रायबरेली रेल हादसे की क्या थी वजह?

By: | Last Updated: Wednesday, 25 March 2015 3:14 AM
What really caused the train disaster in Uttar Pradesh?

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में भीषण रेल हादसे के तीन दिनों बाद भी यह साफ नहीं हो पाया है कि किन वजहों से यह हादसा हुआ. देहरादून से वाराणसी जा रही जनता एक्सप्रेस रायबरेली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी, जिसमें 38 लोगों की मौत हो गई थी.

 

रेलवे सूत्रों ने कहा कि रायबरेली जिले में 20 मार्च को रेलगाड़ी के पटरी से उतरने के मामले की प्राथमिक जांच में कई पहलू सामने आए हैं.

 

वाराणसी जा रही जनता एक्सप्रेस के तीन डिब्बे बछरांवा रेलवे स्टेशन के पास पटरी से उतर गए थे. इस दुर्घटना में 38 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि दर्जनों लोग घायल हो गए थे. रेलगाड़ी उत्तराखंड के देहरादून से अपने गंतव्य के लिए चली थी.

 

नाम जाहिर न करने की शर्त पर बात करते हुए कुछ अधिकारियों ने कहा कि प्राथमिक जांच में उन सवारी डिब्बों के घटिया रखरखाव के बारे में भी खुलासा हुआ जो पटरी से उतरे थे.

 

उत्तर रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि इस दुर्घटना ने पूरी प्रणाली की पोल खोलकर रख दी है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि रेलगाड़ी के डिब्बे 25 साल पुराने थे.

 

अधिकारी ने कहा, “पटरी से उतरने वाले एक डिब्बे के रखरखाव का काम इस साल दो जनवरी को किया जाना था, जो कि नहीं किया गया.”

 

विशेष रूप से इस डिब्बे ने ज्यादा दवाब सहन कर लिया था और दुर्घटना में 69 फीट की लंबाई का यह डिब्बा क्षतिग्रस्त होकर 10 फीट का रह गया था.

 

सूत्र ने कहा, “हादसे के दिन रेलगाड़ी के इंजन में लगे चारों ब्रेक उन दिन काम नहीं कर रहे थे. साथ ही गार्ड वैक्यूम ब्रेक भी फेल हो गए थे, जिस कारण यह दुर्घटना हुई.”

 

रेलगाड़ी के चालक, सहचालक और गार्ड तीनों इस हादसे में घायल हो गए थे. उन्हें रविवार को रेलवे के अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.

 

चालक पारसनाथ मिश्रा का दावा है कि उन्होंने रेलगाड़ी के गार्ड ए.के. गुप्ता को ब्रेक फेल होने की सूचना वॉकी-टॉकी पर दी थी, लेकिन गुप्ता ने पारसनाथ के दावे को खारिज किया है. बछरांवा स्टेशन के अधिकारियों ने कहा कि दुर्घटना से पहले दोनों में से किसी भी अधिकारी ने ब्रेक फेल होने के बारे में कुछ भी नहीं बताया था.

 

दुर्घटना के ठीक बाद रेलवे अधिकारियों ने कहा था कि दुर्घटना के लिए प्रथम दृष्टया रेलगाड़ी का चालक दोषी है. चालक पर आरोप लगाया गया था कि उसने बछरांवा रेलवे स्टेशन पर रेलगाड़ी नहीं रोकी और अचानक उसे समानांतर पटरी पर मोड़ दिया.

 

लेकिन कुछ अधिकारियों का कहना है कि ड्राइवर ने सही कदम उठाया था, क्योंकि उसी पटरी पर सामने से एक दूसरी रेलगाड़ी आ रही थी. अधिकारियों ने कहा कि अगर चालक रेलगाड़ी को समानांतर पटरी की ओर नहीं मोड़ता तो दोनों ट्रेनों में आमने-सामने की टक्कर हो सकती थी.

 

लेकिन अगर यह सच है तो किसकी गलती है, उस चालक की, जिसकी रेलगाड़ी पटरी से उतर गई या उस रेलगाड़ी के चालक की जो कि दूसरी ओर से आ रही थी. इस मामले में हालांकि सवाल को बहुत हैं, लेकिन जवाब कुछ के ही मिले हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: What really caused the train disaster in Uttar Pradesh?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017