व्यापम घोटाला: CBI ने नम्रता की मौत को हत्या माना, 3 FIR दर्ज

By: | Last Updated: Friday, 17 July 2015 3:59 PM
Vyapam_

भोपाल: मध्य प्रदेश के व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापम) घोटाले की जांच कर रहे केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने शुक्रवार को विभिन्न मामलों में तीन FIR दर्ज की.

 

CBI ने नम्रता डामोर की संदिग्ध मौत को हत्या मानते हुए प्रकरण दर्ज कर लिया है. इस बीच पत्रकार अक्षय सिंह की मौत की केस डायरी भी CBI के पास पहुंच गई है. तीन नई FIR के बाद व्यापम घोटाले में CBI द्वारा दर्ज FIR की संख्या अब आठ हो गई है. वहीं CBI द्वारा प्रकरण दर्ज किए जाने के बाद बीजेपी ने गुलाब सिंह किरार को पार्टी से निलंबित कर दिया है.

 

CBI सूत्रों के अनुसार, गुरुवार रात नम्रता की केस डायरी CBI के पास आ गई थी और शुक्रवार को नम्रता की मौत को हत्या मानते हुए CBI ने धारा 302 के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया. अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज किया गया है.

 

इसके अलावा पीएमटी (प्री मेडिकल टेस्ट) 2010 को लेकर दो प्रकरण दर्ज किए गए हैं. पीएमटी के मामले में कुल 12 को आरोपी बनाया गया है.

 

इस बीच झाबुआ के एसपी आबिद खान ने बताया कि मृत पत्रकार अक्षय सिंह की केस डायरी CBI को भेज दी गई है.

 

अक्षय सिंह की झाबुआ के मेघनगर में नम्रता डामोर प्रकरण की रिपोर्टिग के समय रहस्यमय स्थितियों में मौत हो गई थी. CBI ने पांच मौतों को संदिग्ध मानते हुए पुलिस से ब्योरा मांगा था.

 

व्यापम घोटाले में नम्रता डामोर की मौत का मामला सबसे सनसनीखेज रहा है.

 

पुलिस सूत्रों के अनुसार, इंदौर के महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज की एमबीबीएस द्वितीय वर्ष की छात्रा नम्रता का शव सात जनवरी 2012 को उज्जैन जिले के कायथा के समीप शिवपुरा-भेरुपुर रेलवे लाइन पर मिला था. वह इंदौर-बिलासपुर ट्रेन से जबलपुर जा रही थी.

 

सूत्रों के अनुसार, शव मिलने के 22 दिनों बाद नम्रता के भाई दीपेंद्र ने उसकी शिनाख्त की थी. तब पोस्टमार्टम में मौत की वजह मुंह, नाक व गला दबाना बताया गया था और पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या का प्रकरण भी दर्ज किया था. बाद में दूसरी जांच में दिसंबर 2012 में इस मामले को हादसा करार देते हुए प्रकरण खत्म कर दिया गया.

 

नम्रता के शव का पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सक डॉ. बी. बी. पुरोहित ने इसी माह (जुलाई 2015) मीडिया के सामने खुलासा किया कि नम्रता की मौत हादसा नहीं था, बल्कि नाक, मुंह दबाकर उसकी हत्या की गई थी.

 

इसके बाद यह मामला एक बार फिर सुर्खियों में आया. CBI ने डामोर सहित पांच संदिग्ध मौतों का ब्योरा पुलिस से मांगा था.

 

CBI ने मंगलवार को पांच FIR दर्ज की थी, जिनमें 160 लोगों को आरोपी बनाया गया था. अब तीन और FIR दर्ज हो गई है. इनमें 12 आरोपी हैं. इस तरह कुल आठ FIR में 172 आरोपी बनाए जा चुके हैं.

 

इस बीच, बीजेपी ने गुलाब सिंह किरार को पार्टी से निलंबित कर दिया है. किरार के खिलाफ CBI ने मंगलवार को प्रकरण दर्ज किया था. किरार पर एसटीएफ भी पहले प्रकरण दर्ज कर चुका है. किरार का बेटा भी आरोपी है, और दोनों फरार चल रहे हैं.

 

सुप्रीम कोर्ट ने नौ जुलाई को व्यापम मामला CBI को सौंप दिया था. CBI ने 13 जुलाई को भोपाल पहुंचकर जांच शुरू कर दी. CBI अब तक जांच कर रहे एसटीएफ और जिलास्तरीय पुलिस की एसआईटी के साथ कई दौर की बैठकें कर चुकी है. एसटीएफ और एसआईटी ने CBI को कई महत्वपूर्ण दस्तावेज भी सौंपे हैं.

 

सूत्रों के अनुसार, अभी तक जांच कर रहे एसटीएफ ने व्यापम घोटाले में कुल 55 प्रकरण दर्ज किए गए थे. इन मामलों में 2100 आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है, वहीं 491 आरोपी अब भी फरार हैं. जांच के दौरान 48 लोगों की मौत हो चुकी है. एसटीएफ इस मामले के 1200 आरोपियों के चालान भी पेश कर चुका है.

 

व्यापम घोटाले का खुलासा जुलाई 2013 में हुआ था. जांच का जिम्मा अगस्त 2013 में एसटीएफ को सौंपा गया. हाई कोर्ट ने जांच की निगरानी के लिए पूर्व जज चंद्रेश भूषण की अध्यक्षता में अप्रैल 2014 में एसआईटी बनाई. अब मामला सीबीआई के पास है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Vyapam_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: CBI FIR Vyapam
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017