इन 10 फैसलों ने बंद कर दिया है विरोधियों का मुंह!

By: | Last Updated: Monday, 29 February 2016 9:23 PM
Union Budget 2016: 10 most important decision

नई दिल्ली: मोदी सरकार का ये बजट शानदार है. अपने बजट में मोदी ने जो संदेश दिया है वो आपके सामने हैं. इल्जाम लगता रहा कि मोदी सरकार दरअसल सूट बूट की सरकार है, उद्योगपतियों की सरकार है लेकिन आज संसद के बजट सत्र में वित्त मंत्री के बैग से जो बजट निकला उसने पीएम मोदी को धोती और गमछे वाला होने का साफ संदेश दिया है. बजट में हर पल हर जगह गांव, गरीब और किसान का जिक्र था उनकी बेहतरी का पूरा ख्याल रखा गया. भले ही इसके लिए अमीरों पर बोझ डाला गया है और मिडिल क्लास को सर्विस टैक्स की मार भी पड़ी है.

अपने बजट के जरिए मोदी सरकार ने सूट बूट के नाम पर होने वाले तमाम आरोपों का जवाब दिया है. राहुल गांधी ने मोदी पर सूट-बूट की सरकार का तमगा चिपकाने की कोशिश की थी मतलब ये कि ये अमीरों की सरकार है. लेकिन आज जब वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट पेश किया तो उनके पिटारे से गरीबों के लिए अच्छी खबर निकली जबकि अमीरों के लिए बुरी खबर.

हम आपको ऐसे अमीर और गरीब पर मोदी सरकार के ऐसे पांच फैसले बताते हैं जो सूट-बूट की सरकार को धोती और गमछे वाली सरकार बता रहे हैं पहले बात अमीरों पर फैसलों की.

पहला फैसला
बजट में किसान कल्याण सेस के नाम पर सर्विस टैक्स को 14.5 फीसदी से बढ़ाकर 15 फीसदी कर दिया है इसकी वजह से रेस्टोरेंट में खाना खाना, ब्यूटी पार्लर जाना, हवाई सफर से लेकर रेल सफर तक महंगा हो जाएंगा.

दूसरा फैसला
मोदी सरकार ने छोटी-बड़ी सभी तरह की गाड़ियों को महंगा कर दिया है. पेट्रोल-सीएनजी की गाड़ियों पर एक फीसदी इंफ्रास्ट्रक्चर सेस लगेगा. डीजल कार पर ढाई फीसदी देना होगा. जबकि एसयूवी पर चार फीसदी सेस लगेगा. 10 लाख से महंगी कारों पर एक फीसदी अतिरिक्त टैक्स लगेगा यानी 10 लाख की स्कॉरपियो साढ़े दस लाख तक की पड़ेगी.

तीसरा फैसला
मोदी सरकार ने एक्साइज ड्यूटी बढ़ाकर एक तरफ सोने और हीरे के गहने, ब्रांडेड कपड़े और सिगरेट से लेकर सिगार तक महंगा कर दिया है.

चौथा फैसला
मोदी सरकार ने छोटे करदाताओं को राहत दी है. पांच लाख सालाना आय वालों को 3 हजार रुपए की छूट मिली है लेकिन मिडिल क्लास के टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

पांचवां फैसला
मोदी सरकार ने 1 करोड़ से ज्यादा आय पर 12 की जगह 15 फीसदी सरचार्ज लगा दिया है. अगर किसी की कमाई एक करोड़ चार लाख सालाना है तो उसे अब 34 लाख 33 हजार 350 रुपये टैक्स देना होगा. जो पहले के मुकाबले करीब 35 हजार 998 रुपये बढ़ गया है.

