'तिनका तिनका डासना'- एक ऐसी श्रृंखला जो पहले कभी, कहीं नहीं बनी

Tinka Tinka Dasna: This wall of Dasna jail expresses the stories of inmates via pictures

वर्तिका नंदा, 'तिनका तिनका डासना' की लेखिला और वरिष्ठ पत्रकार

नई दिल्ली: चार युवक हैं- विवेक स्वामी, किशन, संजय और दीपक. उम्र-25 से 35 के बीच. इन चारों में चार बातों की समानता है – चारों चित्रकार हैं, हत्या के आरोपी हैं, विचाराधीन कैदी हैं और डासना जेल में बंद हैं. यहां एक बात विरोधाभासी भी है. यह शायद दुनिया के पहले ऐसे बंदी होंगे जिन्हें जेल से रिहाई के समय एक मोह बार-बार पीछे मुड़ कर देखने के लिए मजबूर करेगा.

यह मजबूरी मीठी है. गजब की इस मजबूरी ने इनकी जिंदगी में उम्मीदों का रस घोल दिया है. इस मजबूरी का नाम है, ”तिनका तिनका डासना” जिसे उन्होंने मेरे कहने पर डासना की केंद्रीय दीवार पर रचा. करीब 5 महीने के इस यज्ञ को हर रोज पूरी शिद्दत से बनाया और सजाया गया और जो बना, वह खुद में अजूबा है.

2

उत्तर प्रदेश की जेल डासना. दिल्ली की तिहाड़ जेल से करीब 80 किलोमीटर दूर. तिहाड़ की अपनी परियोजना के बाद तिनका तिनका की श्रृंखला के तौर पर मैनें डासना को चुना और खुद को समाज से काटते हुए इस काम में डूब गई. नतीजा सामने है.

‘तिनका तिनका डासना’ देश की किसी भी जेल की एक अभिनव श्रृंखला का नाम है. दीवार, किताब, कैलेंडर, गाने से लेकर कविता तक यह प्रयोग जेल के कैदियों की सृजनात्मकता को सामने लाने का दुनिया का अपनी तरह का पहला प्रयास है. पहली कड़ी है – कैलेंडर.

‘तिनका तिनका डासना’ के 6 पन्नों के कैलेंडर में उत्तर प्रदेश, खास तौर से डासना जेल, के रचनात्मक प्रयोगों को केंद्र में रखा गया है. यह कैलेंडर और इस कैलेंडर में दिख रही प्रमुख दीवार मेरे उस कांसेप्ट पर आधारित है जो दूर तक जाने के लिए तैयार खड़ी है. इस कैलेंडर में जेल में हाल के दिनों में किए गए नए प्रयोगों की झलक है. इसमें वह गाना भी प्रमुखता से रखा गया है जो मैनें कैदियों के लिए लिखा है और अब यह गाना जेल का आधार गीत है. टूटे फिर भी आस ना, ये है इनका डासना- इन पंक्तियों के साथ जेल में उम्मीद भरने की कोशिश की गई है. यह गाना भी जल्द ही रिलीज किया जाएगा. इस कैलेंडर का मुख्य केंद्र है – वह दीवार जिसे इन चारों बंदियों ने मिलकर बनाया है.

1

जेल की दीवारें फीकी होती हैं. उन पर प्रवचन होते हैं. बंदियों को प्रवचन देना सबसे आसान होता है शायद. लेकिन दीवारें और भी बहुत कुछ कर सकती हैं. संभावना की इसी तलाश में डासना में उस दीवार का चुनाव किया गया जो डासना के केंद्र में थी. पीली, खाली, बेदम और बेरंग. उस दीवार पर रंग और खुशी भरने थे. उसे अंदर और बाहर की दुनिया के बीच एक पुल की तरह बनाना था. उसमें रिश्ते भरने थे और खूब रौशनी. काम मुश्किल था क्योंकि दीवार थी- जेल के अंदर और दीवार रोज सोखती थी मजबूरियां. इस दीवार में ताकत भरनी थी. काम शुरू हुआ और मुकम्मल भी. कागज पर कांस्पेट के शब्द उकेरे जाने लगे. उन शब्दों को हकीकत में बदलने के लिए सीढ़ी आई, रंग आए, ब्रश मंगवाए गए और अंधेरे से उजाले की तरफ जाने का काम शरू हुआ. सपने को साकार करने का यही सफऱ है – ‘तिनका तिनका डासना’.

इस दीवार को विशाखापत्तनम के रहने वाले विवेक स्वामी ने बनाया है. जिस दिन दीवार बन कर पूरी तरह से तैयार हुई, उसी दिन वह रिहा भी हुआ. यह अजीब बात है कि बाहर जाने की खुशी में इस दीवार के छूटने का गम उसके साथ चलता हुआ गया लेकिन वह यह भी जानता है कि यह दीवार आने वाले समय में उसके लिए कई नए दरवाजे खोल देगी. वह 3 डी पेंटिंग मे माहिर है लेकिन उससे भी बड़ी बात यह कि पेंटिंग और रंगों को लेकर उसकी समझ लाजवाब है. मेरे स्कैच करके दिए गए आइडिया को उसने जिस लगन और सूझबूझ के साथ बनाया, वह तारीफ से परे है.

