दाऊद को भारत लाने पर 'मौन' रहना चाहती थी मनमोहन सरकार!

By: | Last Updated: Tuesday, 11 August 2015 2:05 AM
Two years ago, UPA discussed an ‘offer’ from Dawood Ibrahim to return home

नई दिल्ली : अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को भारत लाने की खबरों ने एक बार फिर से जोर पकड़ लिया है. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की मुताबिक दाऊद इब्राहिम के भारत लौटने के प्रस्ताव पर दो साल पहले यानी यूपीए सरकार के दौरान चर्चा हुई थी.

 

अखबार के मुताबिक 2013 में दिल्ली के एक बड़े वकील जो बड़े कांग्रेस नेता भी हैं उन्होंने दाऊद को भारत वापस लौटाने पर चर्चा की थी. अखबार के मुताबिक जिसके बाद इस वकील को बताया गया कि दाऊद का मुद्दा हॉट पटेटो जैसा है, जिस पर हाथ नहीं लगाया जाना चाहिए. इस वरिष्ठ कांग्रेस नेता और वकील को बताया गया कि दाऊद पर उसकी शर्तों पर केस चलाना मुश्किल है.

 

हालांकि, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने ऐसे किसी भी प्रस्ताव को लेकर हुई बातचीत से इनकार किया है.

 

अखबार ने सूत्रों के मुताबिक बताया है कि 2013 दाऊद के भारत लौटने के प्रस्ताव पर तब के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन ने भी चर्चा की थी. इस वकील ने कांग्रेस के दो बड़े नेताओं से भी इस प्रस्ताव पर चर्चा की थी लेकिन इस बड़े नेता को यही कहा गया कि ये बहुत गरम मुद्दा है इसलिए ये ठंडे बस्ते में डाल दिया गया.

 

दाऊद पर यूपीए-2 सरकार किसी भी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहती थी जिस वजह से इस गंभीर मुद्दे पर उस समय की सरकार ने चुप्पी बनाए रखना ही बेहतर समझा.

 

पीएम मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान दाऊद को पाकिस्तान से खींचकर भारत लाने की बातें कही थीं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Two years ago, UPA discussed an ‘offer’ from Dawood Ibrahim to return home
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: dawood ibrahim UPA
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017