गिरफ्तार होंगे विजय माल्या?

By: | Last Updated: Monday, 7 March 2016 5:17 PM
Vijay Mallya barred from accessing Rs 515 Crore

नई दिल्ली: उद्योगपति और यूबी समूह के चेयरमैन विजय माल्या को आज दोहरा झटका लगा है. कर्ज वसूली ट्रिब्यूनल यानी DRT ने विजय माल्या पर डिएजियो कंपनी से मिले 515 करोड़ रुपये बैंक से निकालने पर रोक लगा दी है. आज ही प्रवर्तन निदेशालय यानी ED ने भी विजय माल्या के खिलाफ पैसों की हेराफेरी का केस दर्ज किया है.

देश के बड़े शराब कारोबारी रहे विजय माल्या को कर्ज वसूली के केस में बड़ा झटका लगा है. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की अर्जी पर बेंगलुरू में कर्ज वसूली ट्रिब्यूनल – DRT ने फैसला सुनाया है.

यूनाइटेड स्पिरिट्स कंपनी से अलग होने के एवज में डिएजियो कंपनी से मिलने वाले 515 करोड़ रुपये विजय माल्या बैंक से नहीं निकाल सकते. DRT में इस मामले में अगली सुनवाई 28 मार्च को होगी.

SBI ने दी थी अर्जी

DRT में विजय माल्या के खिलाफ देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI ने अर्जी दी थी. 17 बैंकों ने विजय माल्या की एयरलाइन कंपनी किंगफिशर को 7800 करोड़ रुपए का कर्ज दिया था, इसमें से 1600 रुपए का कर्ज SBI का है.

SBI की अगुवाई में इन बैंकों ने DRT में अपील कर विजय माल्या से कर्ज वसूली कराने की मांग की है. बैंकों की मांग है कि विजय माल्या को यूनाइटेड स्पिरिट्स कंपनी का चेयरमैन पद छोड़ने के लिए डिएजियो ग्रुप से 7.5 करोड़ डॉलर यानी 510 करोड़ रुपए मिलने वाले हैं, DRTउस रकम से किंगफिशर के लेनदारों का कर्ज चुकाने की मंजूरी दे.

DRT ने शुक्रवार को बैंकों और माल्या का पक्ष सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

गिरफ्तार होंगे विजय माल्या?

विजय माल्या से कर्ज वसूली के लिए बैंकों ने कर्नाटक हाईकोर्ट में भी अर्जी दे रखी है. बैंकों ने अपनी अर्जी में विजय माल्या की गिरफ्तारी और उनका पासपोर्ट जब्त करने की मांग की है.

बैंकों का आरोप है कि विजय माल्या जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाना चाहते हैं और कानून से बचने के लिए लंदन में बसना चाहते हैं. विजय माल्या ने पूरे मामले पर बयान जारी करके कहा था कि बैंकों ने उन्हें नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स का पोस्टर बॉय बना दिया है. माल्या ने कहा मैं 28 साल से प्रवासी भारतीय हूं और भागा नहीं हूं. बैंक मेरी कंपनियों के शेयर बेचकर 1 हजार 244 करोड़ रुपए वसूल कर चुके हैं और मेरी कंपनियों के 1 हजार 250 करोड़ रुपए कर्नाटक हाई कोर्ट में जमा हैं. मैं बैंकों से वन टाइम सेटेलमेंट के लिए बात कर रहा हूं.

देश में कई ऐसे मामलों में जिनमें बड़ी बड़ी कंपनियों पर बैंकों का लाखों करोड़ रुपए का नॉन परफॉर्मिंग एसेट है लेकिन सिर्फ मुझे और यूबी ग्रुप को विलफुल डिफॉल्टर घोषित किया गया है.

DRT के आदेश से पहले विजय माल्या को प्रवर्तन निदेशालय ने भी झटका दिया.

