राम मंदिर आंदोलन को दर-दर तक पहुंचे वाले नेता थे अशोक सिंघल

By: | Last Updated: Tuesday, 17 November 2015 10:15 AM

नई दिल्ली :  विश्व हिंदू परिषद के नेता अशोक सिघल का निधन हो गया है. गुड़गांव के मेदांता-द मेडिसिटी अस्पताल में उन्होंने मंगलवार दोपहर 2.34 मिनट पर आखिरी सांस ली. अशोक सिंघल 89 साल थे.

कौन थे अशोक सिंघल?

 

राम जन्मभूमि विवाद को अयोध्या आंदोलन में तब्दील करने में जिस शख्स ने सबसे बड़ी भूमिका निभाई वो थे अशोक सिंघल. हालांकि अशोक सिंघल अपना 90 वां जन्मदिन नहीं मना सके.

 

90 के दशक में जो रामजन्म भूमि विवाद अयोध्या तक सीमित था उसे पूरे देश तक अशोक सिंघल ने पहुंचाया था. राम जन्मभूमि मामले को आंदोलन का शक्ल देने में वीएचपी नेता अशोक सिंघल की बड़ी भूमिका थी. वीएचपी का रामजन्म आंदोलन तब राजनीतिक रंग ले लिया था जब बीजेपी के दिग्गज लाल कृष्ण आडवाणी ने अयोध्या की विवादास्पद जगह पर राम मंदिर बनाने की मांग को लेकर रथ यात्रा पर निकलने का फैसला लिया था.

 

सिंघल के समय ही राम मंदिर आंदोलन का पूरे देश में विस्तार हुआ था. 1989 में आयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास के बाद अशोक सिंघल ने कहा था कि “यह मात्र एक मंदिर का नहीं, हिंदू राष्ट्र का शिलान्यास है.”

 

इसके बाद हिन्दू कार्यकर्ताओं ने 1992 में विवादास्पद बाबरी मस्जिद को ढहा दिया था.

 

आरएसएस में करीब 40 साल तक काम करने के बाद अशोक सिंघल 1980 में विश्व हिन्दू परिषद के महासचिव बनाए गए थे. 1981 का साल था. तमिलनाडु के मीनाक्षीपुरम की एक घटना ने अशोक सिंघल के कामकाज के तरीके को बदल कर रख दिया. मीनाक्षीपुरम में ऊंची जातियों के व्यवहार से तंग आकर 400 दलितों ने इस्लाम धर्म अपना लिया. धर्म बदलने वालों की सबसे बड़ी शिकायत ये थी कि उन्हें मंदिरों में प्रवेश करने नहीं दिया जाता है. वीएचपी ने काफी समय में दलितों के लिए 200 से ज्यादा मंदिरों का निर्माण कराया. कहा जाता है कि मंदिर बनवाने में अशोक सिंघल ने बड़ी भूमिका निभाई.

 

मीनाक्षीपुरम की घटना का असर अशोक सिंघल पर बाकी था. 1984 में विश्व हिन्दू परिषद ने दिल्ली के विज्ञान भवन में धर्म संसद का आयोजन किया था. दिल्ली के विज्ञान भवन में हुए कार्यक्रम में ही अयोध्या आंदोलन का बीज बोया गया था. अशोक सिंघल अब दुनिया भर में हिन्दुत्व के प्रचार प्रसार में जुट गए. सिंघल के वीचपी प्रमुख रहते हुए दुनिया भर में विश्व हिन्दू परिषद का संगठन मजबूत हुआ.

 

अशोक सिंघल लगातार अयोध्या आंदोलन से जुड़े रहे. बीजेपी ने भी राममंदिर निर्माण का समर्थन किया था लेकिन यह भी दावा किया था कि वह संविधान के दायरे के भीतर सारी संभावनाओं को तलाश करने के बाद ऐसा करेगी. यह मामला इस समय सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है. अशोक सिंघल अपने बेबाक कट्टर बयानों के लिए जाने जाते थे. मुस्लिमों को लेकर दिये गए उनके बयानों पर अक्सर विवाद होता रहता था.

 

अशोक सिंघल का  जन्म 1926  को आगरा में एक बड़े परिवार में हुआ था. इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद वो पूरी तरह से संघ से जुड़ गए थे. उन्होंने बाकयदा संगीत की शिक्षा भी ली थी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Who is VHP leader ashok singhal?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017