Violence During Dalit Bharat bandh in Gwalior Bhind Morena were funded Says MP Police

दलित आंदोलन: MP पुलिस का दावा- ग्वालियर, भिंड हिंसा के लिए हुई थी 'फंडिंग'

मध्य प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) मकरंद देउस्कर ने कहा कि दलितों के भारत बंद के दौरान कई संगठनों और लोगों को हिंसा फैलाने के लिए पैसे दिए गए थे. जिसकी पुलिस बारीकी से जांच कर रही है.

By: | Updated: 08 Apr 2018 01:02 PM
Violence During Dalit Bharat bandh in Gwalior Bhind Morena were funded Says MP Police

भोपाल: एससी/एसटी एक्ट को कमजोर किये जाने के खिलाफ 2 अप्रैल को हुए दलित आंदोलन और उसमें हुई हिंसा के बाद सियासी आरोप-प्रत्यारोप जारी है. इस बीच मध्य प्रदेश (एमपी) पुलिस ने दावा किया है कि ग्वालियर और उसके आसपास आंदोलन के दौरान हुई हिंसा प्रायोजित थी.


शुरूआती जांच में पुलिस को पता चला है कि कुछ सामाजिक संगठनों और कार्यकर्ताओं को आंदोलन के लिये पैसे दिये गये थे. दलितों के भारत बंद के दौरान सबसे अधिक हिंसा मध्य प्रदेश में हुई थी और आठ लोगों की जानें चली गई थी.


मध्य प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) मकरंद देउस्कर ने कहा कि कई संगठनों और लोगों को हिंसा फैलाने के लिए पैसे दिए गए थे. जिसकी पुलिस बारीकी से जांच कर रही है.


उन्होंने कहा, ''प्रदेश के विभिन्न जिलों से उसकी (फंडिंग की) सूचना है. अभी प्रारंभिक जानकारी है. उसके अनुसार कुछ संगठनों और कुछ कार्यकर्ताओं को पैसा दिया गया था. अभी ये प्रदेश के जिलों में अलग-अलग तरह की फंडिग करने वाले और संगठन के नाम स्पष्ट हुये हैं उनको हम लोगों ने संज्ञान में लिया है. सामाजिक संगठन हैं. बहुत सारे संगठन थे.


दो अपैल के प्रदर्शन के बाद से दलितों को प्रताड़ित किया जा रहा है: उदित राज


वहीं ग्वालियर में आईटी एक्ट के तहत 4 मामले दर्ज कर चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. यह कार्यवाही सोशल मीडिया पर भड़काऊ बातें और कमेंट करने के लिए की गई है. जबकि हिंसा वाले क्षेत्रों में आर्म्स लाइसेंस निलंबित करने के बाद से अब तक ग्वालियर में 2700, मुरैना में 1900 और भिण्ड में 4000 लोगों ने हथियार जमा किए हैं.


एससी/एसटी कानून को कमजोर करने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान मध्य प्रदेश के ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में भड़की हिंसा में कुल आठ लोगों की जान गई थी. ग्वालियर में तीन, भिंड में चार और मुरैना में एक व्यक्ति की हिंसा में मौत हुई थी.


पुलिस ने हिंसा में शामिल 226 लोगों को गिरफ्तार किया है. वहीं पुलिस ने राजा चौहान नाम के शख्स के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की है. जिन्होंने ग्वालियर में बंद के दौरान दलितों की भीड़ पर कथित तौर पर गोलियां चलाई.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Violence During Dalit Bharat bandh in Gwalior Bhind Morena were funded Says MP Police
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story बिहार विधान परिषद चुनाव: नीतीश कुमार, सुशील मोदी, राबड़ी देवी सहित 11 निर्विरोध निर्वाचित