एबीपी न्यूज के खास कार्यक्रम घोषणापत्र में उद्धव ठाकरे ने कहा- मैंने एनसीपी और बीजेपी के बीच गठबंधन होने से रोका था

By: | Last Updated: Friday, 3 October 2014 2:34 PM
uddhav thackeray

नई दिल्ली : एबीपी न्यूज के खास कार्यक्रम घोषणापत्र में हमारे तीखे सवालों के जवाब दिया. शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे. शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे ने कहा कि यदि मैंने नहीं रोका होता तो लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी और एनसीपी हाथ मिला लिये होते. मैं बाला साहेब की विरासत, शिवसेना की विरासत आगे ले रहा हूं. मैं किसी को चुनौती तो नहीं दूंगा लेकिन चुनौती स्वीकार करना मेरी विरासत है.

कौन हैं उद्धव ठाकरे ?

महाराष्ट्र की राजनीति का बड़ा चेहरा, मराठी मानुष की राजनीति के अगुवा, मुख्यमंत्री की कुर्सी के बड़े उम्मीदवार उद्धव ठाकरे. 54 साल के उद्धव ठाकरे को राजनीति विरासत में मिली. पिता बाला साहेब ठाकरे शिवसेना के संस्थापक थे. लेकिन उद्धव ने राजनीति में काफी देर से कदम रखा.

 

2002 में उद्धव के नेतृत्व में शिवसेना ने मुंबई में महानगर पालिका का चुनाव जीता. 2003 में बाला साहेब ठाकरे ने उद्धव को शिवसेना का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया.

2012 में बाला साहेब के निधन के बाद उद्धव ठाकरे शिवसेना के अध्यक्ष चुने गए.

 

उद्धव ठाकरे को बचपन से फोटोग्राफी का शौक है. उद्धव को वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी में महारत है और उन्होंने महाराष्ट्र की एतिहासिक जगहों को आसमान से अपने कैमरे में कैद किया है. उनकी बेहतरीन फोटोग्राफी की एक्जीबिशन मशहूर जहांगीर आर्ट गैलरी समेत कई जगहों पर लग चुकी है.

 

बाला साहेब ठाकरे के निधन के बाद शिवसेना के लिए ये पहला विधानसभा चुनाव है और उद्धव ठाकरे के सामने सबसे बड़ी राजनीतिक चुनौती है. बीजेपी से अलग होने के बाद शिवसेना को अकेले दम पर महाराष्ट्र चुनाव में विजय दिलाने की चुनौती.

 

उद्धव ठाकरे से पूछे गए कुछ सवाल के अंश

 

सवाल. क्या नतीजों के बाद बीजेपी से हाथ मिलाएंगे ?

 

उत्तर .पहले उन लोगों को उत्तर देना होगा कि शिवसेना के साथ गठबंधन क्यों तोड़ी. आज आप कह रहे हैं कि हम साथ आ सकते हैं तो पहले ये बताइए कि आपने गठबंधन क्यों तोड़ी.

 

सवाल. क्या मुख्यमंत्री पद के लालच ने गठबंधन तोड़ा?

 

ये बिल्कुल गलत है. 25 साल से बीजेपी से हमारा रिश्ता था. ऐसा नहीं है कि पहले तनाव नहीं था. लेकिन पहले प्रमोद जी और नेताओं को पता था कि कहां तक खिंचना है. लेकिन इस बार कुछ बात अलग थी. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह जब मातोश्री आए तो हमसे कहें कि ये मसला है और आपके साथ आगे अब ओम माथुर जी बात करेंगे. इसके बाद ओम माथुर हर बार कहते थे दिल्ली से ये निर्देश है. पहली बार ऐसा हुआ कि हर बार महाराष्ट्र में फैसला होता था दिल्ली को सूचना दी जाती थी. अबकी बार अलग हुआ. वह हर बार कहते थे कि हमने सर्वे कराया है आप इन सीटों पर जीतते नहीं हैं इसलिए हमें दे दो. ऐसा थोड़े ही होता है. कोई भी बेवकूफ नहीं है कि अपनी पार्टी को खत्म करे.

 

मैं मुख्यमंत्री बनूं या मेरी पार्टी का मुख्यमंत्री कौन नहीं चाहेगा.  शिवसैनिकों ने भी बीजेपी सांसदों के लिए काम किया है.  मोदी के लिए मेरे पिताजी बाला साहेब हमेशा साथ रहे. जब मोदी को सभी हटा रहे थे तब भी हमारे पिता जी मोदी के साथ थे.

 

एक दो बार छोड़ दें तो हर वक्त हम महाराष्ट्र अधिक सीटें लाए थें.

 

ये बात सच है कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी में चर्चा थी कि एनसीपी को गठबंधन में शामिल करना चाहते थे. फिर गोपीनाथ जी और हम लोगों ने इसका विरोध किया तब जाकर शरद पवार से गठबंधन नहीं हुआ.

 

नरेंद्र भाई से मेरा कोई विवाद नहीं है. लोकसभा चुनाव में लहर नहीं है ऐसा मैंने कभी नहीं कहा है. लेकिन विधानसभा चुनाव में अलग बात है. ऐसा कौन सा खास बात अखिलेश यादव, उत्तराखंड और लालू-नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव के दौरान कर दिया कि विधानसभा में विजयी हुए.

 

महाराष्ट्र में एक भावना यह है कि महाराष्ट्र के साथ उन लोगों ने धोखा दिया है. एक बात तो तय है कि महाराष्ट्र को बीजेपी तोड़ना चाहती है. इनको पता है कि शिवसेना साथ रहेगी तो ऐसा नहीं होने देगी.

 

एक बार 2012 में जून-जुलाई के दौरान बाला साहेब ने मेरे कहा सुषमा स्वराज कहां हैं. मैंने सुषमाजी को फोन पर बताया कि आपसे बाला साहेब मिलना चाहते हैं. इसके बाद वह मेरे यहां आईं. बाला साहेब ने सुषमा को आशीर्वाद दिया कि तुम प्रधानमंत्री बनोगी. इस पर वह भी चौंक गईं. यह मेरे सामने की घटना है.

 

 

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: uddhav thackeray
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Uddhav Thackeray
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017