आखिर व्यापम घोटाले से जुड़े लोगों की जान क्यों जा रही है?

By: | Last Updated: Monday, 29 June 2015 12:38 PM
vyapam scam

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के व्यापम घोटाले के दो आरोपियों की 24 घंटे में मौत हो गई. एक के बाद एक व्यापम घोटाले से जुड़े 34 लोगों की मौत हो चुकी है. बड़ा सवाल ये है कि आखिर घोटाले से जुड़े लोगों की जान क्यों जा रही है? मध्य प्रदेश के गृह मंत्री बाबू लाल गौर ने कहा कि मौत पर किसी का बस नहीं चलता है.

व्यापम घोटाले के आरोपियों की संदिग्ध मौत के बाद शिवराज सरकार के खिलाफ कांग्रेस ने प्रदर्शन किया. चौबीस घंटे में इस केस के दो आरोपियों की मौत हो चुकी है. सरकार सवालों के घरे में हैं. लेकिन मध्य प्रदेश के गृह मंत्री बाबूलाल गौर कह रहे हैं कि मौत पर किसी का बस नहीं है.

 

रविवार सुबह व्यापम घोटाले के आरोपी डॉक्टर राजेंद्र आर्या की ग्वालियर के बिरला अस्पताल में मौत हो गई . सागर के मेडिकल कॉलेज में प्रोफ़ेसर रहे राजेंद्र पर 2009 में दो लोगों को पीएमटी में भर्ती कराने का आरोप था .

 

इससे पहले शनिवार को भी आरोपी डॉक्टर नरेंद्र तोमर की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी. नरेंद्र तोमर चार महीने से इंदौर की जेल में थे. संदिग्ध मौतों पर कांग्रेस पूछ रही है कि मुख्यमंत्री कितने और लोगों को मरता देखना चाह रहे हैं.

 

सरकारी नौकरी और मेडिकल कॉलेज की भर्तियों में घोटाला हुआ था. इस घोटाले में अब तक 55 मामले दर्ज किए जा चुके हैं जिनमें 2530 से ज्यादा आरोपी हैं. . 1980 आरोपी गिरफ्तार हैं जबकि 550 फरार हैं.

 

व्यापम की जांच पर निगरानी के लिए बनी एसआईटी के प्रमुख जस्टिस चंद्रेश भूषण ने पिछले दिनों बताया था कि इस केस में 32 आरोपियों की मौत हो चुकी है. 24 घंटे में हुई इन दो आरोपियों की मौत के बाद अब आंकडा 34 का हो गया है. जबकि कांग्रेस का दावा है कि अब तक घोटाले से जुड़े 41 लोगों की मौत हो चुकी है . कांग्रेस की मांग है कि जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एसआईटी बनाई जानी चाहिए .

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: vyapam scam
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Congress Vyapam Scam
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017