अब बात गरीबों पर हुए फैसलों की

पहला फैसला
मोदी सरकार ने अपने बजट में गावों तक सड़क, 2018 तक बिजली और 6 करोड़ घरों तक कंप्यूटर पहुंचाने का वादा किया है

दूसरा फैसला
गरीबों के लिए एक लाख रुपए की स्वास्थ्य बीमा योजना का एलान किया है, डायलिसिस मशीने सस्ती की गई, और 3 हजार सस्ती दवा की दुकान खोलने का एलान हुआ है.

तीसरा फैसला
गांव में चूल्हे पर खाना बनाने वाली डेढ़ करोड़ गरीब महिलाओं को सस्ते दाम पर रसोई गैस कनेक्शन देने का एलान किया है.

चौथा फैसला
किसानों को गैस सब्सिडी की तरह खाद के लिए सब्सिडी सीधे अकाउंट में आएगी. शुरुआत कुछ जिलों से होगी. किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए अब इलाके की थोक मंडी की बजाय ऑनलाइन मार्केटिंग ई प्लेटफॉर्म दिया जा रहा है जिससे वो देश की 600 से ज्यादा थोक मंडियों में अपना माल बेच पाएगा.

पांचवा फैसला
सरकार ने 15 हजार वेतन वाले कर्मचारियों को पीएफ का हिस्सा सरकारी खजाने से देने का एलान किया है. सरकार नए कर्मचारियों को पहले तीन साल तक 8.33 फीसदी पीएफ देगी. और यहां तक कि यूपीएक की जिस मनरेगा योजना को मोदी ने विफलताओं का स्मारक बताया था उसके लिए अब तक का सबसे बड़ा बजट करीब साढ़े 38 हजार करोड़ का एलान किया गया है.

बजट से संबंधित ये खबर भी पढ़ें-

बजट पेश करते हुए जेटली ने क्यों किया राहुल गांधी का जिक्र?

बजट 2016: किराए पर रहने वालों को मोदी सरकार ने दिया बड़ा तोहफा

आयकर स्लैब में कोई बदलाव नहीं, हाउस रेंट सीमा बढ़ी

अब कर्मचारियों के PF में हिस्सा देगी केंद्र सरकार 

बजट 2016: जानें- बजट के खास-खास प्वाइंट्स जिससे आपका सीधा संबंध है

देश का बजट : जानें क्या पड़ेगा जेब पर भारी, कहां मिलेगी राहत

Budget 2016: सरकार गरीबों पर मेहरबान, मिडिल क्लास पर महंगाई की मार

शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार पर क्या हुआ खास एलान?

BUDGET2016: सरकार 2016-17 में खोलेगी 3,000 जन मेडिकल स्टोर

बजट2016: गरीब परिवार की महिला सदस्यों को गैस कनेक्शन मुहैया करायेगी सरकार

Budget 2016-17: अमीरों पर टैक्स बढा़, एक करोड़ की आय पर 15% सरचार्ज

बजट में कृषि क्षेत्र को 36,000 करोड़ रुपए देने का प्रस्ताव, कृषि कर्ज नौ लाख करोड़

Budget 2016-17: जिला अस्पतालों में होंगी डायलिसिस सेवाएं

आम बजट: सड़कों पर ज़ोर, हाइवे के लिए 97,000 करोड़ रुपये आवंटित

बजट 2016 : बीजेपी ने कहा गरीबों का बजट, विपक्ष ने बताया ‘साधारण तस्वीर’

बजट 2016: हर वो सेवा हुई महंगी जिनपर लगते हैं सर्विस टैक्स

बजट 2016: आयकर स्लैब में कोई बदलाव नहीं, हाउस रेंट सीमा बढ़ी

बजट 2016: अब छोटी-बड़ी कारें सभी होंगी महंगी

बजट 2016: अब कर्मचारियों के PF में हिस्सा देगी केंद्र सरकार

बजट 2016: कश्ती चलाने वालों ने जब हार कर दी पतवार हमें…: अरुण जेटली

बजट 2016: जानें- बजट के खास-खास प्वाइंट्स जिससे आपका सीधा संबंध है

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Union Budget 2016: 10 most important decision
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017