मौसम की मार से संतरे भी बेकार!

By: | Last Updated: Sunday, 12 April 2015 1:53 PM
weather_orange

आगर: मध्य प्रदेश के आगर-मालवा जिले के किसान संतरे की अच्छी पैदावार से हर साल उत्साहित रहते थे, मगर इस बार बेमौसमी बारिश ने संतरे की फसल भी बेकार कर दी. संतरे अपनी रंगत में नहीं आ पाए, इसलिए खरीदार नहीं मिल रहे हैं. मायूस किसान सैकड़ों क्विंटल संतरे सड़कों पर फेंक रहे हैं.

 

आगर-मालवा जिले की संतरा उत्पादक क्षेत्र के तौर पर देश में पहचान है. यहां का संतरा देश के अन्य स्थानों के साथ बांग्लादेश तक जाता है. इस बार किसानों की उम्मीदों पर बेमौसम बारिश विपदा बनकर आई है. पेड़ों पर फल खूब आए, मगर पकने से पहले ही झड़ गए, जो बचे वे पूरी तरह अपनी रंगत में नहीं आ पाए.

 

किसान जगदीश चौहान अपने खेत का जिक्र करते हुए बताते हैं कि उनके खेत में संतरे के आठ सौ से ज्यादा पेड़ हैं, सभी पर फल खूब आए, मगर फल समय पर पक नहीं पाए. अब खरीदार नहीं मिल रहा है, जो दाम लगाए जा रहे हैं, उससे तो भाड़ा तक नहीं निकल पा रहा है.

 

किसान लक्ष्मी नारायण संतरे की खेती का जिक्र आते ही उदास हो जाते हैं. कहते हैं, “क्या बताऊं, मौसम की मार ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया. मंडी में आढ़ती कहता है, एक रुपये किलो के भाव से देना है तो दे दो. अब आप ही बताइए, इस रेट में तो मंडी तक ले जाने का भाड़ा भी नहीं निकलेगा. लागत, मेहनत सब बेकार गई. अब गुजारा कैसे चलेगा?”

 

उद्यानिकी विभाग (हॉर्टीकल्चर) के सुपरवाइजर ए.एल. चौहान ने आईएएनएस को बताया कि आगर-मालवा में लगभग 38 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में संतरे की खेती होती है और तीस हजार किसान इस काम में लगे हैं. इस बार फसल अच्छी आने की संभावना थी, मगर बेमौसम बारिश और ओलों से भारी नुकसान पहुंचा है.

 

चौहान के अनुसार, इस बार दोगुना तक पैदावार की संभावना थी, लेकिन मौसम में ठंड का असर ज्यादा लंबा खिंचने के कारण फल पकने में ज्यादा समय लगा. आधे से ज्यादा फल तो पकने से पहले ही गिर गए. जो बचे उनका भी पूरी तरह विकास नहीं हो पाया.

 

संतरा कारोबारी आतिफ ने बताया कि आगर का संतरा बांग्लादेश तक जाता है, मगर भारत सरकार ने जहां निर्यात शुल्क बढ़ाया है, वहीं बांग्लादेश ने आयात शुल्क में बढ़ोतरी कर दी है. इसके चलते भरपूर मात्रा में संतरा बांग्लादेश नहीं जा पा रहे हैं. वहीं मौसम की मार ने फसल को भी प्रभावित कर दिया है, जिससे संतरे का आकर्षण कम हो गया है.

 

कई पीढ़ियों से संतरे की खेती करते आ रहे दुर्गा पालीवाल ने आईएएनएस को बताया, “मौसम ने आधी फसल निगल ली. जो बची है उसके सही दाम नहीं मिल रहे हैं. बड़ा व्यापारी भी सात रुपये किलो से ज्यादा दाम देने को राजी नहीं है.”

 

खरीदारों द्वारा कम कीमत पर संतरा खरीदने की वजह केंद्र सरकार द्वारा निर्यात शुल्क बढ़ाना है. निर्यात शुल्क को दो सौ रुपये पेटी (20 किलो) से बढ़ाकर नौ सौ रुपये कर दिया है, कारोबारी तो इस बढ़े शुल्क की भरपाई करेगा नहीं, लिहाजा सारा बोझ किसान पर आन पड़ा है. यही कारण है कि व्यापारी किसान से ही कम दाम पर संतरे ले रहा है.

 

पालीवाल बताते हैं कि पिछले वर्षो में प्रतिदिन दो सौ से तीन सौ ट्रक संतरा आगर मालवा से बाहर जाता था, मगर इस बार ऐसा नहीं है. मुश्किल से सौ से डेढ़ सौ ट्रक संतरा ही प्रतिदिन बाहर जा पा रहा है. इसके बावजूद किसान के हिस्से में कुछ नहीं आ रहा है.

 

आगर-मालवा के कई हिस्सों की सड़कों के किनारे इन दिनों छोटे संतरों के ढेर आसानी से देखे जा सकते हैं. किसान कहते हैं कि भाड़े की रकम वह अपनी जेब से नहीं दे सकते. मंडी ले जाने से अच्छा है, यहीं निपटा दिया जाए.

 

मौसम की मार ने किसानों को आंसू बहाने को मजबूर कर दिया है. प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने फलों की फसलों के नुकसान पर भी मुआवजे का ऐलान किया है, सर्वेक्षण कार्य पूरा हो चुका है. किसानों को राहत राशि आने का बेसब्री से इंतजार है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: weather_orange
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: India madhya pradesh orange weather
First Published:

Related Stories

एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!
एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!

रायपुर: एबीपी न्यूज की खबर का असर हुआ है. छत्तीसगढ़ में गोशाला चलाने वाले बीजेपी नेता हरीश...

जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच
जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच

नई दिल्लीः आजकल सोशल मीडिया पर एक टीचर की वायरल तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि वो अपनी...

19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और पुलिस
19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और...

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 19 अगस्त को यूपी के गोरखपुर जिले के दौरे पर रहेंगे. राहुल...

नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी
नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी

सिद्धार्थनगर/बलरामपुर/गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को...

पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश की
पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा से...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. डोकलाम विवाद के बीच पीएम नरेंद्र मोदी का चीन जाना तय हो गया है. ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के लिए...

सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन
सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन

मथुरा: यूपी के शिक्षामित्र फिर से आंदोलन के रास्ते पर चल पड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...

बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान
बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली: असम, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से भारतीय रेल को पिछले सात...

डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे बातचीत
डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे...

नई दिल्ली: बॉर्डर पर चीन से तनातनी और नेपाल में आई बाढ़ को लेकर शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने...

15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी सरकार ने मंगवाए वीडियो
15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी...

लखनऊ: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर योगी सरकार ने राज्य के सभी मदरसों में राष्ट्रगान गाए जाने का...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017