Viral sach of Iron in gold jewellery जानें- सोने के गहनों में छिपे लोहे का वायरल सच

जानें- सोने के गहनों में छिपे लोहे का वायरल सच

वीडियो के साथ एक संदेश में लिखा है, ‘’ये चारों वीडियों कुवैत में भारत के कल्याण ज्वैलर्स की दुकान के हैं.’’

By: | Updated: 23 Nov 2017 10:34 PM
Viral sach of Iron in gold jewellery
नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. ये वीडियो सोने (गोल्ड) के बारे में हैरान करने वाला दावा कर रहा है. इस वीडियो के जरिए गहना व्यापार की एक प्रतिष्ठित कंपनी पर सवाल उठाए जा रहे हैं. कहा जा रहा है कि शुद्ध सोने के नाम पर ग्राहकों को लोहे की मिलावट वाले सोने के गहने दिए जा रहे हैं.

आखिर क्या है पूरी कहानी?

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे कुल चार वीडियो के जरिए दावा किया जा रहा है कि 100 प्रतिशत शुद्ध सोने के गहनों का वादा करने वाली बड़ी कंपनियां आपको लोहे की मिलावट वाला गहना दे रही हैं और सोने से बनाए गए कई गहनें में फिलिंग यानि भराव के तौर पर लोहे का इस्तेमाल किया गया है.

इन चारों वीडियो के साथ एक संदेश में लिखा है, ‘’ये चारों वीडियों कुवैत में भारत के कल्याण ज्वैलर्स की दुकान के हैं.’’ हालांकि कल्याण ज्वैलर्स का नाम वीडियो के साथ चल रहे सोशल मीडिया संदेश में है, वीडियो में नहीं.


सोने में लोहा मिलाना नामुमकिन- गहनों के व्यापारी

जब सोने के गहनों के व्यापारी कुमार जैन से पूछा गया कि क्या ये मुमकिन है कि सोने के गहनों में लोहे का इस्तेमाल फिलिंग या सहायक धातु के रुप में किया जा सके? तो उन्होंने बताया, ‘’सोने का मेल्टिंग पवाइंट 1200 होता है, जबकि लोहे का मेल्टिंग पवाइंट 300-400 है. ऐसे में जब चेन के एक टुकड़े को दूसरे से जोड़ने जाएंगे तो लोहा तुरंत गल जाएगा, इसलिए सोने में लोहा मिलाना संभव नहीं है और ना ही ऐसे में चेन बन पाएगी.’’

कुमार जैन ने ये भी साफ किया कि कोई जेवैलर ऐसा करना भी चाहे तो नहीं कर सकता, क्योंकि सरकार ने उपभोक्ताओं के हितों को ध्यान में रखकर कई मानक बनाए हैं. जैन ने कहा कि कल्याण ज्वैलर्स गहनों के विक्रेताओं के रुप में एक स्थापित नाम है. आखिर कोई अपनी ही साख और नाम से खिलवाड़ क्यों करेगा.

कल्याण ज्वैलर्स ने खारिज किए सभी दावे

वहीं, कल्याण ज्वैलर्स के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर टी.एस कल्याणरमन ने लिखित स्पष्टीकरण देकर सभी दावों पर विराम लगा दिया. कल्याण ज्वैलर्स की तरफ से जारी स्पष्टीकरण में लिखा है-

‘’कल्याण ज्वेलर्स भारत और खाड़ी के देशों में एक प्रतिष्ठित और भरोसेमंद ब्रांड है. हमारे शोरूम में मौजूद सारी चीजें भारत में बीआईएस और मध्य पूर्व के भी सरकारी अधिकरण से पूरी शुद्धता जांच की होती है. पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर हमारे कुवैत के शोरूम में सोने की क्वालिटी पर सवाल खड़ा करते हुए एक वीडियो फैलाया जा रहा है. रेगुलेटरी अथॉरिटी के प्रतिनिधि समय समय पर ज्वेलरी शोरूम जाकर क्वालिटी चेक भी करते हैं. हमारे शोरूम में नकली सोने का दावा करते हुए जो वीडियो फैलाया जा रहा है वो बहुत ही गलत है.’’

viral 03

क्या है शुद्धता मानक यानि हॉलमार्क?

आपको बता दें कि सरकार ने ग्राहकों को किसी भी तरह के धोखे से बचाने के लिए शुद्धता मानक यानि हॉलमार्क जारी किया है. अगर आप कभी भी कहीं भी आभूषण खरीदने पहुंचते हैं तो हॉलमार्क देखने के बाद ही खरीदें, क्योंकि हॉलमार्क का ये निशान शुद्धता की पहचान है.

झूठे हैं गहनों में छिपे लोहे का दावा करने वाले वीडियो

ABP न्यूज की पड़ताल में सामने आया कि सोने के गहनों में किसी भी तरह से लोहे की मिलावट नहीं की जा सकती. कल्याण ज्वैलर्स के नाम से प्रचारित किये जा रहे इस वीडियो का कल्याण ज्वैलर्स से कोई संबंध नहीं है.  गहनों में सरकार के तय किए मानक के अनुसार हॉलमार्किंग की जाती है, इस हॉलमार्किंग में किसी भी तरह की मिलावट निकलने पर सजा का प्रावधान है.

viral 04

हमारी पड़ताल में सोने के गहनों में छिपे लोहे का दावा करने वाला वीडियो झूठा साबित हुआ है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Viral sach of Iron in gold jewellery
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पंजाब नगर निकाय चुनाव में कांग्रेस ने मारी बाजी, बीजेपी की बड़ी हार