बड़ा सवाल: निर्भया के गुनहगार की रिहाई का जिम्मेदार कौन है?

By: | Last Updated: Sunday, 20 December 2015 8:14 PM
Who is responsible for minor convict release?

नई दिल्ली: दिल्ली के निर्भया गैंगरेप कांड के नाबालिग दोषी की आज रिहाई है. बीती रात रिहाई रुकवाने के लिए दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया लेकिन रिहाई नहीं रुकी. वहीं निर्भया की मां ने स्वाति मालीवाल की नीयत पर ही सवाल उठा दिए हैं.

सवाल उठ रहे हैं कि क्या निर्भया केस में राजनीति हो रही है. निर्भया के गुनहगार की रिहाई का जिम्मेदार कौन है?

निर्भया का गुनहगार नाबालिग दोषी आजाद ना हो इसके लिए देशभर में लोगों ने सड़क पर उतरकर अपने विरोध की आवाज बुलंद की.

नाबालिगों के अपराध के लिए बने कानून के मुताबिक दिल्ली के निर्भया गैंगरेप के नाबालिग आरोपी को बाल सुधार गृह भेजा गया था जिसकी मियाद आज खत्म हो गई. मतलब ये कि नाबालिग मुजरिम अब आजाद है.

लेकिन रिहाई से पहले बीती रात चार घंटे तक बड़ा ड्रामा हुआ. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने आधी रात को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के यहां विशेष अनुमति याचिका दायर कर नाबालिग दोषी की रिहाई रोकने की मांग की.

इसके बाद आधी रात में ही चीफ जस्टिस ने दिल्ली महिला आयोग की याचिका को जस्टिस आर्दश कुमार गोयल और जस्टिस उदय ललित की वेकेशन बेंच के पास भेज दिया, लेकिन वेकेशन बेंच ने मामले पर तुरंत सुनवाई करने के बजाए सोमवार को सुनवाई करने का फैसला किया.

हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने नाबालिग की रिहाई पर कोई रोक नहीं लगाई है.

आधी रात हुई इस हलचल के बाद निर्भया के परिवार का सवाल है कि कल सुनवाई से क्या होगा.

निर्भया की मां का कहना है कि कि कोर्ट जाना ही था तो दिन में जाती. नाबालिग रिहा हो ही जाएगा तो सोमवार को सुनवाई से क्या मिलेगा.
निर्भया के परिवार के आरोपों पर स्वाति ने कहा है कि उन्होंने नाटक नहीं किया, सिर्फ ईमानदार कोशिश की है.

वहीं स्वाति मालीवाल ने केजरीवाल सरकार और दिल्ली पुलिस से सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक नाबालिग की रिहाई रोकने की मांग की है. साथ ही जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड को भी चिट्ठी लिखकर रिहाई रोकने की अपील की है.

रिहाई से पहले नाबालिग दोषी को बाल सुधार गृह से किसी एनजीओ में शिफ्ट किया गया है. नाबालिग की रिहाई जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के आदेश पर हो रही है.

उधर, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने निर्भया के नाबालिग दोषी पर चुप्पी और असहनशीलता पर आवाज उठाने वालों पर निशाना साधा है. कैलाश विजय वर्गीय ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि “निर्भया के क्रूर हत्यारे की रिहाई पर क्यों मौन है अवार्ड वापसी गिरोह? अब उनकी आत्मा मर गई है या कोई चुनाव नहीं चल रहा है? देश जवाब चाहता है.

16 दिसंबर 2012 को दक्षिण दिल्ली में चलती बस में 6 लोगों ने निर्भया के साथ गैंगरेप किया था जिसमें नाबालिग भी शामिल था. नाबालिग को मौजूदा कानून के मुताबिक तीन साल के लिए बाल सुधार गृह भेजा गया था और अब उसकी सजा की मियाद पूरी हो चुकी है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Who is responsible for minor convict release?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017