ED ने मनी लॉन्डरिंग एक्ट के तहत विजय माल्या पर केस दर्ज किया है. ED ने ये केस आईडीबीआई बैंक से लिए गए 900 करोड़ के कर्ज को ना चुकाने के मामले में किया है. ED इस बात की जांच करेगा कि कहीं माल्या ने बैंक से लिया पैसा विदेश में तो ट्रांसफर नहीं किया. ED जल्द ही विजय माल्या से पूछताछ करने वाला है.

विजय माल्या ने अपनी सफाई में कहा है कि सरकारी बैंकों के देश में 11 लाख करोड़ रुपये बकाया हैं. कर्ज लेने वालों में किंगफिशर से कहीं बड़े लेनदार शामिल हैं लेकिन उन्हें विलफुल डिफॉल्टर मतलब जानबूझ कर्ज नहीं चुकाने वाला घोषित किया गया है. क्या है सरकारी बैंकों के कर्ज की हालत और अगर वो पैसा आ जाए तो देश में क्या कुछ हो सकता है.

vijay malya1

11 लाख करोड़ मतलब 11 पर 12 शून्य 11,00,000,00,00,000 गिन भी ना पाएं आप एक नजर में…

विजय माल्या का दावा है कि सरकारी बैंकों का इतना पैसा एनपीए यानी कर्ज में फंसा है. NPA यानी नॉन परफॉर्मिंग एसेट बैंकों की वो रकम होती है जो कर्ज में लोगों के पास होती है. जिस रकम पर तीन महीने तक ईएमआई नहीं चुकाई जाती है वो रकम एनपीए कहलाती है. सरकारी बैंकों का 4 लाख 2 हजार करोड़ रुपया एनपीए में बकाया है. यानी माल्या के अनुमान का करीब एक चौथाई. फिर भी चार लाख 2 हजार की रकम छोटी-मोटी नहीं है.

इतना पैसा अगर देश में सड़क बनाने में खर्च किया जाए तो दिल्ली-डासना एनएच-24 जैसे 131 हाईवे बनकर तैयार हो जाएंगे. 37 किलोमीटर की 14 लेन वाली सड़क बन जाएगी.

165 किलोमीटर वाला यमुना एक्सप्रेसवे जिससे दिल्ली से अगर महज दो घंटे में पहुंचेत हैं वैसे 11 एक्सप्रेसवे देश में बन सकते हैं. पिछले बजट में एक एम्स के लिए 125 करोड़ रुपये दिए गए थे.. 4 लाख करोड़ में देशभर में 3216 एम्स बनकर तैयार हो सकते हैं.

100 स्मार्ट सिटी के लिए मोदी सरकार ने पिछले बजट में 7 हजार करोड़ दिए थे.. 4 लाख करोड़ में देश के 5600 शहरों को स्मार्ट सिटी बनाया जा सकता है.

इसी तरह अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन का बजट 98 हजार करोड़ का है. अगर बैंकों के ये चार लाख करोड़ रुपये देश के निर्माण में लगते हैं तो ऐसे चार बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पूरे हो जाएंगे.

2022 तक हर परिवार को घर का वादा सरकार ने किया है.. अगर 4 लाख का एक मकान बने तो 1 करोड़ परिवारों को छत नसीब हो सकती है..

फिलहाल दो लाख करोड़ की रकम कर्ज में फंसी है और बैंक किंगफिशर के विजय माल्या से 7800 करोड़ की वसूली के लिए अदालत की शरण में हैं.

कौन हैं विजय माल्या
विजय माल्या देश के बड़े बिजनेसमैन हैं. आलीशान जिंदगी जीने के लिए मशहूर हैं. UB ग्रुप के मालिक हैं. शराब कंपनी यूनाइटेड स्पिरिट्स के पूर्व चेयरमैन.

किंगफिशर एयरलाइंस के मुखिया, IPL टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के मालिक, राज्यसभा के सदस्य लेकिन अब सबसे बड़े कर्जदारों में से एक बन गये हैं. 17 बैंकों का 7 हजार 800 करोड़ रुपये बकाया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Vijay Mallya barred from accessing Rs 515 Crore
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: vijay mallya
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017