देश के कई राज्यों में भारी बारिश, यूपी, उत्तराखंड, बिहार और असम के कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात

By: | Last Updated: Sunday, 17 August 2014 2:44 AM

नई दिल्ली: देश के कई राज्यों में लगातार हो रही भारी बारिश से कई राज्यों में तबाही जैसे हालत हैं. बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. उत्तर प्रदेश में श्रावस्ती, बलरामपुर और लखीमपुर खीरी समेत कई इलाकों में पानी भरने से हालात खराब हैं. उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती ज़िले में राप्ती नदी में जलस्तर बढ़ने से सैकड़ों गांवों में पानी भर गया है और तेज बहाव में सड़क भी बह गई है.

 

हिमाचल में भारी बारिश से नदियां उफान पर

 

नेपाल की तरफ से पानी छोड़े जाने से यूपी के बहराइच में भी सैलाब ने तबाही मचाई है. बहराइच जिले की तीन तहसीलों में भारी तबाही हुई है.बहराइच के 100 गांवों की करीब एक लाख आबादी बाढ से प्रभावित हुई है और अभी तक पांच लोगों के मारे जाने की खबर है. बहराइच में प्रशासन लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाने में जुटा है. फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए हेलिकॉप्टर लगाने की तैयारी भी है.

 

उत्तराखंड में हरिद्वार, देहरादून, पौड़ी गढ़वाल, कोटद्वार और पिथौरागढ़ में भारी बारिश से लोग परेशान हैं. कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. उत्तराखंड में बाढ़ जैसे हालात बनने के बाद अब स्थिति थोड़ी सामान्य हो गई है. फिलहाल कई मैदानी इलाकों में बारिश बंद है. गंगा का पानी भी लगभग ढाई फुट नीच चला गया है और जिन सडकों पर बारिश की वजह से गड्ढे बन गए थे, उनकी मरम्मत का काम शुरू हो गया है. हालांकि इससे पहले हुई बारिश की वजह से उत्तर प्रदेश के बिजनौर की मालन नदी में पानी का स्तर ऊपर आ गए और इस वजह से हरिद्वार -पौड़ी हाईवे को बंद करना पड़ा है. पानी बढ़ने की वजह से आसपास के इलाको में फसले भी बर्बाद हो गयी हैं.

 

बिहार के भी नौ जिलों में बाढ़ का अलर्ट जारी कर दिया गया है. सहरसा, मधुबनी और सुपौल में खतरे की आशंका के चलते कई घर खाली कराए गए हैं. बिहार के दरभंगा में बांध टूटने से कई गांवों में पानी भर गया है. लोगों को अपने घर खाली करने पड़े हैं. एनडीआरएफ की टीम बचाव में जुटी है. दरभंगा के घनश्यामपुर में कस्तूरबा गांधी बालिका स्कूल की लड़कियां भी बाढ़ में फंस गईं. स्कूल में 4 से 5 फीट पानी घुस गया है. बिहार के सुपौल में बाढ़ के हालात के चलते लोग घरों को छोड़कर सुरक्षित जगहों की ओर जा रहे हैं. सुपौल में लोगों ने सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाया है. लोगों ने कहा कि बचाव का काम सरकार ठीक ढंग से नहीं कर रही है.

 

असम के गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र नदी खतरे के निशान के करीब बह रही है. गुवाहाटी और आसपास के की इलाकों में हाई अलर्ट जारी किया गया है. जम्मू के सांबा इलाके में पाकिस्तान से लगी सीमा पर भारी बारिश से भरा पानी. करीब एक दर्जन बीएसएफ जवान घंटों पानी में फंसे रहे.

 

यूपी का हाल

उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटों के दौरान भारी वर्षा हुई और पूर्वाचल में घाघरा, राप्ती तथा बूढ़ी राप्ती नदियां कई इलाकों में खतरे के निशान से उपर बह रही हैं.

