क्या है मछली खरीदने के लिए ड्राइवर के ट्रेन रोक देने का वायरल सच?

क्या है मछली खरीदने के लिए ड्राइवर के ट्रेन रोक देने का वायरल सच?

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे मैसेज में लिखा है, ‘’केरल में एक व्यक्ति ने मछली खरीदने के अपना वाहन बीच रोड में पार्क कर दिया.’’

By: | Updated: 11 Oct 2017 09:33 PM
नई दिल्ली:  सोशल मीडिया पर एक वीडियो के जरिए दावा किया जा रहा है कि मछली खरीदने के लिए एक ट्रेन ड्राइवर ने ट्रेन रोक दी. दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो भारत के दक्षिण राज्य केरल का है. इस वीडियो को देखने के बाद हर किसी के मन में एक सवाल उठ रहा है कि मछली खरीदने के लिए ड्राइवर ट्रेन को कैसे रोक सकता है?

वायरल हो रहे मैसेज में क्या लिखा है?

वीडियो के साथ सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे मैसेज में लिखा है, ‘’केरल में एक व्यक्ति ने मछली खरीदने के अपना वाहन बीच रोड में पार्क कर दिया.’’

viral video 3

एक चिट्ठी ने बताई सच्चाई

रेलवे की तरफ से जारी की गई एक चिट्ठी के मुताबिक ये मामला करीब 6 साल पुराना फरवरी 2011 का है. वीडियो में दिख रही ट्रेन केरल के VANIYAMBALAM (VNB) में रुकी थी. उस वक्त ट्रेन में पीजे जोसेफ और टीबी अजीत कुमार क्रू के रूप में मौजूद थे, जबकि VANIYAMBALAM (VNB) स्टेशन पर मनोज स्टेशन मास्टर थे.

ट्रेन सिर्फ दो मिनट के लिए एक स्टॉपेज पर रुकी थी. इस स्टॉपेज के बारे में पहले से ही जानकारी थी. वीडियो में ट्रेन पर चढ़ते दिख रहे व्यक्ति अजीत कुमार हैं.

viral video 2

रेलवे के प्रवक्ता ने बताया दावे का सच

रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने बताया, इनक्वायरी में सामने आया कि अजित कुमार को नाश्ता लेना था. उन्हें पहले के स्टेशन पर नाश्ता नहीं मिल पाया था, इसलिए उन्होंने 2 मिनट में अपना सामान लिया. मामला सामने आने के बाद उनकी कांउसलिंग भी की गई और चेतावनी भी दी गई की इस तरह का काम दोबारा ना हो.

viral video

एबीपी न्यूज़ की पड़ताल में वीडियो तो सच है लेकिन मछली खरीदने के लिए ड्राइवर के ट्रेन रोक देने का दावा झूठा साबित हुआ है.

यहां देखें वीडियो-

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गुजरात/हिमाचल प्रदेश चुनावः हार के बाद राहुल गांधी ने तोड़ी चुप्पी, कहा- मैं निराश नहीं