कब गिरफ्तार होगा जेएनयू का असली मास्टर माइंड उमर खालिद?

By: | Last Updated: Wednesday, 17 February 2016 8:53 AM
umar khalid: real mastermind of jnu controversy

नई दिल्ली: छात्रसंघ के नेता कन्हैया की गिरफ्तारी के विरोध में आज भी जेएनयू में हड़ताल है. देश विरोधी नारे पर हो रहे विवाद के बीच दिल्ली पुलिस की एक रिपोर्ट से ये पता चला है कि देश विरोधी नारों का असली मास्टरमाइंड उमर खालिद नाम का छात्र नेता है. खालिद ने ही नौ फरवरी को अफजल गुरु की बरसी पर कार्यक्रम का आय़ोजन करवाया था. फिलहाल खालिद फरार है.

khalid3

इधर जेएनयू में आज भी उन छात्रों की हड़ताल जारी रहेगी, जो छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया की गिरफ्तारी के विरोध में पिछले चार दिन से हड़ताल पर हैं. आज कन्हैया की पुलिस रिमांड खत्म हो रही है उन्हें पटियाला हाउस कोर्ट में पुलिस पेश करेगी. जेएनयू विवाद को लेकर देश के अलग-अलग शहरों में प्रदर्शन हो रहा है. दिल्ली पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी ने एबीपी न्यूज़ से कहा है कि कन्हैया कुमार के खिलाफ उनके पास पर्याप्त सबूत हैं और इन्हें आज कोर्ट में पेश किया जाएगा.

आएइ औपको बताते हैं कि जेएनयू के असली मास्टर माइंड कहा जा रहा उमर खालिद आखिर है कौन? क्या है उमर का जेएनयू कनेक्शन?

नाम-उमर खालिद
पहचान- डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन का नेता

नौ फरवरी को जेएनयू में जो हुआ उसके पीछे उमर खालिद का सबसे बड़ा रोल है. डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन के बैनर तले खालिद ने ही उस दिन अफजल गुरु की बरसी पर कार्यक्रम का आयोजन करवाया था. कार्यक्रम में बड़ी तादाद में जेएनयू कैंपस के और बाहर के कश्मीरी छात्र शामिल हुए थे. और इस दौरान देश विरोधी नारे लगाए गए.

कार्यक्रम की इजाजत रद्द होने के बाद जब डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन और वामपंथी संगठनों के लोग जेएनयू कैंपस में मार्च कर रहे थे तब उमर खालिद उनकी अगुवाई कर रहा था. जिस वक्त नारे लग रहे थे उमर खालिद न केवल वहां मौजूद था बल्कि जेएनयू प्रशासन और ABVP के खिलाफ उसने ही नारेबाजी शुरू की थी. बाद में वहां देश विरोधी नारे भी लगे.

khalid4

11 फरवरी को जब ABVP के खिलाफ वामपंथी संगठनों का प्रदर्शन हो रहा था उस वक्त भी उमर खालिद कन्हैया के साथ खड़ा था. कन्हैया से उसकी नजदीकी की कहानी बयां करने के लिए ये तस्वीरें काफी हैं.

ऐसा नहीं है कि उमर खालिद ने पहली बार जेएनयू की शांति भंग करने की कोशिश की. इससे पहले भी कई बार डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन के लोग ऐसी हरकतें कर चुके हैं.

जेएनयू कांड पर गृह मंत्रालय को भेजी अपनी रिपोर्ट में दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उसने डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन की हरकतों को लेकर दो बार जेएनयू प्रशासन को आगाह भी किया था. ये बताया था कि इनकी वजह से कैंपस की शांति भंग हो सकती है.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक उमर खालिद के ग्रुप ने ही कैंपस में देवी देवताओं की नंगी तस्वीरें लगाकर नफरत पैदा करने की कोशिश की थी. उमर खालिद के ग्रुप ने आतंकी अफजल गुरु की फांसी पर जेएनयू कैंपस में मातम मनाया था.

2010 में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सीआरपीएफ जवानों की हत्या पर इन लोगों ने जश्न मनाया था. जेएनयू कैंपस में उमर खालिद के ग्रुप की बढ़ती गतिविधियों को लेकर दिल्ली पुलिस ने पिछले साल अक्टूबर में गृह मंत्रालय को भी एक रिपोर्ट भेजी थी. लेकिन बावजूद इसके न तो उमर खालिद के खिलाफ कोई कार्रवाई हुई और न ही उसके संगठन डेमक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन की गतिविधियों पर कोई पाबंदी लगाई गई. अब नतीजा सबके सामने है.

उमर खालिद ने न केवल जेएनयू कैंपस के अमन चैन के माहौल को आग लगाई बल्कि देश और दुनिया में यूनिवर्सिटी के नाम पर ऐसी कालिख पोत दी है जिसे मिटना शायद ही मुमकिन हो पाएगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: umar khalid: real mastermind of jnu controversy
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: JNU controversy umar khalid
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017