यूपी: 15 सरकारी डॉक्टर सालभर से लापता

By: | Last Updated: Friday, 26 September 2014 4:56 AM

सोनभद्र: उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं पर सरकार हर बजट में भारी भरकम राशि का प्रावधान कर पानी की तरह पैसा बहाती है, लेकिन जब डॉक्टर ही तैनाती स्थल से गायब हो जाएं तो सारे इंतजाम धरे के धरे रह जाते हैं. प्रदेश के सोनभद्र जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों का हाल कुछ ऐसा ही है.  यहां के विभिन्न अस्पतालों के 15 डॉक्टर सालभर से गैरहाजिर हैं. ये 15 चिकित्सक कहां हैं, महकमा नहीं जानता और भविष्य में अपने तैनाती स्थल पर आएंगे भी या नहीं, यह अधिकारियों को नहीं पता.

 

क्या इन चिकित्सकों पर कार्रवाई होगी? इस सवाल पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अमरेंद्र बहादुर सिंह सिर्फ इन चिकित्सकों का वेतन रोक देने की बात कह रहे हैं. जनपद में कहने को आठ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और 25 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र संचालित हैं, लेकिन इनमें से अधिकांश में चिकित्सा व्यवस्था पटरी से उतरी हुई है. हालत ये है कि ज्यादातर अस्पतालों में डॉक्टर नहीं हैं. इससे मरीजों को झोलाछाप चिकित्सकों की शरण लेनी पड़ती है.

 

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, सलखन में तैनात डॉक्टर अतीश कुमार, चिचलिक के ज्ञानेंद्र मौर्य, बभनी के राकेश कुमार मलिक, सतवहिनी के रविरंजन, म्योरपुर के भैयालाल और अविनाश जायसवाल, कुंवारी के अजय कुमार यादव, विंढमगंज के इम्तियाज अहमद, जुगैल के हिमांशु शेखर, बड़गड़वा के संतोष कुमार, कोन के रीतेश कुमार और कचनरवा प्राथमिक अस्पताल में तैनात डॉ. तरुण कुमार पटेल कई माह से अस्पताल नहीं गए हैं.

 

कुछ ऐसा ही रवैया जिला अस्पताल में तैनात डॉक्टर अतीश रंजन, पवन कुमार और सविता सिंह का है. इन डॉक्टरों ने यहां ज्वाइन तो किया, लेकिन कुछ दिन बाद कहां गायब हो गए, कोई नहीं जानता. सांगोबांध में एक भी डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ नहीं है. बभनी अस्पताल एक डॉक्टर के सहारे चल रहा है. इसी तरह कई अन्य अस्पतालों पर भी फार्मासिस्टों के सहारे ही व्यवस्था संचालित हो रही है. ऐसे में स्वास्थ्य सेवाओं की हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है.

 

उधर, स्वास्थ्य महकमा भी अब तक इस समस्या का समाधान नहीं निकाल पाया है, कार्रवाई के नाम पर केवल इन चिकित्सकांे का वेतन रोक दिया गया है. पहले से ही अस्पतालों में चिकित्सकों की किल्लत है, ऐसे में इन लापता डॉक्टरों की जगह नई तैनाती कर पाना भी संभव नहीं है. आला अधिकारी हाथ खड़े कर रहे हैं. ग्रामीण क्षेत्रों की जनता का इलाज भगवान भरोसे है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: uttar pradesh: 15 doctors not present from a year
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: doctor present uttar pradesh
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017