3

दीवार पर बनाई गई यह पेंटिग करीब 10 साल तक इसी तरह बनी रहेगी. इस पेंटिंग का एक सिरा अंधेरे में है जहां चांद और सितारे दिन में जगमगाते दिखेंगे. दूसरे सिरे में उस गाने का एक अंश है जिसे मैनें लिखा है पर बंदियों ने गाया है. इसके ठीक ऊपर चमकता हुआ सूरज है. बीच में दस नाम हैं. ये वे नाम हैं जो चुने गए इन दस बंदियों की यादों में शामिल हैं. इनमें कोई किसी की पत्नी है, किसी की मां, किसी की बेटी, किसी का भाई. इन दसों नामों को दस प्रतीकों में घोल कर लिखा गया है. जेलों की व्याख्या करने वाले इन दस प्रतीकों का चुनाव भी बहुत सोच कर किया गया है. इनमें एक नीली आंख है, एक ख़त, एक दीया, एक पत्ता, एक चाबी, एक ताला, एक माला, एक घड़ी, एक फोटो फ्रेम और एक खिड़की. ये सभी वे बिंब हैं जो जेलों की जिंदगी से जुड़े हैं.

पेंटिंग के एक सिरे में घने अंधेरे में चमकते चांद और सितारे और दूसरे सिरे में पूरी ऊर्जा से दमकता सूरज कैदियों के लिए झिलमिलाती उम्मीद की लालटेन है. यहां दिन में चांद अपने तारों की बारात के साथ मौजूद रहेगा और रात में सूरज अपनी पूरी शक्ति से चमकता दिखेगा. हमारा मन था कि यह दीवार इस जेल के लिए शक्ति पुंज बन जाए. इसकी परिकल्पना यही सोच कर की गई थी कि यह बंदियों को चौबीसों घंटे किसी भरोसे से जोड़े रखे शायद ऐसा ही हुआ भी है. मैनें चाहा है कि न उनकी रात अंधेरी रहे और न ही दिन.

यही है ‘तिनका तिनका डासना’ लेकिन एक सिरे से दूसरे सिरे तक सपनों के यह धागे सिर्फ इसलिए जुड़ सके क्योंकि जेल के अधिकारियों का इसमें सहयोग था. सब कुछ विश्वास पर हुआ. नाजुक होने पर भी विश्वास कहीं टूटा नहीं. यह कड़ी शायद भारत की बहुत-सी और जेलों के लिए शायद प्ररेणा का एक चिराग भी बने. इस दीवार पर काम अपने आप में एक कहानी है जिस पर कुछ समय बाद लिखा जाएगा.

बहरहाल, ‘तिनका तिनका डासना’ और तिनका तिनका उत्तर प्रदेश का एक खास कैलेंडर भी रिलीज कर दिया गया है. 6 पन्नों के इस कैलेंडर को रिलीज करते हुए जेल अधीक्षक शिव प्रकाश यादव ने कहा कि इस कैलेंडर ने जेल के जीवन में उम्मीद भरने का अनूठा काम किया है. सभी पन्नों में उत्तर प्रदेश, खास तौर से डासना जेल, के रचनात्मक प्रयोगों को केंद्र में रखा गया है.

दीवार के अलावा इस कैलेंडर में जेल में हाल के दिनों में किए गए नए प्रयोगों की भी झलक है. इसमें वह गाना भी प्रमुखता से रखा गया है जो मैनें जेल के कैदियों के लिए लिखा है और अब यह गाना जेल का आधार गीत है. ‘टूटे फिर भी आस ना, ये है इनका डासना’- इन पंक्तियों के साथ जेल में उम्मीद भरने की कोशिश की गई है. यह गाना भी जल्द ही रिलीज किया जाएगा.

यही दीवार जल्द प्रकशित होने वाली मेरी किताब – ‘तिनका तिनका डासना’ – में प्रमुखता से दिखेगी ताकि दुनिया भर के बन्दी इसे देख कर प्रोत्साहित महसूस कर सकें.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Tinka Tinka Dasna: This wall of Dasna jail expresses the stories of inmates via pictures
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: tinka tinka dasna vartika nanda
First Published:

Related Stories

गोरखपुर ट्रेजडी: मृतक बच्चों के परिजानों से मिले राहुल गांधी, बोले- यह सरकार की बनाई 'राष्ट्रीय त्रासदी'
गोरखपुर ट्रेजडी: मृतक बच्चों के परिजानों से मिले राहुल गांधी, बोले- यह सरकार...

गोरखपुर: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गोरखपुर मेडिकल कालेज में पिछले दिनों संदिग्ध...

पुराने अंदाज में किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला सुरक्षा का जायजा
पुराने अंदाज में किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला सुरक्षा...

पुडुचेरी: पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी ने रात में भेष बदलकर केंद्र शासित प्रदेश में...

LIVE: मुजफ्फरनगर के खतौली के पास कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्तः 5 लोगों की मौत, 34 घायल
LIVE: मुजफ्फरनगर के खतौली के पास कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्तः 5...

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है. मुजफ्फरनगर में खतौली के पास...

गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!
गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ में बीजेपी नेता हरीश वर्मा जो 200 से ज्यादा गायों को भूखा मारने के आरोप में...

गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी जाएंगे
गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी...

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पिछले दिनों बीआरडी अस्पताल में हुई बच्चों की मौत से मचे...

बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण राणे
बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण...

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में एक बड़ा भूकंप आने की तैयारी में है. महाराष्ट्र में कांग्रेस...

JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी
JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी

पटना: बिहार की राजनीति में आज का दिन बेहद अहम माना जा रहा है. पटना में नीतीश की पार्टी की जेडीयू...

यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा रजिस्ट्रेशन
यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक अहम फैसले के तहत शुक्रवार से प्रदेश के सभी...

बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153  तो असम में 140 से ज्यादा की मौत
बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153 तो असम में 140 से ज्यादा की मौत

पटना/गुवाहाटी: बाढ़ ने देश के कई राज्यों में अपना कहर बरपा रखा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा बर्बादी...

CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'
CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज स्वच्छ यूपी-स्वस्थ...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017