The idea is to impose congestion charges on the streets of Delhi । दिल्ली की सड़कों से जाम खत्म करने के लिए भीड-भाड़ शुल्क लगाने पर किया जा रहा है विचार

दिल्ली की सड़कों से जाम खत्म करने के लिए भीड-भाड़ शुल्क लगाने पर किया जा रहा है विचार

सड़कों पर जाम खत्म करने के प्रयास के तहत दिल्ली कुछ विशेष मार्गों पर वाहन चलाने पर भीड़-भाड़ शुल्क लगाने के लंदन मॉडल अपना सकती है.

By: | Updated: 02 Dec 2017 04:43 PM
The idea is to impose congestion charges on the streets of Delhi

नई दिल्ली: सड़कों पर जाम खत्म करने के प्रयास के तहत दिल्ली कुछ विशेष मार्गों पर वाहन चलाने पर भीड़-भाड़ शुल्क लगाने के लंदन मॉडल अपना सकती है.


दिल्ली यातायात पुलिस को राजधानी में भीड़भाड़ शुल्क लगाने और कुछ खास सड़कों पर एकतरफा यातायात शुरु करने की व्यवहार्यता की संभावना खंगालने के लिए अध्ययन करने को कहा गया है.


उपराज्याल अनिल बैजल ने इस मामले पर दिल्ली पुलिस तथा लोक निर्माण विभाग एवं नगर निगम जैसी अन्य एजेंसियों के अधिकारियों के साथ बैठक की.


दिल्ली पुलिस के मुख्य प्रवक्ता और विशेष पुलिस आयुक्त (यातायात) दीपेंद्र पाठक ने कहा, "दिल्ली यातायात पुलिस उन सड़कों का विस्तृत अध्ययन कराएगी जहां भीड़-भाड़ शुल्क या एकतरफा यातायात प्रणाली लागू की जा सकती है." अधिकारी ने बताया कि कुछ ऐसी सड़कें हैं जहां वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध होने के बाद भी भीड़-भाड़ होती है. ऐसी सड़कों पर भीड़-भाड़ शुल्क लगाने से यातायात में सुगमता आएगी और लोग अन्य वैकल्पिक मार्गों का इस्तेमाल करेंगे. यदि अध्ययन में इससे संबंधित पाया जाता है तो भीड़भाड़ शुल्क के सुचारु क्रियान्वयन के लिए लंदन और सिंगापुर की भांति इलेक्ट्रानिक प्रणाली लागू की जाएगी.


अधिकारी ने कहा, "दिल्ली में सभी सड़कों पर दो-तरफा यातायात होता है जिसका मतलब सड़क का आधा हिस्सा ही यातायात के लिए उपलब्ध होता है. हमें यह देखना होगा कि सड़कों पर भीड़भाड़ खत्म करने के लिए कहां एकतरफा प्रणाली लागू की जा सकती है."

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: The idea is to impose congestion charges on the streets of Delhi
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story शंकर सिंह वाघेला की गैरमौजूदगी से मध्य गुजरात में बीजेपी को फायदा