी जाए. यह रैली श्रीनगर से ट्राल तक निकाले जाने की योजना थी. गिलानी ने दक्षिणी कश्मीर के ट्राल कस्बे में आज मार्च का ऐलान किया है. इस कस्बे में बीते सोमवार को आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान एक युवक की मौत हो गयी थी.

 

केंद्र ने दिखाया कड़ा रूख

श्रीनगर में बुधवार की रैली के कुछ घंटों बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सईद को फोन करके कहा कि कानून तोड़ने वालों के खिलाफ ‘तत्काल और कड़ी’ कार्रवाई की जाए. सिंह ने इस बात पर जोर दिया, ‘‘हम भारतीय जमीन पर पाकिस्तान जिंदाबाद जैसे नारे लगाने वाले को बर्दाश्त नहीं करेंगे. राष्ट्रीय सुरक्षा पर कोई समझौता नहीं हो सकता. राजनीति को राष्ट्रीय सुरक्षा से उपर नहीं रखा जा सकता.’’

 

आलोचनाओं से घिरे सईद ने रैली की अनुमति देने के अपने फैसले का बचाव करने की कोशिश की लेकिन साफ किया कि पाकिस्तानी झंडे लहराना और पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करना स्वीकार्य नहीं है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

 

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि अधिकारियों ने इसका संज्ञान लिया है. उन्होंने घटनाक्रम का वीडियो ले लिया है. मेरा मानना है कि कानून अपना काम करेगा, कार्रवाई की जाएगी.’’ मुफ्ती ने कहा, ‘‘जहां तक जनसभा की बात है तो मुझे लगता है कि यह ठीक है. जैसा कि मैंने कहा कि लोकतंत्र विचारों का संघर्ष है. उन्हें अपना रास्ता चुनने का, अपने मन की बात कहने का अधिकार रखते हैं लेकिन जो स्वीकार्य नहीं है, उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.’’

 

राज्य में गठबंधन बनाने के लिए पीडीपी से बातचीत करने में भाजपा की ओर से मुख्य भूमिका निभाने वाले राम माधव ने कहा कि उनकी पार्टी पाकिस्तान समर्थक नारे सुनने के लिए राज्य की सरकार में शामिल नहीं हुई है.

 

पांच साल के अंतराल के बाद, जम्मू कश्मीर सरकार ने गिलानी को रैली करने की अनुमति दी थी जहां जेल से पिछले माह रिहा हुए मसर्रत आलम सहित उनके समर्थकों ने पाकिस्तान समर्थक नारे लगाए और अन्य ने पाकिस्तानी झंडे लहराए. गिलानी ने कल शाम एक बयान जारी कर कहा कि वह राज्य सरकार के सामने नहीं झुकेंगे.

पुलिस ने कल श्रीनगर में रैली के दौरान कथित तौर पर राष्ट्र विरोधी नारेबाजी करने के लिए गिलानी और मसर्रत आलम के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून (यूएपीए) कानून के तहत मामला दर्ज किया था.

 

शिवसेना ने बीजेपी को दिखाई आंख

श्रीनगर में पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगने के बाद शिवसेना ने बीजेपी को आंख दिखाते हुए कहा है कि या तो जम्मू-कश्मीर की सरकार को फौरन बर्खास्त किया जाए या बीजेपी पीडीपी से समर्थन वापस ले. शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि शिवसेना ने पहले भी चेतावनी दी थी कि मसरत आलम पाकिस्तानी एजेंट है जिसे रिहा नहीं करना चाहिए. उसकी हरकतों ने शिवसेना की आशंकाओं को सही साबित किया है.

 

पीडीपी से समर्थन वापस लिए जाने की मांग पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष जुगल किशोर ने कहा कि फिलहाल वो नौबत नहीं आई है कि मौजूदा मुफ्ती सरकार से समर्थन वापस लेना पड़े.

 

जम्मू के पास कटरा में आज जम्मू-कश्मीर में बीजेपी की बैठक, राज्य में सरकार बनने के बाद पार्टी की पहली बैठक, सभी विधायक और सांसद हिस्सा लेंगे.

 

कांग्रेस ने साधा निशाना

कांग्रेस ने मसरत आलम के मुद्दे पर जम्मू-कश्मीर सरकार के साथ ही साथ बीजेपी को भी कटघरे में खड़ा किया है. कांग्रेस का कहना है कि मुफ्ती की सरकार में बीजेपी भी शामिल है, लिहाजा वो अपनी जिम्मेदारी से पल्ला नहीं झाड़ सकती. कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि बीजेपी और पीडीपी दोनों ही अलगाववादियों के नाम पर अपनी अपनी राजनीतिक रोटियां सेक रही हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Syed Ali Geelani, Masrat Alam, and 8 other sepatarist leaders put under house arrest ahead of Tral march to be held today
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017