 

मौसम विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, बीते 24 घंटों के दौरान बलरामपुर, उतरौला, सलेमपुर, गोण्डा, नजीवाबाद और संभल के इलाकों में 7 से 9 सेमी के बीच वर्षा दर्ज की गयी. बलिया, गाजीपुर, बहराइच, खलीलाबाद, दहेड़ी, बिसलपुर, धौरहरा, सादाबाद और शाहजहांपुर आदि इलाकों में चार से छह सेंटीमीटर के बीच वर्षा हुई है.

मौसम विभाग ने जहां एक ओर अगले 24 घंटों के दौरान भी भारी वर्षा की संभावना जताई है, वहीं केंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट में बताया गया है कि घाघरा, राप्ती और बूढ़ी राप्ती नदियों में पूर्वाचल के कई इलाकों में तबाही फैलानी शुरु कर दी है.

 

आयोग के अनुसार, राप्ती नदी श्रावस्ती जिले के काकरधारी और भिनगा इलाके में खतरे के निशान से खासा उपर बह रही है, जिससे अनेक गांव बाढ़ की चपेट में आ गये है.

 

घाघरा नदी एल्गिन ब्रिज (बाराबंकी), और अयोध्या, शारदा नदी पलियाकलां तथा बूढ़ी राप्ती सिद्धार्थ नगर जिले के ककरही इलाके में खतरे के निशान से उपर बह रही है, जबकि गंगा इलाहाबाद से वाराणसी तक और रामगंगा मुरादाबाद से शाहजहांपुर तक बढ़ रही है.

 

बिहार में बारिश से हाल बेहाल

बिहार में दो नदियों का तटबंध क्षतिग्रस्त होने से चार जिलों दरभंगा, पश्चिमी चंपारण, नालंदा और शेखपुरा के हजारों लोग प्रभावित हो गए हैं.

 

दरभंगा जिला में कमला बलान दायें (पश्चिमी) तटबंध के धनश्यामपुर प्रखण्ड के कुम्हरौल एवं बौर गांव के पास क्रमश: लगभग 30 मीटर एवं 15 मीटर क्षतिग्रस्त हो गया है, जिससे दरभंगा जिला के धनश्यामपुर, विरौल एवं कुशेश्वर स्थान बाढ से प्रभावित हुआ है.

 

जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी ने बताया कि इसके लिये जिम्मेदार अभियंताओं (कार्यपालक अभियंता से कनिष्ठ अभियंता तक के पदाधिकारी) को निलंबित करने की कार्रवाई की जा रही है.

 

वहीं पश्चिमी चंपारण जिला में गंडक नदी के बायें तट पर चंपारण तटबंध के बगहा प्रखंड के चन्दरपुर बरवा गांव के पास 30 मीटर की लम्बाई में क्षतिग्रस्त हुआ है.

 

चौधरी ने बताया कि तटबंध के क्षतिग्रस्त होने के कारणों की जांच की जा रही है. अगर तटबंध के क्षतिग्रस्त होने में अभियंताओं को जिम्मेदार पाया जाता है तो उनके विरुद्ध कार्रवाई की जायेगी.

 

मंत्री ने बताया कि विभाग के मुख्य अभियंता को इन दोनों स्थानों पर तटबंध के टूटने वाले स्थान पर मरम्मत का कार्य अपनी निगरानी में कराने के लिए भेजा गया है.

 

उन्होंने बताया कि नालंदा एवं शेखपुरा जिला में कुछ स्थानों पर लघु बांध क्षतिग्रस्त हुये हैं. क्षतिग्रस्त तटबंधों को पुनस्र्थापित करने के लिए युद्ध स्तर पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है.

 

चौधरी ने बताया कि नेपाल भू-भाग में लगातार वर्षा के कारण बिहार की नदियों का जलस्तर उफान पर है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: up_bihar_flood
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: asam Bihar flood UP uttarakhand
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017