UPSC विवाद: सिर्फ इस साल नहीं जुड़ेंगे अंग्रेजी के 20 नंबर, अगले साल हो सकते हैं नए बदलाव

By: | Last Updated: Wednesday, 6 August 2014 4:53 AM

नई दिल्ली: संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की सिविल सेवा परीक्षा के सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट (सी-सैट) को खत्म करने को लेकर विवाद अभी भी जारी है. यूपीएससी परीक्षा से सी-सैट हटाने की मांग को लेकर हो रहे हंगामे के बीच सूत्रों के हवाले खबर है कि यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में सिर्फ इस साल के लिए अंग्रेजी कॉम्प्रिहेंशन के 20 नंबर मेरिट में नहीं जुड़ेंगे.

 

सूत्रों से मिली खबरों के मुताबिक सरकार ने लोकसभा में जिस फॉर्मूले का एलान किया था वो सिर्फ इसी साल के लिए है. अगले साल के लिए पाठ्यक्रम में और बदलावों का विकल्प खुला है.

 

UPSC विवाद: सरकार के एलान से संतुष्ट नहीं विपक्ष और छात्र, आज संसद से सड़क तक हो सकता है हंगामा 

 

केंद्र सरकार ने सोमवार को संसद में ऐलान किया कि प्रारंभिक परीक्षा के सी-सैट प्रश्न-पत्र में अंग्रेजी के सवालों के अंकों को ग्रेडेशन या मेरिट में शामिल नहीं किया जाएगा. सरकार ने यह घोषणा भी की कि 2011 की सिविल सेवा परीक्षा में शामिल हुए छात्रों को 2015 की परीक्षा में शामिल होने का एक और मौका दिया जाएगा. सीसैट 2011 से ही लागू हुआ था.

 

सरकार ने संसद में सोमवार को जो घोषणा की उससे जुड़ी अधिसूचना कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) की ओर से जारी की जाएगी और फिर यूपीएससी उसे लागू करेगी.

 

सरकार ने खत्म नहीं किया सीसैट लेकिन सिविल सर्विसेज परीक्षा में 20 नंबर के अंग्रेजी पेपर पर तय नहीं होगी मेरिट

 

आक्रोशित परीक्षार्थियों को शांत करने की कोशिशों के तहत सिंह ने कहा कि प्रारंभिक परीक्षा के सीसैट प्रश्न-पत्र में अंग्रेजी कॉम्प्रिहेंशन के सवालों के अंकों को ग्रेडेशन या मेरिट में शामिल नहीं किया जाएगा. एक संक्षिप्त बयान में सिंह ने यह भी कहा कि 2011 की सिविल सेवा परीक्षा में शामिल हुए छात्रों को 2015 की परीक्षा में शामिल होने का एक और मौका दिया जाएगा.

 

पिछले कई दिनों से इस मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में लगातार हंगामा हो रहा था और कई बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी थी . बहरहाल, प्रदर्शनकारी छात्रों ने सरकार के बयान को खारिज करते हुए कहा कि उन्हें सीसैट खत्म किए जाने से कम पर कुछ भी मंजूर नहीं है .

 

जानें, यूपीएससी विवाद की 10 बड़ी बातें?

 

प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे सिविल सेवा परीक्षार्थी पवन ने कहा, ‘‘सी-सैट को लेकर कार्मिक राज्य मंत्री जीतेंद्र द्वारा लोकसभा में दिए गए बयान से हम बिल्कुल संतुष्ट नहीं हैं. हम सी-सैट को पूरी तरह खत्म करने की मांग करते हैं. हमने जंतर-मंतर पर अपना प्रदर्शन जारी रखने का फैसला किया है.’’

 

प्रारंभिक परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की भी मांग कर रहे प्रदर्शनकारी छात्रों ने अब मध्य दिल्ली के जंतर-मंतर पर अपना अभियान जारी रखने का फैसला किया है. पिछले करीब 25 दिन से वे उत्तर दिल्ली के मुखर्जी नगर में प्रदर्शन कर रहे हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: UPSC exam row: Non -inclusion of English marks decision applicable only for this year
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017