Tamil author announces his ‘death’

Tamil author announces his ‘death’

By: | Updated: 14 Jan 2015 06:35 AM

नई दिल्ली: दक्षिण भारत के एक लेखक ने हिंदुवादी संगठनों की वजह से लिखने का काम छोड़ दिया है. इतना ही नहीं इस लेखक ने अपने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक वॉल पर लिख दिया है कि उनकी मौत हो गई है.

 

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक 48 साल के लेखक पेरुमल मुरुगन ने अपने फेसबुक वॉल पर लिखा है, "लेखक पेरुमल मुरुगन नहीं रहा. वो भगवान नहीं है. इसलिए वो दोबारा लिखना नहीं शुरू करेगा. अब सिर्फ एक शिक्षक पी मुरुगन जिंदा रहेगा."

 

फेसबुक पर मुरुगन ने अपने समर्थकों और उनका साथ देने के लिए धन्यवाद कहा और अपनी सभी किताबें, कहानियां और कविताओं को वापस लेने की बात कही है. अपने पब्लिशर को भी उन्होंने अपनी किताबें बेचने से मना कर दिया है.

 

आखिर में पेरुमल ने जाति, धर्म और राजनीति से जुड़े संगठनों से उनके खिलाफ प्रदर्शन रोकने की अपील की है. अखबार के मुताबिक मुरुगन ने फेसबुक पर ये पोस्ट सोमवार की रात को किया.

 

इससे पहले मुरुगन की 2010 में आई तमिल किताब माथोरुभागन को लेकर काफी विवाद हुआ था. कोंगू वेल्लाला गाउंडर समुदाय के लोगों ने उनकी किताब का विरोध किया था. इस समुदाय का कहना था कि किताब के जरिए उनके समुदाय की महिलाओं का अपमान किया है और हिंदू धर्म को नीचा दिखाया है.

 

यह भी पढ़ें-

 

आपको दोस्तों से बेहतर जानता है फेसबुक!

स्मोकिंग करने वालों के नाक में दम करने को तैयार है सरकार 

मकर संक्रान्ति के मौके पर पटना में दही चूड़ा के भोज में बुखार की वजह से नहीं आएंगे नीतीश कुमार 

वीएचपी ने हिमाचल सरकार को दी 16 लव जिहाद के मामलों की जानकारी 

प्रियंका पर भड़के कपिल, पटका माइक और ईयरफोन 

लौटा हमले का दौर, केजरीवाल की सभा में चले अंडे,पत्थर और टमाटर 

ABP स्पेशल: योग के बाद बाबा रामदेव का कॉस्मेटिक से लेकर किराना में बढ़ता कारोबार 

शंकर बिगहा नरसंहार: 16 साल बाद बरी हुए 22 दलितों के सभी 24 हत्यारोपी

 

WATCH:  पेरूमल मुरूगन ने लिखने का काम छोड़ा

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गृह मंत्रालय ने दिल्ली सरकार-मुख्य सचिव विवाद पर एलजी से मांगी रिपोर्ट