महाराष्ट्र: बीजेपी सरकार के विश्वास मत पर शिवसेना का अविश्वास

By: | Last Updated: Wednesday, 12 November 2014 3:45 AM

नई दिल्ली: महाराष्ट्र सदन में  फडणवीस सरकार ने ध्वनि मत से विश्वास मत हासिल कर लिया है. बिना किसी वोटिंग के ही यह प्रस्ताव पारित कर लिया है. विश्वासमत के दौरान एनसीपी के विधायक सदन से गैरहाजिर रहे, इसके बाद स्पीकर हरिभाऊ बागड़े ने ध्वनिमत से विश्वासमत पास होने का एलान किया.

 

विश्वासमत पर वोटिंग न कराने पर शिवसेना और कांग्रेस के विधायकों ने सदन में जमकर हंगामा किया. शिवसेना विधायक वेल तक पहुंच गए. महाराष्ट्र विधानसभा में शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने आरोप लगाया कि फडणवीस सरकार का विश्वासमत असंवैधानिक है. शिंदे ने कहा कि स्पीकर ने नहीं मांगी मतविभाजन की मांग.

 

शिवसेना के नेता रामदास कदम ने कहा कि बीजेपी पर धिक्कार है, बीजेपी ने जनता को धोखा दिया है. शिवसेना का कहना है कि बीजेपी के 40 विधायक उनके समर्थन में नहीं थे.

 

वहीं कांग्रेस के पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि यह महाराष्ट्र के लोकतंत्र के लिए काला दिन है, राज्यपाल के पास जाकर फिर से विश्वास मत कराने की मांग करेंगे.

आपको बता दें कि आज सुबह शिवसेना ने बीजेपी सरकार के खिलाफ वोट करने का एलान कर दिया था. शिवसेना ने अपना रूख साफ करते हुए कहा है कि वो बीजेपी सरकार के खिलाफ वोट करेगी. शिवसेना के नेता रामदास कदम ने आरोप लगाया है कि बीजेपी उनकी पार्टी के समर्थन को लेकर गंभीर नहीं दिखी जिसके बाद शिवसेना को ये फैसला लेना पड़ा.

 

विश्वास मत से पहले फडणवीस ने शिवसेना नेता रामदास कदम और मिलिंद नार्वेकर के साथ बैठक की है लेकिन ये बैठक फेल हो गई.

 

स्पीकर चुनाव में अपने उम्मीदवार विजय अवती को हटाकर बीजेपी को बड़ी राहत दी.  कांग्रेस ने भी अपनी उम्मीदवार वर्षा गायकवाड को हटा लिया. इससे बीजेपी के हरिभाउ बागडे बिना लड़े विधानसभा स्पीकर बन गए.

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017